तकनीक मिल गया 150 देशों के कंप्यूटरों को हैक करने वाले ‘रैंसमवेयर’ का तोड़

मिल गया 150 देशों के कंप्यूटरों को हैक करने वाले ‘रैंसमवेयर’ का तोड़

शुक्रवार को हवा में उड़ रहे रैन्समवेयर के खतरे से बचने का तरीका फ्रांस के रिसर्चर्स ने निकाल लिया है अब इसके इस्तेमाल से वो कंप्यूटरों और उनकी फाइलों को बचा सकते है


- July 21, 2018

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

शुक्रवार को हवा में उड़ रहे रैन्समवेयर के खतरे से बचने का तरीका फ्रांस के रिसर्चर्स ने निकाल लिया है अब इसके इस्तेमाल से वो कंप्यूटरों और उनकी फाइलों को बचा सकते है जो वॉनाक्राइ का शिकार हुए हैं और जिन्हें एक हफ्ते में फिरौती न दिए जाने की सूरत में लॉक कर दिए जाने की धमकी दी गई है। इस टूल को रिसरचर्स ने वॉनाकीवी नाम दिया है। बता दें कि वॉनाक्राइ ने पिछले शुक्रवार से पूरी दुनिया में अपना कहर बरपाना शुरू कर दिया था और यह अब तक 150 देशों के 3 लाख कंप्यूटरों को अपना निशाना बना चुका है। खबरें तो ये भी थी कि कंप्यूटरों के बाद वॉनाक्राइ मोबाईल फोन को निशाना बनाने के फिराक में है और वॉनाक्राइ अपने शिकार को धमकी देता है कि अगर एक हफ्ते के अंदर 300 से 600 मिलियन डॉलर फिरौती के तौर पर नहीं दिए गए तो सिस्टम को हमेशा के लिए लॉक कर दिया जाएगा। दुनियाभर में फैले सिक्यॉरिटी रिसर्चर्स की एक टीम इस काम के लिए साथ आई और उन्होंने मिलकर उन फाइलों को खोलने का तरीका ढूंढ लिया जो इस ग्लोबल साइबर अटैक का शिकार हुई हैं। कई अन्य सिक्यॉरिटी रिसर्चर्स ने भी इस टूल के काम करने की पुष्टि की है। हालांकि रिसर्चर्स ने यह भी बताया है कि उनका तरीका कुछ खास परिस्थितियों में ही काम करेगा। जो कंप्यूटर साइबर अटैक का शिकार हुआ है, अगर उसे रीबूट नहीं किया गया हो तभी यह टूल उस पर काम करेगा। इसके अलावा वॉनाक्राइ ने अभी तक जिन कंप्यूटरों की फाइलों को पर्मानेंटली बंद नहीं किया है, यह टूल उन्हीं पर असर करेगा।

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

Tags :


Loading...

Operation 136: Part 1

Expose