Thursday 13th of December 2018
विजय माल्या ने जान-बूझकर की थी लोन नहीं चुकाने की साजिश, सीबीआई ने ईमेल्स से किया खुलासा
बिजनेस

विजय माल्या ने जान-बूझकर की थी लोन नहीं चुकाने की साजिश, सीबीआई ने ईमेल्स से किया खुलासा

|
December 13, 2018

सीबीआी ने दावा किया है कि बंद हो चुकी एयरलाइंस कंपनी किंगफिशर के मालिक विजय माल्या आईडीबीआई बैंक का कर्ज चुकाना ही नहीं चाहते थे। सीबीआई को इस बात का खुलासा विजय माल्या के मेल्स द्वारा हुआ है। आपको बता दें कि माल्या पर बैंक का 900 करोड़ रुपये बकाया है।


सीबीआी ने दावा किया है कि बंद हो चुकी एयरलाइंस कंपनी किंगफिशर के मालिक विजय माल्या आईडीबीआई बैंक का कर्ज चुकाना ही नहीं चाहते थे। सीबीआई को इस बात का खुलासा विजय माल्या के मेल्स द्वारा हुआ है। आपको बता दें कि माल्या पर बैंक का 900 करोड़ रुपये बकाया है। 

सीबीआई ने पिछले हफ्ते माल्या द्वारा लोन न चुकाए जाने के मामले में पूरक आरोपपत्र (चार्जशीट) दायर किया था। सीबीआई ने मुंबई की अदालत में दायर आरोपपत्र में माल्या, किंगफिशर एयरलाइंस के अधिकारियों और आईडीबीआई बैंक के अधकारियों को आरोपी बनाया है। सीबीआई ने आरोपपत्र में सबूत के तौर पर छह जनवरी 2012 को विजय माल्या द्वारा यूनाइटेड स्पीरीट्स लिमिटेड (यूएसएल) के वरिष्ठ अधिकारी पीए मुरली को भेजे ईमेल की प्रति संलग्न की है।

इसे भी पढ़िए :  सिसोदिया ने GST को लेकर जेटली की सराहना की

सीबीआई के अनुसार माल्या द्वारा भेजे गए ईमेल में कहा गया है, “आईडीबीआई से कई ईमेल आए हैं, केएफए अकाउंट के नॉन-पर्फार्मिंग एसेट (एनपीए) बन जाने के बारे में। वो अचानक ही कुछ कर सकते हैं। कल ही उन्होंने मेरे यूएसएल अकाउंट से 10 करोड़ रुपये काट लिए।” सीबीआई द्वारा इसी साल जनवरी में दायर की गई चार्जशीट में कहा गया था कि आईडीबीआई के अधिकारियों ने माल्या द्वारा लोन चुकाने के बाद किंगफिशर एयरलाइंस ब्रांड को “सिक्योरिटी” के तौर पर रखने को लेकर कोई कानूनी सलाह नहीं ली थी। सीबीआई के अनुसार ये विजय माल्या का आइडिया था कि किंगफिशर के “ब्रांड वैल्यू” को लोन के सिक्योरिटी के तौर पर लिया जाए। सीबीआई के अनुसार माल्या ने 10 सितंबर 2008 को यूबी ग्रुप के सीएफओ रवि नेदुगड़ी को लिखे मेल में ये आइडिया दिया था।

सीबीआई के अनुसार माल्या ने आईडीबीआई बैंक को दो स्वतंत्र विशेषज्ञों की “ब्रांड वैल्यू” रिपोर्ट देने की बात कही थी लेकिन आखिरकार उन्होंने केवल एक रिपोर्ट सौंपी जो उनके फायदे की थी। सीबीआई के अनुसार ग्रांट थॉर्नटन द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में साफ लिखा है कि वो केवल “आंतरिक प्रयोग” के लिए है न कि “निवेश के लिए सुझाव” है। सीबीआई के अनुसार माल्या को पता था कि ब्रांड फाइनेंस की रिपोर्ट में किंगफिशर की “ब्रांड वैल्यू” 1911 करोड़ रुपये आंकी गई है।
विजय माल्या पर विभिन्न भारतीय बैंकों के करीब नौ हजार करोड़ रुपये बकाया हैं। बैंकों द्वारा साझा रूप से सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के बाद माल्या ब्रिटेन फरार हो गए थे। उस समय माल्या राज्य सभा सांसद थे और ब्रिटेन जाने से एक दिन पहले भी वो संसद की कार्यवाही में शामिल हुए थे। बाद में भारतीय अदालत ने उन्हें भगोड़ा घोषित कर दिया। इस समय लंदन की अदालत में माल्या पर प्रत्यर्पण का केस चल रहा है। अगर भारत केस जीत जाता है तो माल्या को वापस लाया जा सकेगा। माल्या खुद के फरार होने या भगोड़ा होने के आरोपों से इनकार करते रहे हैं।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.



Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »