Wednesday 20th of March 2019
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक बार फिर वर्तमान सरकार को चेताया, जीडीपी में होगी तेज गिरावट
राष्ट्रीय

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक बार फिर वर्तमान सरकार को चेताया, जीडीपी में होगी तेज गिरावट

jansatta |
September 18, 2017

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वर्तमान सरकार को एक बार फिर चेताया है कि देश की जीडीपी में तेज गिरावट होगी। सिंह ने कहा कि जीएसटी और नोटबंदी का जल्‍दबाजी में क्रियान्‍वयन आर्थ‍िक प्रगति पर नकरात्‍मक असर जरूर डालेगा।



पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वर्तमान सरकार को एक बार फिर चेताया है कि देश की जीडीपी में तेज गिरावट होगी। सिंह ने कहा कि जीएसटी और नोटबंदी का जल्‍दबाजी में क्रियान्‍वयन आर्थ‍िक प्रगति पर नकरात्‍मक असर जरूर डालेगा। मनमोहन सिंह ने कहा, ”नोटबंदी और जीएसटी, दोनों का कुछ प्रभाव रहा है। जीएसटी को जल्‍दबाजी में लागू कर दिया गया, और अब कई सारी दिक्‍कतें सामने आ रही है। चालू वित्त वर्ष की जून में खत्म हुई तिमाही के दौरान देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर में गिरावट दर्ज की गई और यह वित्त वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही के 6.1 फीसदी से घटकर 5.7 फीसदी पर आ गई। पिछले साल इसी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 7.9 फीसदी थी। पूर्व प्रधानमंत्री ने पिछले साल नोटबंदी के बाद संसद में भविष्‍यवाणी की थी कि जीडीपी में दो प्रतिशत की गिरावट होगी। उन्‍होंने कहा था कि नोटबंदी एक ‘ऐतिहासिक आपदा, संगठित और कानूनी लूट’ है।

नोटबंदी के 10 महीने बाद, एक बार फिर मनमोहन सिंह ने इसे और जीएसटी के जल्‍द क्रियान्‍वयन को अनौपचारिक या लघु क्षेत्र पर बुरा प्रभाव डालने वाला बताया है। इस क्षेत्र से भारत में 90 फीसदी रोजगारों का सृजन होता है। सिंह ने कहा, ”दोनों (नोटबंदी और जीएसटी) अनौपचारिक, लघु क्षेत्र पर असर डालेंगे। यही दोनों जीडीपी में गिरावट के लिए जिम्‍मेदार है। हमारा 90 फीसदी रोजगार अनौपचारिक सेक्‍टर में है, और 86 फीसदी मुद्रा वापस मंगाना, साथ में जीएसटी क्‍योंकि इसे आपने जल्‍दबाजी में लागू किया, दोनों हीं  मिलकर जीडीपी वृद्धि पर बुरा असर डालेंगे।”

अप्रैल में, जब जीएसटी बिल संसद से पास हुआ तो मनमोहन सिंह ने भले ही इसे ‘गेम-चेंजर’ बताया हो, मगर वह यह भी बताने से नहीं चूके थे कि इसे लागू करने में मुश्किलें आएंगी।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »