दक्षिण अफ्रीका में खूब चला मोदी का जादू, पढ़िए पीएम के भाषण की खास बातें

0

पीएम नरेन्द्र मोदी पांच दिवसीय विदेश यात्रा पर गए हैं। इस दौरान मोदी दक्षिण अफ्रीका के चार देशों का दौरा करेंगे। नरेंद्र मोदी शुक्रवार को प्रिटोरिया के बाद जोहांसबर्ग पहुंचे। यहां उन्होंने भारतीय समुदाय को संबोधि‍त किया। भारतीय समयानुसार देर रात 11 बजे अपना संबोधन शुरू करते हुए पीएम ने लोगों का स्वागत किया और गुजराती में ‘केम छो’ बोलकर हाल चाल लिया। इससे पहले मोदी ने वहां के राष्ट्रपति जैकब जुमा से मुलाकात की। पीएम के आने पर मोदी-मोदी के नारे के साथ पूरा परिसर गूंजने लगा और उनसे हाथ मिलाने के लिए युवाओं का सैलाव दिखा।

इस दौरान 15 हजार भारतीयों के बीच मोदी के भाषण पर खूब तालियां बजीं।वहीं पीएम मोदी भी सभी से हाथ मिलाते हुए नजर आए। मोदी के लिए वहां के भारतीयों की दीवानगी बखूबी देखने को मिली। भारत माता की जयजय कार के नारे भी खूब सुनाई दिए। इससे पहले मोदी के आगमन भारतीय संस्कृति की झलक देखने को मिली। जहां पर जोरदार रंगारंग कार्यक्रम देखने को मिला। जनगणमन के अलावा लता जी की आवाज में वंदेमातरम के स्वर गूंजे और कलाकारों की प्रस्तुति शानदार प्रस्तुति हुई और मंच पर तिंरगा फहराया गया।

इसे भी पढ़िए :  योगी आदित्यनाथ डुबा सकते हैं यूपी में बीजेपी की नैया, बागी हुए योगी की पार्टी 64 सीटों पर लड़ेगी चुनाव

साउथ अफ्रीका में भारतीयों के बीच पीएम मोदी ने कहा मैं बहुत दूर से आप सबका आशीर्बाद लेने आया हूं। मैं अपने विचारों पर आपसे सुझाव मांगने आया हूं। इस दौरान पीएम मोदी ने अपने भाषण में क्या कुछ खास बातें कहीं, चलिए आपको भी सुनाते हैं।

इसे भी पढ़िए :  मंदसौर में किसान आंदोलन हुआ बेकाबू, पीएम मोदी ने की अहम मीटिंग

जोहांसबर्ग में पीएम मोदी के भाषण की खास खुर्खियां

– यह महात्मागांधी की कर्मभूमि है।
– दक्षि‍ण अफ्रीका पवित्र धरती है।
– आप भारतीय विरासत की संतान हैं।
– दक्षि‍ण अफ्रीका ने मोहनदास को महात्मा बनाया।
– मूल्यों के लिए कष्ट झेलने वालों पर गर्व है।
– 16 साल की वलियम्मा को कौन भुला सकता है?
– प्रवासी भारतीयों ने अपने पूर्वजों की मेहनत से बहुत कुछ सीखा है।
– ये सत्याग्रह की जन्मभूमि है।
– वसुधैव कुटुम्बकम की भावना से हम जुड़े।
– होली, पोंगल दक्षि‍ण अफ्रीका की संस्कृति को दर्शाते हैं।
– हिंदी, तमिल गुजराती दक्ष‍िण अफ्रीका के समाज को मजबूत कर रहे हैं।
– हमारे पूर्वज दुख और गरीबी को सहकर आगे बढ़े।
– आपको देखकर अपने पूर्वजों की पीड़ा याद आती है।
– दक्षि‍ण अफ्रीका को गले लगाने वाला भारत पहला देश था।
– 10 जुलाई 1991 को दक्षि‍ण अफ्रीका के क्रिकेट से प्रतिबंध हटा था।
– आपके ढेरो सुझाव मुझे मिले।
– मैं अपने विचारों पर आपसे सुझाव मांगने आया हूं।
– मुझे अपनों के बीच आने का सौभाग्य मिला।

इसे भी पढ़िए :  वेटिकन सिटी में आज मदर टेरेसा को घोषित किया जाएगा 'संत' 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY