एक्सक्लूसिव Exclusive कोबरापोस्ट और टाइम्स नाऊ की साझा तहकीकात, बीजद (BJD) और उसके प्रत्याशियों द्वारा चुनाव आयोग में दायर हलफनामे में भारी अंतर

Exclusive कोबरापोस्ट और टाइम्स नाऊ की साझा तहकीकात, बीजद (BJD) और उसके प्रत्याशियों द्वारा चुनाव आयोग में दायर हलफनामे में भारी अंतर

कोबरा पोस्ट और टाइम्स नाऊ की साझा तहकीकात में इस बात का खुलासा हुआ है कि राजनेता चुनाव आयोग के निष्पक्ष चुनाव कराने के तमाम दावों को झूठा साबित करने में लगें है। मामला 2014 के ओडिशा विधानसभा और लोकसभा चुनाव से जुड़ा है।


By Cobrapost.com - July 21, 2017


कोबरा पोस्ट और टाइम्स नाऊ की साझा तहकीकात में इस बात का खुलासा हुआ है कि राजनेता चुनाव आयोग के निष्पक्ष चुनाव कराने के तमाम दावों को झूठा साबित करने में लगें है। मामला 2014 के ओडिशा विधानसभा और लोकसभा चुनाव से जुड़ा है।

आरपी यानी Representative Of People act अधिनियम, 1951 की धारा 78 के मुताबिक चुनाव के परिणाम घोषित करने के 30 दिनों के भीतर हर चुनाव में खड़े हुए उम्मीदवार को जिला चुनाव अधिकारी के समक्ष अपने चुनाव व्यय के खाते की वास्तविक प्रतिलिपि दर्ज करने की जरुरत है। सही समय के साथ चुनाव के दौरान खर्च हुए रुपए और खातों की जानकारी नहीं दी जाने पर भारतीय रिज़र्व बैंक अधिनियम, 1951 की धारा 10 ए के तहत भारतीय चुनाव आयोग द्वारा संबंधित उम्मीदवारों की अयोग्यता का कारण हो सकता है।

बीजद (BJD) पार्टी का कहना है कि चुनाव के दौरान उसने अपने कई उम्मीदवारों को कोई भुगतान नहीं किया है, लेकिन बीजद पार्टी के उम्मीदवारों ने शपथ पत्र पर कहा है कि उन्हें पार्टी से पैसा मिला हैं। कोबरापोस्ट संवाददाता सुभाष महापात्रा की रिपोर्ट के मुताबिक चुनाव आयोग में दायर किए गए हलफनामो से पता चला है कि एक चेक विभिन्न व्यक्तियों के नामों से अलग-अलग तारीखों का है। अभी तक बीजद पार्टी ने दस साल (2000-2009) तक का अपनी आय का ब्यौरा चुनाव आयोग के सामने पेश नहीं किया है।

अधिनियम 1951 की धारा 77 के तहत चुनाव आयोग को चुनाव के दौरान खर्च का पुरा ब्यौरा देना होता है। 2014 के विधानसभा चुनाव के दौरान ओडिशा मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने अपनी पार्टी, बीजू जनता दल (BJD) से 13,10,625 रुपये की राशि प्राप्त की, जो 2 अप्रैल, 2014 की आरटीजीएस चैक 538976288 के माध्यम से एकमुश्त राशि के रूप में प्राप्त हुई है। ये जो ट्रांजेक्शन है बीजद के द्वारा चुनाव आयोग को पूर्व में दिए गए खर्चों से बिल्कुल अलग है। जिससे साफ जाहिर होता है कि चुनाव आयोग को सही जानकारी नहीं दी गई है, और तथ्यों को छुपाया है। चुनाव आयोग की अनुसूचित 18 (9) के तहत बीजद (BJD) द्वारा हिंजली विधानसभा चुनाव में तीन जुलाई 2014 को चेक नं 441619 के द्वारा 10 लाख रुपए दिए गए। लेकिन बीजद (BJD) ने आगे स्पष्ट किया है कि नवीन पटनायक ने आम चुनाव की अंतिम तिथि के बाद 648320 रुपये वापस कर दिए हैं। बीजद (BJD) द्वारा दी गई सामग्री अनुसूचित 18 की सं. 9 के निर्धारित प्रारूप में चुनाव खर्च को दाखिल करने के लिए भारत चुनाव आयोग के अनुपालन में प्रस्तुत की गई है। पता चलता है कि नवीन पटनायक को 10 लाख रुपए दिए है। वही बीजद ने आगे स्पष्ट किया है कि नवीन पटनायक ने आम चुनाव की अंतिम तिथि के बाद 648320 रुपये लौटा दिए। जबकि नवीन पटनायक द्वारा हलफनामे में उन्होने बताया कि उन्हे बीजद से 13,10,625 रुपये प्राप्त हुए। वही बैंक चेक के माध्यम से 45 लाख रुपए की राशि को एक साल में सामान्य चुनाव के दौरान आठ सदस्यीय उम्मीदवारों के पास स्थानांतरित कर दिया गया था।

ओडिशा के मयूरभंज लोकसभा क्षेत्र के बीजद के लोकसभा सांसद रामचंद्र हंसदा को 8 मई, 2014 को चेक नंबर 538976288 के रूप में 10,00,000 रूपये प्राप्त हुए हैं। बीजद से राशि और यह अपने प्रतिवेदन में आरपी अधिनियम, 1951 के 77 के तहत भारतीय रिज़र्व बैंक के समक्ष प्रस्तुत किए गए हलफनाम में प्रतिबिंबित किया गया है। हालांकि, बीजद ने भारतीय चुनाव आयोग को इस आशय के एक बयान प्रस्तुत किया है कि उसने चैक नं. 41666 के माध्यम से रामचंद्र हंसदा को 10,00,000 रुपये का भुगतान किया है।

हैरानी की बात ये है कि लोक सभा संसद सदस्य बलभादराजी, शपथ पत्र के रूप में शपथ लेने पर पीपुल्स एक्ट 1951 के प्रतिनिधित्व के खंड 77 के अनुपालन में भारत के चुनाव आयोग के चुनाव खर्च के विवरण 16 जून 2014 को प्रस्तुत करते हुए, कहा कि उनके पक्ष में बीजू जनता दल से उन्हें “शून्य” राशि मिली है। लेकिन बीजद के मुताबिक उसने बलभादराजी को 7,50,000 दिए।

बीजद (BJD) के नेता राजीव पात्रा ओडिशा में बालीगुड़ा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे थे, जबकि चुनाव खर्चों के विवरण भारत के चुनाव आयोग को जनप्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 77 के अनुपालन में शामिल किए गए थे। 13 जून 2014 को दिए गए हलफनामे में कहा गया है कि उनके पक्ष ने बीजू जनता दल से 5,00,000 / – रूपए की दो किस्तों में 10,000,00 रूपये की राशि प्राप्त की है। हालांकि, बीजद ने कहा है कि उसने अपने पार्टी के उम्मीदवार राजीव पात्रा को 5,00,000 रुपये ही दिया है।

प्रफुल्ल कुमार पंगी, जो कि बीजद (BJD) से पोटांगी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे थे, 10 जून 2014 को भारत के चुनाव आयोग के चुनाव खर्चों के विवरण को प्रस्तुत करते हुए कहा कि उन्होंने 11 अप्रैल, 2014 को सेमिलीगुडा केसीसी बैंक में अपनी पार्टी बीजू जनता दल के बैंक जमा से 5,00,000 रुपये प्राप्त किए। लेकिन बैंक के माध्यम से प्रफुल्ल कुमार पंगी सहित आठ व्यक्तियों को एक ही चैक के माध्यम से फंड दिया गया जो सीधे तौर पर चुनाव आयोग को गुमराह करता है।

बीजद (BJD) विधायक संजय कुमार दास बर्मा विधायक संजय कुमार दास वर्मा ने एक हलफनामे दायर किया जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें आरके दास और रंजन नंदा से 1 लाख रूपए का अनुदान मिला है। लेकिन इस चैक न.538976288 से पहले भी सासंद रामचंद्र हंसदा और बीजद (BJD) अध्यक्ष नवीन पटनायक को भी भुगतान किया गया है।

हेमा गोमागो जो कोशपुर विधानसभा से बीजद (BJD) ने चुनाव आयोग में दिए हलफनामे में कहा है कि उन्हे पार्टी से एक बार 5लाख और दूसरी बार तीन लाख यानी 8 लाख रुपए प्राप्त हुए। लेकिन बीजद (BJD) के मुताबिक उसने हेमा गोमागो को चुनाव के दौरान कोई पैसा नहीं दिया।
भुवनेश्वर किसान जो कुचिंदा विधान से बीजद (BJD) प्रत्याशी ने चुनाव आयोग में दिए अपने हलफनामे स्वीकार किया कि उन्हे बीजद (BJD) से कोई राशि नहीं मिली है। जबकि बीजद (BJD) ने चुनाव आयोग को बताया कि उसने भुवनेश्वर किसान को चुनाव के दौरान 5,00,000 रूपये का भुगतान किया ।

इसी तरह विनय कुमार तौपो जो तलसरा सुंदसाढ़ विधानसभा से बीजद (BJD) प्रत्याशी रहे। इन्होने चुनाव आयोग को दिए हलफनामे में बताया कि बीजद (BJD) ने उसे 10 लाख रूपये दिए। जबकि बीजद ने आयोग को बताया है कि उसने विनय को सिर्फ 5 लाख का ही भुगतान किया।
इसी तरह शकुंतला लागुरी जो ओडिशा की क्योंझर लोकसभा क्षेत्र से प्रत्याशी ने चुनाव आयोग को हलफनामे द्वारा बताया कि उन्हे बीजद (BJD) से 18,62720 रूपये मिले लेकिन बीजद (BJD) चुनाव आयोग में स्वीकार करती है कि पार्टी ने शकुंतला लागुरी को सिर्फ 5,00,000 रूपये दिए।
कुछ ऐसा ही रीता तराई जो बीजद (BJD) की लोकसभा प्रत्याशी रही जाजपुर लोकसभा से। रीता तराई ने चुनाव आयोग को बताया कि उन्हे बीजद (BJD) ने 13,88,284 रूपये दिए। जबकि बीजद (BJD) ने चुनाव आयोग को बताया कि पार्टी ने रीता तराई को सिर्फ 10,0,000 रूपये चुनाव के दौरान दिए।

पूर्व हॉकी खिलाड़ी दिलीप कुमार‍ तिर्की जो सुंदरगढ़ लोकसभा क्षेत्र से बीजद (BJD) प्रत्याशी थे। इन्होने चुनाव आयोग में दिए हलफनामे में खर्च का कोई ब्यौरा नहीं दिया। जबकि पार्टी के मुताबिक उसने दिलीप कुमार को चुनाव में 7,50,000 रूपये का भुगतान किया।

'Poor’ crorepati donor Poorna Chandra Padhi tracked down | LISTEN IN to Odisha CM aide’s neighbor #NaveenHawalaGhotala pic.twitter.com/IolYPaqWi2

— TIMES NOW (@TimesNow) July 21, 2017 ">


Tag : कोबरा पोस्ट,टाइम्स नाऊ,

Loading...

चर्चित खबरें

एक्सक्लूसिव