बिजनेस टमाटर के दाम सुरनकर हो जाएंगे लाल! 15 दिनों में 4 गुना बढ़े भाव

टमाटर के दाम सुरनकर हो जाएंगे लाल! 15 दिनों में 4 गुना बढ़े भाव

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में टमाटर तेजी पर है और एक पखवाड़े में इसके खुदरा मूल्य 65 % तक बढ़कर 60-70 रुपये प्रति किलोग्राम हो गए हैं। कुछ उत्पादक राज्यों में फसल नष्ट होने से टमाटर का बाजार प्रभावित हुआ है। टमाटर का भाव कोलकाता में 50 रुपये , चेन्नई में 40-45 और मुम्बई में 35-40 रुपये प्रति किलोग्राम के दायरे में चल रहा है।


- September 23, 2018

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में टमाटर तेजी पर है और एक पखवाड़े में इसके खुदरा मूल्य 65 % तक बढ़कर 60-70 रुपये प्रति किलोग्राम हो गए हैं। कुछ उत्पादक राज्यों में फसल नष्ट होने से टमाटर का बाजार प्रभावित हुआ है। टमाटर का भाव कोलकाता में 50 रुपये , चेन्नई में 40-45 और मुम्बई में 35-40 रुपये प्रति किलोग्राम के दायरे में चल रहा है। दिल्ली में सफल की दुकानों पर टमाटर 60 रुपये और ग्रोफर्स एवं नेचर्स बास्केट जैसे आॅनलाइन मंचों पर 45-48 रुपये प्रति किलोग्राम के भाव पर बिक रहा है।

इसी बीच केंद्र सरकार ने कहा है कि यह मौसमी उतार चढ़ाव है और महंगाई पर नजर रखी जा रही है। खाद्य एवं उपभोक्ता मामले मंत्री राम विलास पासवान ने कहा, ‘‘टमाटर जल्दी सड़ने गलने वाली चीज है। हम दाम पर नजर रख रहे हैं। राज्यों से भी चौकस रहने को कहा गया है ताकि आपूर्ति में कोई कृत्रिम कमी न पैदा हो और दाम नहीं बढ़े। ’’ वैसे सरकारी आंकड़ों में पिछले एक हफ्ते में टमाटर के दाम में काफी वृद्धि नजर आ रही है।

दिल्ली के व्यापारियों ने कहा कि हरियाणा और कुछ अन्य टमाटर उत्पादक राज्यों में वर्षा की वजह से टामाटर की फसल का नुकसान हुआ हे। इससे आपूर्ति में काफी गिरावट आयी है। एशिया की सबसे बड़ी फल और सब्जी मंडी आजादपुर के टोमाटो मर्चेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक कौशिक ने कहा कि हरियाणा में बहुत अधिक वर्षा के बाद गर्मी आने से 70 % से अधिक टमाटर की फसल नष्ट हो गयी है।

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

Tags :


Loading...

Operation 136: Part 1

Expose

Thousands of our readers believe that free and independent news can be a public-funded endeavour. Join them and Support Cobrapost »