सहम गया पिता का दिल, जब पता लगा बेटा बन गया आतंकवादी

0

बांग्लादेश की सरज़मी पर हुए आतंकी हमले में 20 बेगुनाहों की दर्दनाक मौत हो गई। इस हमले के बाद एक कड़वी हकीकत सामने आई कि इश आतंकी हमले को अंजाम देने वाले आतंकी पढ़े-लिखे, मॉर्डन और हाई प्रोाइल घरानों से ताल्लुक रखने वाले थे। कोई पेशे से इंजीनियर को कोई कंप्यूटर में मास्टर। इन्हीं छह आतंकियों में एक था बांग्लादेश में सत्तारूढ़ पार्टी अवामी लीग केे नेता का बेटा। नेता को जब पता लगा कि उसका बेटा खूंखार आतंकी बन चुकी है तो उके पैरों तले से ज़मीन खिसक गई। चलिए आपको भी सुनाते हैं उस पिता का दर्द जिसका लाड़ला महज़ चंद महीनों में एक आम नागरिक से मौत का सौदागर बन गया।

इसे भी पढ़िए :  राजनीतिक चोला पहनकर आतंक फैलाने की फिराक में हाफिज सईद, PAK चुनाव आयोग से साधा संपर्क

बांग्लादेश में सत्तारूढ़ अवामी लीग के इस नेता ने कहा, “मैंने अपने बेटे को आइएसआइएस द्वारा जारी फोटो से पहचाना… मुझे गहरा धक्का लगा..” गन के साथ अपने बेटे की फोटो देखकर विचलित रोहन के पिता ने कहा, “उसने कहां से ट्रेनिंग ली, पिछले छह माह के दौरान वह कहां गया था… मैंने कभी ऐसे असामान्य-लक्षण या संकेत नहीं देखे जिससे आभास होता कि रोहन आतंकवाद की ओर बढ़ रहा है। मैंने कभी उसे जेहादी सामग्री पढ़ते हुए नहीं देखा।”

इम्तियाज खान ने कहा, रोहन मैथ्स और क्लास का टॉपर, फुटबॉल तथा इंग्लिश फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड का दीवाना था। उसने 30 दिसंबर को यूनिवर्सिटी जाने के लिए कहकर घर छोड़ा था और फिर वापस नहीं आया। वह (इम्तियाज खान) उस समय इलाज के लिए कोलकाता में थे।

इसे भी पढ़िए :  जासूसी कांड में एक और गिरफ्तारी, क्राइम ब्रांच ने सपा नेता मुनव्वर सलीम के PA पर कसा शिकंजा

उसे हर कहीं तलाशा और आखिरकार दो जनवरी को पुलिस में केस दर्ज कराया। उसका मोबाइल स्विच ऑफ था… वह सोशल मीडिया पर भी नहीं था। हमने फेसबुक पर उसे वापस आने के कई संदेश भेजे। ढाका कैफे के आतंकी हमले तक उसे कभी नहीं देखा गया।

इस खौफनाक वारदात के बाद पुलिस और प्रशासन सतर्क हो गए हैं और उन्होंने अपने बच्चों पर ध्यान देने की अपील की है। बांग्लादेश के गृह मंत्री के अनुसार, सभी हमलावर उच्च शिक्षा प्राप्त थे और धनी परिवारों से थे। यह तथ्य उजागर होने के बाद पुलिस ने लोगों से अपने बच्चों की जीवनशैली बदलने और उन पर अतिरिक्त निगाह रखने के लिए कहा है, ताकि उन्हें कट्टपंथी बनने से रोका जा सके। वहीं, विश्लेषकों ने पांचों हमलावरों में एक चीज समान पाई है, वह यह कि पांचों पिछले तीन से छह महीनों के बीच लापता हो गए थे।
जाहिर है इनके घरों से निकालकर इन्हें किसी खुफिया जगह पर रखा गया होगा जहां इनका ब्रेनवॉश कर इन्हें खून बहाने की ट्रेनिंग दी गई होगी।

इसे भी पढ़िए :  जम्मू कश्मीर : एनकाउंटर में एक कांस्टेबल शहीद, तीन आतंकी भी मारे गए

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY