राज्य पश्चिम बंगाल : श्रद्धा की जीत , ममता की हार

पश्चिम बंगाल : श्रद्धा की जीत , ममता की हार

पश्चिम बंगाल में मूर्ति विसर्जन के मुद्दे पर कलकत्ता हाईकोर्ट के निर्णय से एक तरफ जहां आम जन की श्रद्धा की जीत हुई है, वहीं दूसरी तरफ ममता सरकार को तगड़ा झटका लगा है। 


By Cobrapost.com - September 21, 2017

क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.

पश्चिम बंगाल में मूर्ति विसर्जन के मुद्दे पर कलकत्ता हाईकोर्ट के निर्णय से एक तरफ जहां आम जन की श्रद्धा की जीत हुई है, वहीं दूसरी तरफ ममता सरकार को तगड़ा झटका लगा है। HC ने मूर्ति विसर्जन पर  राज्य सरकार के फैसले को पलटते हुए, मुहर्रम के दिन मूर्ति विसर्जन से रोक को हटा दिया है।

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि पहले की तरह रात 12 बजे तक विसर्जन किया जा सकता है। पुलिस को इसके लिए व्यवस्था करनी होगी। हाईकोर्ट ने पुलिस से कहा है कि वह दोनों कार्यक्रमों के लिए अलग-अलग रूट तैयार करें।

इससे पहले गुरुवार को सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने कहा है कि प्रतिबंध लगाना सबसे आखिरी विकल्प है। कोर्ट ने कहा कि आखिरी विकल्प का इस्तेमाल सबसे पहले क्यों, सरकार को सिलसिलेवार तरीके से कदम उठाने होंगे।

बता दें कि इसके पहले हाईकोर्ट के दखल के बाद ममता बनर्जी सरकार को मूर्ति विजर्सन की तय समय सीमा के फैसले को बदलना पड़ा था। राज्य सरकार ने विजयदशमी के दिन विसर्जन की समय सीमा जो पहले 6 बजे तक निर्धारित कर दी गयी थी, उसे बढ़ाकर रात 10 बजे तक कर दिया गया था।

इसको लेकर यूथ बार एसोसिएशन ऑफ इंडिया ने याचिका दायर की थी। जिसमें कहा गया कि मुख्यमंत्री के ट्विटर अकाउंट के लाखों फॉलोवर है और ये समुदाय विशेष के तुष्टिकरण के लिए बड़े समुदाय के धार्मिक रस्म रिवाज के साथ ठीक नहीं किया जा रहा है। इससे भावनाएं आहत होने के साथ सद्भाव बिगड़ने की भी आशंका है। साथ ही संविधान की धारा 14, 25 और 26 का उल्लंघन भी है।


क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.

Tag : kolkata,west bengal,high court,mamta banerjee,

Loading...

चर्चित खबरें

एक्सक्लूसिव