राष्ट्रीय राम रहीम और हनीप्रीत के बीच बाप बेटी जैसा  कोई रिश्ता नहीं: विश्वास गुप्ता

राम रहीम और हनीप्रीत के बीच बाप बेटी जैसा  कोई रिश्ता नहीं: विश्वास गुप्ता

हनीप्रीत के पूर्व पति विश्वास गुप्ता ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि राम रहीम और हनीप्रीत के बीच बाप बेटी जैसा  कोई रिश्ता नहीं है। 


cobrapost.com - September 22, 2017

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

बलात्कारी गुरमीत राम रहीम और हनीप्रीत के संबंधों को लेकर बड़ा खुलासा करते हुए हनीप्रीत के पूर्व पति विश्वास गुप्ता ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि राम रहीम और हनीप्रीत के बीच बाप बेटी जैसा  कोई रिश्ता नहीं है। हर हफ्ते हनीप्रीत और मुझे गुफा में बुलाया जाता था। हनीप्रीत गुफा में जाती थी जबकि मुझे बाहर बिठाया जाता था। विश्वास गुप्ता ने आरोप लगाया कि उसे डेरे का काम सौंप कर राम रहीम हनीप्रीत के साथ ऐश करता था। विश्वास गुप्ता ने कहा कि मैं राम रहीम का जमाई नहीं बल्कि किराए का टट्टू था। विश्वास ने बताया कि 1999 में बिना देखे हुए हनीप्रीत से मेरी शादी कराई गई। मेरे पिताजी राम रहीम के भक्त थे। 

विश्वास गुप्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूरे विस्तार से हनीप्रीत और राम रहीम के संबंधों के बारे में बताया। विश्वास गुप्ता ने कहा कि राम रहीम ने हनीप्रीत का साथ पाने के लिए 'बिग बॉस' का खेल भी खेला। विश्वास के मुताबिक राम रहीम ने अपने डेरे में बिग बॉस जैसा सेट लगवाया। इस सेट पर राम रहीम का पूरा परिवार, विश्वास गुप्ता, हनीप्रीत और खुद वह भी मौजूद था।

28 दिनों तक चले इस खेल में राम रहीम खुद बिग बॉस बन कर बैठ गया। सारा कुछ फेमस टीवी शो बिग बॉस जैसा होता था। इसमें गलती करने वालों को बिग बॉस के कमरे में जाकर राम रहीम के सुमिरन की सजा दी जाती थी। पहली गलती पर सजा दस मिनट की होती, दूसरी पर बीस, तीसरी पर चालीस और बाद में सजा इसी तरह बढ़ते रहती थी। विश्वास ने बताया कि एक तरफ तो लोग गलती करने से बचते वहीं हनीप्रीत ने पहले ही दिन से इतनी गलतियां कर दीं कि वह एक तरह से हमेशा राम रहीम के कमरे में ही रहती।

विश्वास ने बताया कि उस समय राम रहीम का कुछ ऐसा असर था कि मामला गड़बड़ लगने के बावजूद वह उसपर शक नहीं कर रहा था। बिग बॉस से शुरू हुआ यह किस्सा आगे भी जारी रहा। विश्वास के मुताबिक वह केवल कहने के लिए हनीप्रीत का पति था, लड़की हमेशा राम रहीम के साथ ही रहती थी। इस बीच राम रहीम ने हनीप्रीत को गोद लेने का ऐलान कर दिया और अपनी मुंहबोली मझली बेटी का दर्जा भी दे दिया।

विश्वास के मुताबिक इसके बाद भी हनीप्रीत और राम रहीम का खेल बंद नहीं हुआ। राम रहीम विश्वास को अपने साथ ही रखता था, उसे दामाद की तरह सम्मान भी दिलवाता था, लेकिन हनीप्रीत को अक्सर अपने साथ रखता। विश्वास ने बताया कि यात्रा के दौरान कभी होटल में रुकना पड़ता तो राम रहीम ऐसे दो कमरे चुनता जो अंदर से जुड़े होते। दुनिया की नजर में मैं और हनीप्रीत एक कमरे में रहते और राम रहीम दूसरे कमरे में, लेकिन रात को हनीप्रीत उसी के बिस्तर पर चली जाती।

विश्वास का कहना है कि इन सबके बावजूद राम रहीम उसे यही भरोसा दिलाता रहता कि हनीप्रीत उसकी सेवा कर रही है और बेटी है। विश्वास की मानें तो उसकी आंख की पट्टी तब उतरी जब उसने राम रहीम और हनीप्रीत को एक ही बिस्तर पर आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था।

विश्वास गुप्ता ने बताया कि एक बार राम रहीम और हनीप्रीत का खेल पता चल जाने के बाद उसने विरोध करना शुरू कर दिया। इसके बाद राम रहीम ने उसे जान से मारने की धमकी दी। विश्वास के मुताबिक उसपर और उसके परिवारवालों पर दहेज का मामला भी दर्ज करा दिया गया। विश्वास को जेल भी जाना पड़ा। जेल में भी विश्वास पर हमला किया गया। आरोप के मुताबिक राम रहीम ने विश्वास पर और भी केस कराए।

विश्वास ने आरोप लगाया कि आज वह जान का खतरा उठा कर ये सारी बातें बता रहा है। राम रहीम जेल में बंद होने के बावजूद बहुत ताकतवर है। विश्वास ने बताया कि बाद में उससे हनीप्रीत से तलाक की अर्जी भी दिलवाई गई। 2014 तक जब उसने माफी मांगी तब जाकर उसके खिलाफ सारे केस हटाए गए। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विश्वास गुप्ता एक बार रो भी पड़े।

गौरतलब है कि रेप के मामले में सजा पाकर राम रहीम जेल में है। हनीप्रीत फिलहाल फरार चल रही है। हनीप्रीत को खोजने के लिए पुलिस ने नेपाल तक जाल बिछा रखा। हरियाणा पुलिस के अलावा दूसरे राज्यों की पुलिस की भी मदद ली जा रही है।

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

Tags : Honeypreet Gurmeet Ram Rahim Former Husband Big Disclosure


Loading...

Operation 136: Part 1

Expose

Thousands of our readers believe that free and independent news can be a public-funded endeavour. Join them and Support Cobrapost »