कश्मीर में हुए ताजा झड़प में तीन मरे, 150 घायल

0

दिल्ली
कश्मीर घाटी में जुमे की नमाज के बाद कई स्थानों पर फिर से हुई झड़पों में तीन लोगों की मौत हो गई और 150 से अधिक घायल हो गए। इससे मौजूदा अशांति के दौरान मरने वालों की संख्या 53 पहुंच गई है।

अलगाववादियों द्वारा हजरतबल दरगाह के लिए मार्च रोकने के लिए कश्मीर में कई और इलाकों में कफ्र्यू लगाए जाने के बावजूद ये झड़पें हुईं। पिछले 28 दिनों से घाटी में आम जनजीवन प्रभावित है।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि मध्य कश्मीर के बड़गाम जिले के चदूरा इलाके में नगाम पर शुक्रवार की नमाज के बाद भीड़ द्वारा किए गए पथराव के खिलाफ सुरक्षा बलों की कार्रवाई में मोहम्मद मकबूल खांडे कथित तौर पर मारा गया।

इसे भी पढ़िए :  नोटबंदी से आतंकवाद पर लगेगी रोक: राजनाथ सिंह

खांडे की मौत की खबर फैलते हुए चनापुर-चदूरा रोड से सटे कई इलाकों में विरोध प्रदर्शन किया गया और क्रालपुरा इलाके से झड़प की रपट आई। एक अन्य घटना में, बड़गाम जिले के खानसाहिब इलाके में हिंसक भीड़ के खिलाफ सुरक्षा बलों की कार्रवाई में तीन युवक गंभीर रूप से घायल हो गए।

उन्होंने कहा कि घायलों को एसएमएचएस अस्पताल ले जाया गया जहां एक युवक ने दम तोड़ दिया। इस युवक की मौत से अस्पताल के भीतर विरोध शुरू हो गया और कुछ युवकों ने पास के करण नगर पुलिस थाने पर पथराव शुरू कर दिया।

उन्होंने कहा कि सोपोर में हुई झड़प में एक युवक मारा गया। भीड़ ने श्रीनगर के हब्बाक इलाके में स्वास्थ्य मंत्री आसिया नकाश के पैतृक घर पर भी पथराव किया। हालांकि उस समय घर में कोई मौजूद नहीं था। भीड़ ने खान साहिब इलाके में निर्दलीय विधायक हकीम मोहम्मद यासीन के घर को भी निशाना बनाया, लेकिन इसमें कोई घायल नहीं हुआ।
पुलिस अधिकारी ने कहा कि उत्तरी कश्मीर में बारामुला जिले के सोपोर कस्बे और पल्हालन कस्बे एवं कुपवाड़ा जिले में गोशबग से भी प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़पों की खबरें आई हैं। इन झड़पों में 100 से अधिक लोगों के घायल होने की रिपोर्ट है, लेकिन अधिकारियों ने इस पर टिप्पणी करने से यह कहते हुए इनकार किया कि वे कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने में व्यस्त हैं। इससे पहले हजरतबल के लिये अलगाववादियों के मार्च के कार्यक्रम को विफल करने के लिये अधिकारियों ने कश्मीर के कुछ और जगहों में कफ्र्यू लगा दिया ।

इसे भी पढ़िए :  सुब्रत रॉय को SC से राहत, 24 अक्टूबर तक बढ़ी सहारा प्रमुख की पैरोल

समूचे श्रीनगर जिले के अलावा गांदरबल, बड़गाम, अनंतनाग कस्बा, अवंतीपुरा, कुलगाम कस्बों, सोपोर को छोड़कर बारामुला जिले में , सोपिां कस्बे , बांदीपुरा में कलूसा तथा हंडवाड़ा के कुछ हिस्सों में कफ्र्यू लगा दिया गया था। इसके साथ ही ऐतिहाती उपाय के तहत घाटी के बाकी हिस्सों में धारा 144 लागू कर दी गई।

इसे भी पढ़िए :  नोटबंदी के बाद सरकार से मिली राहत, सभी नेशनल हाईवे 24 नवंबर तक रहेगें टोल फ्री

आठ जुलाई को हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से ही घाटी में सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पें जारी है जिससे घाटी में आज जनजीवन आज लगातार 28वंे दिन प्रभावित रहा। इस दौरान, हिंसा में 53 लोग मारे गए हैं और 5,500 लोग घायल हुए हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY