राज्य पश्चिम बंगाल में विसर्जन को लेकर चल रहे विवाद को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट का फैसला आज

पश्चिम बंगाल में विसर्जन को लेकर चल रहे विवाद को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट का फैसला आज

पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा विसर्जन को लेकर चल रहे विवाद को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट आज फैसला सुनाने वाली है। 


abp news - September 21, 2017

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा विसर्जन को लेकर चल रहे विवाद को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट आज फैसला सुनाने वाली है। यह फैसला सुबह 11 बजे के करीब आने की संभावना है। बुधवार को कलकत्ता हाईकोर्ट ने ममता बनर्जी सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी।

कोर्ट ने सरकार पर तीखी टिप्पणी करते हुए कहा कि, “आप दो समुदायों के बीच दरार पैदा क्यों कर रहे है। दुर्गा पूजन और मुहर्रम को लेकर राज्य में कभी ऐसे स्थिति नहीं बनी है, उन्हें साथ रहने दीजिए।” गौरतलब है कि इसके पहले हाईकोर्ट के दखल के बाद ममता बनर्जी सरकार को मूर्ति विजर्सन की तय समय सीमा के फैसले को बदलना पड़ा था।

राज्य सरकार ने विजयदशमी के दिन विसर्जन की समय सीमा जो पहले 6 बजे तक निर्धारित कर दी गयी थी, उसे बढ़ाकर रात 10 बजे तक कर दिया गया था। विसर्जन पर पाबंदी को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट में ममता बनर्जी के खिलाफ याचिका दायर की गई थी।

दरअसल, याचिका मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के 23 अगस्त को किए गए ट्वीट को केंद्र में रखकर किया गया था। जिसमें दशमी के दिन 6 बजे तक ही विसर्जन की इजाजत दी गई थी, क्योंकि अगले दिन मुहर्रम है। लिहाज़ा, विसर्जन पर रोक लगा दी गई थी और विसर्जन 2 तारीख से किए जाने के आदेश दिए गए थे।

इसको लेकर यूथ बार एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया ने याचिका दायर की थी। जिसमें कहा गया कि मुख्यमंत्री के ट्विटर अकाउंट के लाखों फॉलोवर है और ये समुदाय विशेष के तुष्टिकरण के लिए बड़े समुदाय के धार्मिक रस्म रिवाज के साथ ठीक नहीं किया जा रहा है। इससे भावनाएं आहत होने के साथ-साथ सद्भाव बिगड़ने की भी आशंका है।

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

Tags : durga pujakolkatakolkata high courtmamta banerjee


Loading...

Operation 136: Part 1

Expose

Thousands of our readers believe that free and independent news can be a public-funded endeavour. Join them and Support Cobrapost »