स्नूपगेट कांड में मोदी और शाह पर लगे आरोपों की जांच करवाए महिला आयोग: केजरीवाल

0
स्नूपगेट

दिल्ली

दिल्ली के मुख्यमंत्री औऱ आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक ने एक बार फिर से नरेंद्र मोदी और उनके सहयोगी अमित शाह को घेरने की तैयारी में लग गए हैं। केजरीवाल ने राष्ट्रीय महिला आयोग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर गुजरात में एक महिला की जासूसी कराने के आरोपों की जांच कराने और सख़्त कार्रवाई करने की मांग की है।

बीबीसी के मुताबिक राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम को भेजे पत्र में केजरीवाल ने लिखा है कि मैं इसके साथ संबंधित दस्तावेज और डिजिटल साक्ष्यों को भी लगा रहा हूं कि किस प्रकार मोदी और शाह ने खुद से आधी उम्र की एक युवा महिला की जासूसी की।

अरविंद केजरीवाल ने लिखा है, मैं आपसे गुजारिश करता हूं कि इस मामले की जांच शुरू करें और दोनों के खिलाफ हर संभव कड़ी कार्रवाई करें।

इसे भी पढ़िए :  PM मोदी ने आदिवासियों का अधिकार ‘छीनने’ वालों के खिलाफ कार्रवाई की दी चेतावनी

गौरतलब है कि कोबरापोस्ट और गुलेल डॉट कॉम ने एक टेप जारी कर यह बताया था कि किस तरह से अमित शाह के इशारे पर गुजरात पुलिस ने एक लड़की की जासूसी की थी। यह काम अमित शाह अपने ‘साहेब’ के इशारे पर करवा रहे थे।

स्नूपगेट की पूरी स्टोरी पढ़ें

THE STALKERS: AMIT SHAH’S ILLEGAL SURVEILLANCE EXPOSED

केजरीवाल महिला आयोग को लिखे पत्र में लिखें हैं कि दिल्ली सरकार महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध में पाए गए लोगों के ख़िलाफ़ कठोर कार्रवाई करने के लिए प्रतिबद्ध है।

आयोग को लिखे जवाब में केजरीवाल ने कहा, “संसदीय इतिहास में मेरी सरकार पहली है जिसने अपने तीन मंत्रियों को बर्ख़ास्त कर दिया था जब उनके ख़िलाफ़ अनुचित व्यवहार के सुबूत सामने आए थे।”

इसे भी पढ़िए :  आखिर क्यू फॅालो करते है प्रधानमंत्री इस युवक को ट्विटर पर , क्या है शादी के कार्ड का सच

 

स्नूपगेट

 

अरविंद केजरीवाल ने आगे लिखा, “मैं आपकी इस बात के लिए तारीफ़ करूंगा की आपने हाल ही में एक टीवी प्रोग्राम में ख़ुलासा किया था कि साल 2013 में आपने नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की थी। जब एक महिला की जासूसी कराने के तथ्य सामने आए थे। आपने उस प्रोग्राम में कहा था कि उस समय आप बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सदस्य थीं और आपने पार्टी के मंच पर इस मुद्दे को उठाया था। आप उस समय मोदी जी पर कोई कार्रवाई नहीं कर सकती थीं क्योंकि आप राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष नहीं थीं।”

इसे भी पढ़िए :  'आतंकवाद की जननी' करार देने वाले बयान पर टिप्पणी से अमेरिका का इंकार

केजरीवाल ने आयोग को भेजे जवाब में कहा, “मैं आपको पर्याप्त दस्तावेज़ी और डिजिटल सबूत साथ में संलग्न कर भेज रहा हूं कि किस तरह मोदी जी और अमित शाह ने अपनी आधी उम्र की महिला की जासूसी करवाई थी। उस समय मोदी जी गुजरात के मुख्यमंत्री थे और उस महिला में उनकी ग़ैरमामूली दिलचस्पी थी। इसलिए मैं आपसे अपील करता हूं कि आप इसकी जांच कराएं और दोनों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई करें।”

बरहाल इस मामले पर महिला आयोग जांच करवाए या ना करवाए लेकिन इस मुद्दे को दुबारा उछाल कर केजरीवाल ने राजनीतिक गलियारों में एक बार फिर हलचल मचा दिया है।