तकनीक अब Whatsapp से भी कर सकेंगे पैसों का लेन देन, जानें क्या हैं गाइडलाइंस!

अब Whatsapp से भी कर सकेंगे पैसों का लेन देन, जानें क्या हैं गाइडलाइंस!

जल्द ही Whatsapp अपनी इंस्टेंट पेमेंट सर्विस शुरू करने जा रहा है। अभी तक हम Whatsapp  पर सिर्फ चैट या कॉल ही कर पा रहे हैं। लेकिन अब हम पैसों का भी आदान प्रदान कर सकेंगे। व्हाट्सएप जल्द ही भारत में पेमेंट की सुविधा शुरू करने वाला है, जिसके बाद व्हाट्सएप से भी पैसे के लेन देन की प्रक्रिया सरल हो जाएगी ।


- September 21, 2018

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

जल्द ही Whatsapp अपनी इंस्टेंट पेमेंट सर्विस शुरू करने जा रहा है। अभी तक हम Whatsapp  पर सिर्फ चैट या कॉल ही कर पा रहे हैं। लेकिन अब हम पैसों का भी आदान प्रदान कर सकेंगे। व्हाट्सएप जल्द ही भारत में पेमेंट की सुविधा शुरू करने वाला है, जिसके बाद व्हाट्सएप से भी पैसे के लेन देन की प्रक्रिया सरल हो जाएगी ।

 मीडिया रिपोर्टों की मानें तो  व्हाट्सएप के लिए भारत दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है, रिपोर्ट के दावे के मुताबिक व्हाट्सएप पेमेंट भारत में UPI के जरिए अगले 6 महीनों के अंदर पेमेंट सर्विस शुरू कर सकता है। वॉट्सऐप में भी यह फीचर यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) पर आधारित होगा। ऐप के जरिए पैसे जल्दी ट्रांसफर किए जा सके इसके लिए वॉट्सऐप भारतीय बैंकों से और दूसरे संस्थानों जैसे कि एसबीआई और नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन के साथ इसे लेकर चर्चा कर रहा है।

 आप को बता दें कि सरकार जल्द ही इसके लिए गाइडलाइंस लाने वाली है, जिसके बाद आप एक मोबाइल वॉलेट से दूसरे मोबाइल वॉलेट में लेन देन कर सकेंगे। इसके लिए सरकार प्री पेड इंस्ट्रुमेंट्स यानी पीपीआई के मौजूदा नियमों में ढील देने की तैयारी में है। अगर नई व्यवस्था लागू कर दी गई तो मोबाइल वॉलेट सुविधा मुहैया कराने वाली हर वॉलेट कंपनी को एक तय मापदंड की तकनीक अपनानी होगी। ट्रू कॉलर ने भी आईसीआईसीआई बैंक के साथ मिलकर यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस शुरू किया था। हाल में ही हाइक ने भी अपने यूजर्स के लिए वॉलिट का नया फीचर जोड़ा है।

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

Tags :


Loading...

Operation 136: Part 1

Expose

Thousands of our readers believe that free and independent news can be a public-funded endeavour. Join them and Support Cobrapost »