Friday 18th of October 2019
रोहिंग्या मामले पर बोली आंग सान सू, हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आलोचनाओं से डरने वाले नहीं
दुनिया

रोहिंग्या मामले पर बोली आंग सान सू, हम अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आलोचनाओं से डरने वाले नहीं

aaj tak |
September 19, 2017

म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की ने रोहिंग्या मामले पर दुनिया भर में हो रही आलोचनाओं का कड़ा जवाब देते हुए कहा कि रोहिंग्या आतंकी हमलों में शामिल है



म्यांमार की स्टेट काउंसलर आंग सान सू की ने रोहिंग्या मामले पर दुनिया भर में हो रही आलोचनाओं का कड़ा जवाब देते हुए कहा कि रोहिंग्या आतंकी हमलों में शामिल है और उन्होंने म्यांमार में हमले भी कराए है। सू की ने कहा कि म्यामांर ने रोहिंग्या लोगों को संरक्षण दिया लेकिन नतीजा क्या निकला। हम आलोचनाओं से डरने वाले नहीं। सू की ने कहा कि जो लोग म्यांमार में वापस आना चाहते है, हम उनके लिए रिफ्यूजी वेरिफिकेशन की प्रक्रिया शुरू करेंगे।

रखाइन इलाके में सिर्फ मुसलमान नहीं रहते वहां बौद्धों पर हमले कराए गए। सूकी ने कहा कि हमारे सुरक्षाबल हर हालात और आतंकी खतरे से निपटने में सक्षम है। सू की ने कहा कि रोहिंग्या ने म्यांमार में हमले कराए है। जो लोग पलायन कर रहे है हम उनसे बात करना चाहते है। उन्होंने कहा कि म्यामांर की सामाजिक स्थिति काफी जटिल है। हम जल्द ही हर तरह की समस्या का सामना करेंगे। सरकार शांति की ओर बढ़ने के लिए हरसंभव कदम उठा रही है।

आंग सान सू की बोलीं कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आलोचनाओं से हम डरने वाले नहीं। मैं याद दिलाना चाहूंगी कि हमारी सरकार सिर्फ 18 महीने से सत्ता में है। हम शांति की कोशिशें कर रहे है। हम मानवाधिकार उल्लंघन की निंदा करते है। रखाइन स्टेट में शांति स्थापना के लिए हम हरसंभव कदम उठाएंगे। लेकिन आतंक की गतिविधियों से हम सख्ती के साथ निपटेंगे।

 सू की ने कहा कि हमने रखाइन स्टेट में शांति स्थापित करने के लिए एक केंद्रीय कमेटी बनाई है। इस कमीशन की अगुवाई करने के लिए हमने डॉ. कोफी अन्नान को आमंत्रित किया है। हम इस क्षेत्र में शांति और विकास के लिए काम करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि रोहिंग्या के मुद्दे पर हमारे ऊपर कई तरह के आरोप लगाए गए है, हम सभी आरोपों को सुनेंगे। सू की ने कहा कि जो भी दोषी होगा उसे सजा जरूर दी जाएगी।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »