एक्सक्लूसिव BHARAT SAMACHAR: अरे नहीं पूरी मदद करेंगे आपकी आप जो बोलेंगे करा देंगे

BHARAT SAMACHAR: अरे नहीं पूरी मदद करेंगे आपकी आप जो बोलेंगे करा देंगे

बृजेश मिश्रा, एडिटर इन चीफ,“इस समय जिस तरह से चल रहा है देश ये देश को जरूरत है इस तरह से चलने की”


कोबरापोस्ट - May 25, 2018

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

आशीष आनंद, मार्केटिंग एंड सेल्स हेड; बृजेश मिश्रा, एडिटर इन चीफ और मालिक, भारत समाचार टीवी न्यूज़ चैनल, लखनऊ

भारत समाचार टीवी ईटीवी उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड के पूर्व एडिटर-इन-चीफ ब्रजेश मिश्रा ने एक साल पहले ही लॉन्च किया था। ये चैनल उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड में राजनीतिक और करंट अफेयर्स पर कार्यक्रमों का प्रसारण करता है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से यूपी टेलीविजन प्राइवेट लिमिटेड अपने कार्यक्रमों का प्रसारण करता है। चैनल के वाराणसी, इलाहाबाद, कानपुर, मेरठ, नोएडा और आगरा में ब्यूरो हैं।

यहां, पुष्प शर्मा ने Marketing and Sales Head आशीष आनंद से मुलाकात की। हमेशा की तरह, वह उन्हें बताते हैं कि उनके मीडिया अभियान के पहले तीन महीने भगवत गीता और भगवान कृष्ण के प्रचार से सॉफ्ट हिंदुत्व पर ध्यान केंद्रित करेंगे, जो मतदाताओं को उनके धर्म का समर्थन करने के लिए अपील करते हैं। फिर, इस प्रारंभिक चरण के बाद, हमारा अभियान चुनाव के दौरान राजनीतिक परिदृश्य को ध्रुवीकरण करने के लिए घूम जाएगा। ताकि हमारी पार्टी अभियान से राजनीतिक लाभ उठा सके। इसपर आनंद "हूं" कहकर जवाब देते हैं।

पुष्प अब इन्हें उमा भारती, विनय कटियार और मोहन भागवत जैसे फायरब्रांड हिंदुत्व नेताओं से संबंधित भाषणों और कार्यक्रमों को बढ़ावा देने के लिए कहते हैं। भारत समाचार के मार्केटिंग हेड पुष्प को आश्वस्त कराते हुए कहते हैं कि कोई दिक्कत नहीं है उसकी जब भी होगी ना तो हमारे digital platform पर वो show upload हो जाएगा

आगे पुष्प आनंद से कहते है कि वो उन्हें 28 मिनट लंबी एक वीडियो देंगे जो स्वतंत्र भारत के इतिहास से जुड़ी 7 बड़ी घटनाओं पर आधारित होगी। जैसे 1965 और 1971 की लड़ाई, 1989 में मंडल आयोग की सिफारिशों के कार्यान्वयन के चलते राजीव गोस्वामी ने उन्मूलन बोली, अयोध्या आंदोलन, 13 दिन की वाजपेयी सरकार का गिरना, 2002 में गोधरा दंगे और आखिर में मोदी का राष्ट्रीय दृश्य में आना। बाद में पुष्प आनंद को कहते हैं कि इन पैकेज से यह स्पष्ट ना हो कि आप अत्यधिक पक्षपातपूर्ण हैं।

पुष्प इन्हें बताते हैं कि इन 3 मिनट के लंबे वीडियो के अलावा हमारे पास पप्पू और बहन जी पर जिंगल्स हैं। आपको पप्पू और बहनजी और उनकी पार्टियों कांग्रेस, बीएसपी और एसपी जैसे प्रतिद्वंदियों के खिलाफ इस तरह की कंटेट बनाना और चलाना होगा ताकि हम अपने इन प्रतिद्वंदियों को झुका सकें। आनंद पुष्प को कहते हैं कि वो इन जिंगल्स को उनके Whatsapp पर भेज दे। आनंद अपने संभावित ग्राहक यानी पुष्प के एजेंडे के सभी बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए, अपना सिर हिलाकर सहमति जताते हैं।

भारत समाचार के मार्केटिंग एंड सेल्स हेड आनंद के साथ अपने एजेंडे के सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा करने के बाद, पुष्प ने अब उन्हें बताया कि अक्सर आश्रम में दान कैश (cash donation) में आता है, लिहाजा वो पेमेंट में ज्यादातर पैसा कैश के जरिए देना चाहते हैं। आनंद ने सहमति के साथ कहा, "हां, कैश"। आगे आनंद पुष्प को कहते हैं कि उन्हें अपने डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म पर गंगा आरती को live दिखाने में कोई समस्या नहीं है। आनंद ये भी कहते है कि  उमा भारती दीदी और विनय जी का ... भागवत जी का कल्याण जी का इनका जो भी होगा जब भी कहीं कोई statement देंगे वो हम प्लेटफॉर्म पर अपना लगा देंगे

 

इसके बाद आनंद चार हिंदूवादी नेताओं के भाषण का प्रचार करने के लिए भी सहमत हो जाते हैं। अब आनंद पुष्प से पूछते हैं कि अच्छा इसमें आप हमें जो टीवी पर जो हमें न्यूज़ के format जाएं तो उसमें आप हमसे क्या चाह रहे हैं?”

पुष्प कहते हैं कि ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि आप हमें किस तरीके से संपादकीय मदद दे सकते हैं। आनंद आश्वस्त कराते हुए कहते हैं कि जो support हम कर सकें?”

भारत समाचार टीवी के Marketing Head के साथ इस बैठक से यह स्पष्ट था कि वो चैनल हमारे एजेंडे के अनुसार कंटेंट चलाने को तैयार है, यहां तक की हमें  संपादकीय समर्थन देने के लिए भी तैयार है।  पुष्प शर्मा ने एक बार फिर आनंद से उनके लखनऊ कार्यालय में मुलाकात की, आनंद ने यहां खुलासा किया कि उन्होंने एजेंडा पर अपने मालिक ब्रजेश मिश्रा के साथ चर्चा की है और वो इसे जो अपने चैनल पर चलाने के लिए तैयार हो गए हैं। अपने मालिक का जिक्र करते हुए आनंद पुष्प को सूचित करते हैं कि मैंने कल सब discussion कर लिया था उनसे भाई साहब से तो कह रहे थे ठीक है no problem वो ही वाली बात हमारी आपकी वाली

पुष्प आनंद से कहते हैं कि जैसे कि आपने बताया कि आपके मालिक हमारे एजेंडा के साथ सहज हैं जवाब में आनंद कहते हैं कि  हां comfortable थे वो आनंद कहते हैं कि कल मैंने आपका सब सुना था.. jingles वगैरह सब बहुत जबरदस्त था पुष्प इन्हें बतातें है कि इन्हीं की मदद से तो हम अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को खत्म करने की कोशिश करेंगे। आनंद पुष्प द्वारा दी गई जिंगल्स की तारीफ करते हुए कहते हैं कि तरीका भी वही है तरीका यही है इसमें कोई if and but नहीं है  जब पुष्प इन्हें बतातें है कि ऐसे बहुत सारे जिंगल्स एफएम रेडियो पर चलने के लिए तैयार हैं, जवाब में आनंद पुष्प को कहते हैं कि हां नहीं अपन का तो क्या है एकबार सब चीजें fix हो जाएंगी ठीक है तो वो तो आपका आरती है हम करा ही देंगे...लेकिन जो और जो चीज़ें आप हमें बता रहे थे ना तो वो फिर उस हिसाब से plan out करते रहेंगे... main concern तो उसी का है ना

कुछ देर बाद आनंद के मालिक ब्रजेश मिश्रा भी इस मीटिंग में पहुंच जाते हैं। ग्राहक के रूप में पुष्प इन्हें बताते हैं कि सौदा जल्द ही अंतिम रूप दिया जाएगा और ऐसा लगता है कि वो भी हमारे एजेंडा के समर्थक हैं, मिश्रा शक की कोई गुंजाइश ही नहीं छोड़ना चाहते थे लिहाजा वो पुष्प से कहते हैं कि  अरे नहीं पूरी मदद करेंगे आपकी आप जो बोलेंगे करा देंगे ऐसी कोई बात नहीं है.. हम भी चाहते हैं चीजें ठीक रहें.. इस समय जिस तरह से चल रहा है देश ये देश को जरूरत है इस तरह से चलने की क्यों पीछे हम लोग 15-20 सालों से देख रहे थे कि देश और प्रदेश दोनों बहुत ढीला और अनियंत्रित  और बिखरा हुआ चल रहा था बिखरा हुआ सभी क्षेत्र में चाहे वो आर्थिक हो चाहे वो सामाजिक हो चाहे वो राजनीतिक हो सभी क्षेत्र में बिखरा हुआ था अब कम से कम एक विचारधारा की चीज़े चलेंगी देश में और ये रहनी चाहिए ताकि इनका जो vision है देश को क्या positive दे रहा है ये reflect होना चाहिए” 

जो कुछ भी मिश्रा कह रहे हैं उससे साफ जाहिर हो रहा है कि वो एक खास विचारधारा को बढ़ावा देने के लिए है,

आनंद कहते हैं किऔर तो सब बात हो ही गई हैइसके बाद आनंद के मालिक ब्रजेश मिश्रा पुष्प को कहते है कि अच्छा लगा आपसे मिल केऔर इसके लिए बहुत शुक्रियायहां एक ग्राहक के रूप में इनसे बात कर रहे पुष्प इन्हें बताते हैं कि मैने आपके चैनेल के लिए विज्ञापन खर्च 1 करोड़ से बढ़ाकर तीन करोड़ कर दिया है। आनंद कहते हैं कि हां वो तो मैंने आपको भेज दिया

आगे आनंद कहते है कि आपने तो महसूस कर लिया बहुत अच्छा लगा आपसे मिलके  पुष्प इनसे कहते है कि बाकी की बातें मैं आपके सहयोगी से कर लूंगा। मिश्रा पुष्प से कहते है कि हांआप और ये जो निर्णय कर लेंगे हमें स्वीकार है सब

जैसे ही भारत समाचार टीवी के मालिक के साथ यह मीठी और छोटी बैठक खत्म हो गई है, पुष्प आनंद से पूछते हैं कि क्या उन्होंने अपने मालिक के साथ अपने हिंदुत्व एजेंडा थ्रेडबेयर पर चर्चा की थी। जवाब में आनंद कहते हैं कि बता दिया था....सब बता दिया जितना भी लिखा था...उसमें कोई गलत नहीं है पुष्प कहते हैं कि बहुत बढ़िया तो इन्हीं गर्मियों से आप हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को झुकाने का प्रयास शुरू कर दो। इस पर आनंद कहते हैं कि हां वो भी jingle वगैरह सब सुना दिए आपके... हां अब पुष्प आनंद से पूछते हैं कि क्या आपने उनसे पेमेंट को लेकर चर्चा की थी, 60 फीसदी कैश औऱ बाकी 40 फीसदी चैक। क्योंकि हम लोग आपसे सिर्फ उसी राशी का बिल लेंगे जो हम आपको एक नंबर यानी चैक की मदद से देंगे। पुष्प के इस सवाल पर आनंद कहते हैं कि हां...वो निश्चिंत रहिए आगे पुष्प पूछते हैं कि अब बताइए कि पैसा कहां देना होगा। मेरा बंदा आपको पैसा दे जाएगा। आनंद कहते है कि वो कोई दिक्कत नहीं है

अगले ही पल आनंद एक और खुलासा करते हुए कहते हैं कि हम इन सब मामले में बहुत सक्षम हैं बहुत इलेक्शन निकाल दिएअब हम जानते हैं कि टीम भारत समाचार एक पुराना हाथ है और व्यापार की सभी चाल अच्छी तरह से जानता है। इससे पहले कि इनके साथ ये मुलाकात खत्म हो जाती ये पुष्प के सामने एक और कबूलनामा बताते हैं आप अगर ETV में भी बात करेंगे तो वो भी कहेंगे वो ही एक आदमी था बस

यहीं पर आनंद के साथ पुष्प की मीटिंग खत्म हो जाती है। लेकिन आनंद और ब्रजेश के साथ बातचीत में ये साफ हो चुका था कि देश में इस वक्त बिकाऊ मीडिया(paid news) का कारोबार कितने बड़े पैमाने पर चल रहा है। पैसा कमाने के लिए मीडिया हाउसेस पत्रकारिता के पेशे के साथ भी खुली गद्दारी कर रहे हैं।

 

 

 

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

Tags : BHARAT SAMACHAR Operation 136 IICobrapost expose exclusive exclusive coverage Investigative journalism journalist paid news cash for news fourth pillar of democracy reporters Pushp Sharma Media on Sale


Loading...

Operation 136: Part 1

Expose

Thousands of our readers believe that free and independent news can be a public-funded endeavour. Join them and Support Cobrapost »