अमित शाह से मिलने पहुंचे संभावित मंत्री

0

नई दिल्ली। मंगलवार को मोदी मंत्रिमंडल का कल विस्तार होने जा रहा है। इस बार मंत्रिमंडल में कई नए चेहरे शामिल हो सकते हैं तो कुछ मंत्रियों का कद बढ़ाया जा सकता है। वहीं कुछ मंत्रियों की विदाई भी हो सकती है।

मंत्रियों के कामकाज की समीक्षा के लिए 30  जून को प्रधानमंत्री ने बैठक भी बुलाई थी। दरअसल प्रधानमंत्री 7 जुलाई को अफ्रीकी देशों की यात्रा पर रवाना होंगे,  इसलिए मंत्रिमंडल में फेरबदल मंगलावर को किया जाएगा। इसके पीछे मुख्य वजह कई राज्यों में होने जा रहे विधानसभा चुनाव माने जा रहे हैं। इस बार आने वाले राज्यों में चुनाव को देखकर कुछ चेहरे यूपी और पंजाब से शामिल किये जा सकते हैं।

इसे भी पढ़िए :  किसानों के लिए बड़ी राहत, अब 500 रुपये के पुराने नोट से भी खरीद सकते हैं बीज

नाम फाइनल होने से पहले सोमवार को शाह अपने घर पर संभावित मंत्रियों से मुलाकात भी कर रहे हैं। संभवित मंत्रियों में एसएस अहलूवालिया, अनुप्रिया पटेल और अनिल माधव दवे अमित शाह के घर पहुंचे। इसके अलावा, फगन सिंह कुलस्ते, विजय गोयल, एमजे अकबर,  महेंद्रनाथ पांडे और पीपी चौधरी भी शाह से मिलने पहुंचे।

अभी केन्द्रीय मंत्रिपरिषद में प्रधानमंत्री को मिलाकर 64 मंत्री हैं। इसमें 27 कैबिनेट स्तर के, 12 स्वतंत्र प्रभार वाले और 25 राज्य मंत्री हैं। सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल के मौजूदा फेरबदल में चार टॉप मंत्रियों गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री अरुण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के विभागों में कोई बदलाव की संभावना नहीं है। खेल एवं युवा मामलों के मंत्री रहे सर्बानंद सोनोवाल के असम का मुख्यमंत्री बन जाने के बाद उनके मंत्रालय में मंत्री पद खाली है।

इसे भी पढ़िए :  पाकिस्तान को जवाब देने के लिए सिंधु नदी का पानी रोकना भारत के लिए कितना आसान होगा। देखिए - COBRAPOST IN-DEPTH LIVE

ऐसा अनुमान है कि 75 साल से ज्यादा की आयु वाले मंत्रियों की विदाई की जा सकती है। हाल ही में मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार में हुए फेरबदल में 75 पार उम्र के दो मंत्रियों की छुट्टी कर दी गई थी। हालांकि 75 साल से ज्यादा उम्र वालों को कैबिनेट में शामिल नहीं करने का पार्टी में कोई आधिकारिक या औपचारिक फार्मूला नहीं है, लेकिन सूत्रों की माने तो केंद्र में भी एमपी की तर्ज़ पर इसे अपनाया जा सकता है।

इसे भी पढ़िए :  सरकार 300 गांवों को आर्थिक वृद्धि केंद्र के रूप में विकसित करेगी: मोदी

अगर ये पैमाना काम करता है तो मंत्रिपरिषद में शामिल नजमा हेपतुल्लाह और कलराज मिश्र जैसे वरिष्ठ नेताओं की छुट्टी तय है। लेकिन इस बीच माना ये भी जा रहा है कि पीएम मोदी अगले साल उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनज़र कलराज मिश्रा को मंत्रिपद से बेदखल नहीं करेंगे। मिश्रा का लाभ यूपी में पार्टी के लिए ब्राह्मण चेहरे के तौर लिया जा सकता है।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY