बीजेपी पर 45 हजार करोड़ के घोटाले का आरोप, जानिए क्या है पूरा मामला

0

कांग्रेस और बीजेपी के बीचे अक्सर आरोप प्रत्यारोप का दौर चलता रहता है। इस बार कांग्रेस ने बीजेपी पर 45000 करोड़ के दूरसंचार घोटाले का आरोप लगाया है। एनडीटीवी की खबर के मुताबिक कांग्रेस ने आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार ने छह दूरसंचार कंपनियों के हितों की रक्षा के लिए कदम उठाये, जिन पर राजकोष का धन बकाया था। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला, शक्ति सिंह गोहिल और आर पी एन सिंह ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, ”ताजा दूरसंचार घोटाला करीब 45 हजार करोड़ रुपये का है और यह मोदी सरकार की ओर से दबाया गया।”

इसे भी पढ़िए :  बंगाल निकाय चुनाव में टीएमसी की बड़ी जीत

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने छह दूरसंचार कंपनियों के हितों की सुरक्षा के लिए कदम उठाया और इनकी मदद सरकार को शुल्क के भुगतान करने से बचा कर की। साथ ही दावा किया कि यह स्पष्ट मामला है और सरकारी राजकोष को नुकसान की पुष्टि कैग की ओर से हुई है जिसका एकमात्र उदेश्य सांठगांठ वाले पूंजीपतियों की सहायता करना है। सुरजेवाला ने जिन दूरसंचार कंपनियों का नाम बताया उनमें भारती, एयरटेल, वोडाफोन, रिलायंस, आइडिया, टाटा, एयरसेल शामिल हैं।

दूरसंचार विभाग ने इस बारे में एक बयान जारी किया है। इसमें कहा गया है, ”छह दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियों द्वारा अपने कारोबार को घटाकर बताने संबंधी कैग की रिपोर्ट फरवरी 2016 में प्राप्त हुई। यह रिपोर्ट 2006-07 से 2009-10 तक चार साल से जुड़ी है जो कि इस सरकार के कार्यकाल से पहले की है।” इसके अनुसार इस रिपोर्ट में लाइसेंस शुल्क व स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क मद में 5000 करोड़ रुपये जबकि ब्याज मद में 7000 करोड़ रुपये की कमी को रेखांकित किया गया है। उक्त छह दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियों में भारती एयरटेल, वोडाफोन, एयरसेल, रिलायंस कम्युनिकेशंस, टाटा टेली व आइडिया हैं।

इसे भी पढ़िए :  देश और दुनिया के पूरे घटनाक्रम पर एक नजर… बड़ी सुर्खियां और एक्सक्लूसिव खबरें, GOOD MORNING COBRAPOST में

बयान में कहा गया है, ”कैग द्वारा जांचे गए प्रमुख दस्तावेज विभाग को जून 2016 में मिले। इनकी कड़ाई से जांच की जा रही है और 22 लाइसेंस सेवा क्षेत्रों में छह कंपनियों को चार वित्त वर्ष के लिए मांग (डिमांड) नोटिस जारी करने की प्रक्रिया फिलहाल चल रही है।” विभाग ने कहा है कि इस प्रक्रिया से सामने आई मांग को लाइसेंस शर्तों के हिसाब से ही ब्याज व जुर्माने सहित वसूला जाएगा। बयान के अनुसार, ‘इस तरह से सरकार को किसी तरह का राजस्व नुकसान नहीं हुआ है।’ विभाग ने बयान में कहा,’सरकार चूककर्ता कंपनी से पूरी राशि मय ब्याज व जुर्माने के कम से कम समय में वसूलने को प्रतिबद्ध है।’

इसे भी पढ़िए :  बीजेपी के इस मुख्यमंत्री ने कभी जोर शोर से किया था बीफ़ का विरोध, अब खुद खुलवा रहे हैं सबसे बड़ा बूचड़ाखान, रोज कटेंगे 500 जानवर

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY