Wednesday 26th of June 2019
हम 72 भी लाखों को मार दें, कोई मां का औलाद नहीं जो मुसलमानों को बंगाल से निकाल सके- मौलाना वारसी
राष्ट्रीय

हम 72 भी लाखों को मार दें, कोई मां का औलाद नहीं जो मुसलमानों को बंगाल से निकाल सके- मौलाना वारसी

cobra Post (Team) |
September 19, 2017

म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों के नरसंहार के विरोध में कोलकाता के सड़कों पर कई मुस्लिम संगठन विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। कम से कम 25 से 30 हजार प्रदर्शनकारियों ने सर्कस पार्क से रानी राशमॉनी रोड तक 5 किलोमीटर का मार्च किया था।



म्यांमार में रोहिंग्या मुसलमानों के नरसंहार के विरोध में कोलकाता के सड़कों पर कई मुस्लिम संगठन विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। कम से कम 25 से 30 हजार प्रदर्शनकारियों ने सर्कस पार्क से रानी राशमॉनी रोड तक 5 किलोमीटर का मार्च किया था। इनमें से एक मुस्लिम समुदाय के शिया मौलाना शब्बीर अली अजाद वारसी ने एक ऐसा विवादित बयान दिया हैं जिसकी चौतरफा निंदा की जा रही हैं, जी हां ‘मौलाना वारसी’ ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा अगर मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं तो क्या वे कमजोर हैं? तुम अभी मुसलमानों का इतिहास नहीं जानते हो। हम लोग शिया मुस्लिम हैं, हम 72 भी होते हैं तो भी लाखों को मार सकते हैं।

मौलाना यही नहीं रुके उन्होने कहा दिल्ली में बैठी सरकार से कहना चाहता हूं कि रोहिंग्या हमारे भाई हैं। यह सोचने की भूल मत करो कि रोहिंग्या मुसलमान भारतीय मुसलमानों से अलग हैं। जो खून उनका है, वहीं खून हमारा भी है और जो खुदा उनका है वह खुदा हमारा भी है, दुनिया में मुसलमान कहीं भी हो हम सभी भाई हैं। बंगाल से रोहिंग्या मुसलमानों को निकालने की कोशिश मत करो। ये बंगाल है, असम, गुजरात, उत्तर प्रदेश, मुजफ्फरपुर और मुजफ्फरनगर नहीं जो तुम यहां से रोहिंग्या मुसलमानों को भगा दोगे। यहां मीडिया मौजूद है और आज में चुनौती देता हूं कि किसी की मां ने वो औलाद नहीं जनी जो मुसलमानों को बंगाल से निकालकर दिखा दे। अगर ऐसा ही चलता रहा तो हम इससे भी बड़ा जुलूस लेकर दिल्ली पहुंच जाएंगे और एक नया इतिहास रचेंगे।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »