पाकिस्तान ने रची भारत को बदनाम करने की साजिश, कई अलगाववादी नेता भी शामिल

0
गर्दन

पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ यूएन में भारत को झटका देने के लिए नई रणनीति बनाने में जुटे हैं। इसके तहत वह संयुक्‍त राष्‍ट्र की आम सभा में जाने से पहले कश्मीर के अलगाववादी नेताओं से मिलकर भारत को घेरनेे की रणनीति बनाएंगे। इस महीने के अंत में संयुक्त राष्ट्र के सत्र में शामिल होने जा रहे निवाज शरीफ पीओके और हुर्रियत के नेताओं से मुलाकात करेंगे।

गौरतलब है कि हाल ही में भारत ने संयुक्त राष्ट्र में पहली बार बलूचिस्तान का मुद्दा उठाते हुए बुधवार यानी 14 सितंबर को पाकिस्तान पर वहां के साथ ही पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में व्यापक मानवाधिकार उल्लंघन करने का आरोप लगाया था। जिसके बाद अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की जमकर किरकिरी हुई थी। ऐसे में अपनी शान में बट्टा लगते देख पाकिस्तान ने भी भारत को बदनाम करने की ये घिनौनी साजिश रची है।

इसे भी पढ़िए :  भारत के खिलाफ साजिश रच रहा है हाफिज सईद, इस्लामिक स्टेट से मांगी मदद

अगले स्लाइड में पढ़ें – पाकिस्तान की इस साजिश में कौन-कौन शामिल है ? 

पाकिस्तानी अखबार ‘डॉन’ के मुताबिक नवाज शरीफ पीओके का दौरा कर वहां के नेताओं और हुर्रियत के पीओके के प्रतिनिधियों से बातचीत कर यूएन में अपने भाषण का एजेंडा तय करेंगे। इसके लिए वह पाक अधिकृत कश्‍मीर के प्रधानमंत्री राजा फारुक हैदर से भी मिलेंगे। अखबार ने हैदर के हवाले से लिखा है कि नवाज शरीफ न्यूयॉर्क जाने से पहले आज मुजफ्फराबाद आकर अपनेे भाषण के लिए कश्मीरी नेताओं विचार-विमर्श करेंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पीओके के सांसदों के साथ अलग बैठक करेंगे और ऑल पार्टिज हुर्रियत कांफ्रेंस की पीओके शाखा के प्रतिनिधिमंडल से भी मिलेंगे।

इसे भी पढ़िए :  परमाणु हथियारों के मामले में पाकिस्‍तान से भी पीछे है भारत: रिपोर्ट

डान न्यूज ने उनके हवाले से लिखा है, ”संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र में 21 सितंबर को दिए जाने वाले अपने भाषण की सामग्री पर प्रधानमंत्री कश्मीरी नेतृत्व को विश्वास में लेना चाहते हैं।” हैदर ने कहा कि इससे नियंत्रण रेखा के उस पार सकारात्मक संदेश जाएगा।

इसे भी पढ़िए :  नरेंद्र मोदी का समर्थन जीवन की दूसरी बड़ी गलती- अरुण शौरी

 

 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY