Wednesday 18th of September 2019
“झूठमूठ के tweets, कितना मिलेगा”: महिमा चौधरी
एक्सक्लूसिव

“झूठमूठ के tweets, कितना मिलेगा”: महिमा चौधरी

असित दीक्षित और उमेश पाटिल |
February 19, 2019

कोबरापोस्ट की खोजी पड़ताल “ऑपरेशन कराओके” में बॉलीवुड मनोरंजन जगत की तीन दर्जन नामचीन हस्तियों को बेनकाब किया है। पैसों के लिए राजनीतिक दलों का सोश्ल मीडिया पर प्रचार करने के लिए ये हस्तियाँ रजामंदी थी। देश के नामी गिरामी गायक, कमेडियन और अभिनेता इन हस्तियों में शामिल है।



साल 1990 में मिस इंडिया का खिताब जीतने वाली ऋतु चौधरी उर्फ महिमा चौधरी को असली पहंचान मिली सुभाष घई की फिल्म परदेस से। महिमा चौधरी साल 2015 में फिर एक बार सुर्खियों में तब आई जब उनका नाम स्विस बैंक में खाता रखने वाले 628 भारतीयों में लिया गया। कोबरापोस्ट रिपोर्टर ने महिमा से उनके मुंबई स्थित आवास पर मुलाक़ात की। महिमा पूछती है, “झूठमूठ के tweets, कितना मिलेगा”?

रिपोर्टर महिमा को बताते है कि ये अजेंडा 8-9 महीने तक चलेगा और आपको अपने सोश्ल मीडिया अकाउंट से अप्रत्यक्ष रूप से एनडीए सरकार की उपलब्धियों का अपने शब्दों में प्रचार करना है। साथ ही साथ कुछ मुद्दों पर सरकार का बचाव भी करना है। लेकिन ये सब इस तरह से करना है कि आपके फॉलोअर को लगे कि ये आपके अपने विचार है, आपका अपना स्टाइल है। महिमा कहती है, “हाँ मतलब It should look genuine”.

महिमा चौधरी अजेंडा को बखूबी समझ जाती है। बक़ौल महिमा, “And plus everybody will start thinking like that, brain wash”. बातचीत में आगे जब पैसों की बात आती है तो महिमा कहती है, “BJP? BJP तो कुछ भी दे सकती है? They can give 1 crore a month”. महिमा बातचीत में आगे पूछती है, “हाँ। ये आप पैसे दोगे कैसे”? रिपोर्टर कहते है चूंकि आपका ट्विटर अकाउंट नहीं है इसलिए आपके 10 मैसेज ही पोस्ट होंगे। महिमा बात को बीच में ही काटते हुए बोलती है, “नहीं अगर फिर आएंगे ना हम twitter पे”। यानि इस काम के लिए महिमा चौधरी ट्विटर पर आने के लिए तैयार थी।

बातचीत में आगे कोबरापोस्ट रिपोर्टर महिमा चौधरी से पूछते है उनको कोई doubt तो नहीं है? महिमा जवाब देती है, “नहीं कोई doubt नहीं है”। महिमा कहती है कि सरकार की नीतियों के खिलाफ लोगों में गुस्सा है। रिपोर्टर महिमा को सलाह देते है की उन्हे इस तरह के ट्वीट नहीं करने है तो महिमा कहती है, “अगर आपने ढंग का पैसा नहीं दिया तो मैं Congress के तरफ से कर दूँगी”। बाद में रिपोर्टर की महिमा चौधरी से फोन पर भी बात होती है जिसमे महिमा कहती है कि आप कांट्रैक्ट भेज दीजिए ताकि मैं आपको अपनी बैंक डीटेल और PAN भेज सकूँ।                

कोबरापोस्ट का यह खुलासा एक और सच्चाई आपके सामने लाता है। ज्यादातर सेलिब्रिटीज पैसा लेकर सोश्ल मीडिया पर तमाम तरह की कंपनियों के प्रॉडक्ट को प्रॉक्सि-प्रोमोट करती हैं। हमारे इस खुलासे से एक और सच्चाई सामने आती है। राजनीतिक दल मतदाताओं का रुख अपने पक्ष में करने के लिए ऐसे बिकाऊ सेलिब्रिटीज का उपयोग भी करते हैं।

हमारी तहक़ीक़ात के मद्देनज़र जन-साधारण के लिए यह जानना ज़रूरी है कि जिन सितारों-कलाकारों को आप सर-आँखों पर बिठाये रखते हैं और जिनकी बातों को आप आँख मूंदकर सच मानते हैं क्या वो किसी राजनीतिक दल के पक्ष में आपके मत को प्रभावित तो नहीं कर रहे हैं? कहा जा सकता है कि ऐसा वो निजी तौर पर कर रहे हैं, सो इसमें क्या हानि है। असल मुद्दा हानि या लाभ का नहीं, बल्कि इससे लोकतन्त्र के लिए पैदा होने वाला खतरा है। पैसे लेकर ऐसे लोकप्रिय सितारे-कलाकार आपकी सोच और इस तरह चुनाव की प्रक्रिया को प्रभावित करते हैं।

यहाँ हम स्पष्ट करते चलें कि इस तहक़ीक़ात में कुछ राजनीतिक दलों के नाम लिए गए हैं। इसके पीछे हमारा मन्तव्य सिर्फ सच्चाई को उजागर करना है और कुछ नहीं। इसका किसी भी तरह से यह आशय नहीं लगाया जाये कि जिन राजनीतिक दलों का नाम तहक़ीक़ात के लिए लिया गया है वो सच में ऐसा करते हैं या करते होंगे।                                                 

कोबरापोस्ट ने इन celebrities को ईमेल के जरिए कुछ प्रश्न भी भेजे थे ताकि हम उनका पक्ष जान सके। महिमा चौधरी ने ईमेल का जवाब देते हुए लिखा, “No I didn’t agree to it. I’m not active on social media as u can see which is what I told them. Your representatives offered cash I said I don’t take cash clearly. You can check recordings. CLEARLY”. नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करके आप इनका जवाब पढ़ सकते है। जैसे जैसे हमें अन्य celebrities से उनके जवाब मिल जाएंगे हम उन्हें भी यहाँ पोस्ट कर देंगे।

Reply of Bollywood Celebrities       


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »