मौसम की बेईमानी: कहीं बिन बारिश के सूखा, कहीं भारी बारिश बनी आफत

0

देश में मानसून कहीं राहत की खबर लेकर आया है तो कहीं आफत खबर। अपनी शुरूआत में ही अच्छी बारिश होने के कारण देश के किसान और सरकार दोनों खुश हैं। लेकिन इसी बारिश के कारण बिहार, छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। रूक रूक कर हो रही बारिश ने इन इलाकों की नदियां को उफान पर ला कर खड़ा कर दिया है। उत्तरी बिहार में कोशी नदी का जलस्तर बढ़ने से किनारे के गांवों में भारी कटाव हो रहा है। वहीं छत्तीसगढ़ के बलरामपुर में तेज बारिश के कारण जोबा नदी का जलस्तर अप्रत्याशित रूप से बढ़ गया। जिससे वहां बाबा बच्छराज कुंवर धाम गए श्रद्धालूओं के बीच अफरा तफरी मच गई। कई श्रद्धालू तो नदी की तेज धारा में बहते बहते बचे। वही उत्तराखंड में पहली बारिश ने ही लोगों को डरा दिया है। मानसून की पहली बारिश में ही कई जगह भूस्खलन होने से बहुत से रास्ते बंद गए हैं। बारिश के कारण चमोली जिले में ही 18 सड़क मार्गों के बाधित होने की खबर है। भारी बारिश के कारण नदी-नालों में उफान आ गया और कई गांवों को जोड़ने वाले अनेक पुल बह गए। केदारनाथ क्षेत्र में भी जबरदस्त बारिश हुई है। जिसके कारण सोनप्रयाग में बना हेलीपैड ध्वस्त हो गया और केदारनाथ जाने वाला पैदल मार्ग अवरुद्ध हो गया।  हालांकि देश के कुछ हिस्सों में लोग अभी भी बारिश की इंतजार कर रहे हैं। दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में गर्मी के कारण लोगों का बुरा हाल है। और लोग यहां मानसून का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

इसे भी पढ़िए :  आखिरकार मॉनसून ने दी दिल्ली में दस्तक

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY