जेटली को पहली अप्रैल से GST को लागू करने की उम्मीद

0
फाइल फोटो।

नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार(11 जनवरी) को फिर कहा कि प्रस्तावित वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) से संबंधित लंबित मुद्दे यदि हल हो जाएं तो केंद्र सरकार अब भी इस प्रणाली को आगामी पहली अप्रैल से लागू करना चाहेगी।

वित्त मंत्री ने कहा कि जीएसटी को लागू करने के लिए ज्यादा से ज्यादा 16 सितंबर 2017 तक का समय है। इस नई कर व्यवस्था में केंद्र और राज्यों के ज्यादातर अप्रत्यक्ष कर समाहित हो जाएंगे। इन करों में केंद्रीय उत्पाद शुल्क, सेवाकर और राज्यों के वैट और बिक्री कर आदि शामिल हैं।

इसे भी पढ़िए :  अगर आप एयरटेल और वोडाफोन के कस्टमर हैं तो रिलायंस जियो में एमएनपी करना हो सकता है मुश्किल!

जेटली ने गुजरात के गांधीनगर में वाइब्रेंट सम्मेलन के दौरान कहा कि जीएसटी को लागू करने का एक प्रावधान हो चुका है, क्योंकि संविधान संशोधन विधेयक पारित हो चुका है। इसलिए यह संवैधानिक आवश्यकता है कि 16 सितंबर (2017) से पहले इसे लागू कर दिया जाए।

इसे भी पढ़िए :  मीडियावालों को देखकर आखिर दौड़कर क्यों भागे आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल? वजह जान रह जाएंगे हैरान

जीएसटी लागू करने के लिए संसद में पारित और राज्यों द्वारा अनुमोदित संविधान संशोधन विधेयक के तहत कुछ मौजूदा करों की मियाद इस वर्ष 16 सितंबर के बाद समाप्त हो जाएगी।

इसे भी पढ़िए :  नोटबंदी: आसान नहीं कैश की डगर, एक महीना करना पड़ेगा इंतजार, क्या तैयार हैं आप?

वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार बिक्री पर इस नयी कर व्यवस्था को इस साल अप्रैल से लागू करना चाहती है। उन्होंने कहा कि यदि सभी मुद्दों का समाधान हो जाए तो हम इसे पहली अप्रैल से ही लागू करना चाहते हैं।