अमेरिका के बाद फ्रांस ने भी किया NSG पर भारत का समर्थन

0
Indian Prime Minister Narendra Modi, left, poses with French President Francois Hollande before a meeting at the Elysee Palace, in Paris, France, Friday April 10, 2015, as part of a European tour for the Indian leader. French authorities are hoping to build up already-strong contacts with the fast-growing Asian nation amid talks about a possible big fighter-jet deal. (AP Photo/Ian Langsdon, Pool)

नई दिल्ली। एनएसजी में भारत के प्रवेश पर चीन के कड़े विरोध के बीच फ्रांस ने भारत का समर्थन करते हुए कहा कि इससे परमाणु प्रसार के खिलाफ वैश्विक प्रयास मजबूत होंगे।
48 सदस्यीय एनएसजी के प्रमुख सदस्य देश फ्रांस ने कहा कि परमाणु नियंत्रण व्यवस्थाओं में भारत की सहभागिता संवेदनशील वस्तुओं के निर्यात को बेहतर तरीके से नियंत्रित करने में मदद करेगी, चाहे वे परमाणविक हों, रासायनिक हों, जैविक हों, बैलिस्टिक हों या परंपरागत सामग्री और प्रौद्योगिकी हॉं।
फ्रांस के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा,‘‘फ्रांस मानता है कि चार बहुपक्षीय निर्यात नियंत्रण व्यवस्थाओं (एनएसजी, एमटीसीआर, द ऑस्ट्रेलिया ग्रुप और द वासेनार अरेंजमेंट) में भारत का प्रवेश परमाणु प्रसार से लड़ने में अंतरराष्ट्रीय प्रयासों को मजबूत करेगा।’’
मंत्रालय ने कहा, ‘‘एनएसजी में पूर्ण रूपेण सदस्य के तौर पर भारत के प्रवेश के सक्रिय और दीर्घकालिक समर्थन की दिशा में फ्रांस सोल में 23 जून को मिल रहे इसके सदस्यों से सकारात्मक निर्णय लेने का आह्वान करता है।’’
उधर चीन भारत के प्रवेश पर अपना विरोध बरकरार रखे हुए है। उसका तर्क है कि भारत ने परमाणु अप्रसार संधि पर हस्ताक्षर नहीं किये हैं।

इसे भी पढ़िए :  ‘भारत के आर्थिक मसीहा नहीं थे नरसिम्हा राव’

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY