कश्मीर हिंसा पर 2 घंटे तक चली पीएम की बैठक, ये हुए फैसले

0

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में हिंसक प्रदर्शनों को लेकर पीएम मोदी ने मंगलवार को बैठक की। 7आरसीआर में हुई यह बैठक लगातार दो घंटे तक चली। पीएम मोदी ने बैठक के दौरान घाटी में शांति बनाए रखने की अपील की और राज्य सरकार को हर संभव मदद देने का आश्वासन दिया। सूत्रों के मुताबिक पीएम ने राज्य सरकार को हालात काबू करने के लिए पूरी छूट दी है।

पीएम मोदी ने बैठक में राज्य सरकार को हालात का सामना बेहतर तरीके से करने को कहा है। साथ ही केंद्र सरकार की पूरी मदद मिलने का भी आश्वासन दिया है। पीएम ने साफ कहा कि बुरहान वानी एक आतंकवादी था, उसे बड़ा नेता न बनाया जाए। उसे आतंकी के तौर पर ही देखा जाए। पीएम ने कहा कि पत्तथरबाजी करने वाले युवाओं से राज्य सरकार निपटेगी। लेकिन सुरक्षा ठिकानो और सुरक्षा कर्मियों पर हमलों से सख्ती से निपटा जाएगा।

इसे भी पढ़िए :  लाल आतंक के खिलाफ आखिर जंग की तैयारी, अब नक्सलियों के खिलाफ होगी 'सर्जिकल स्ट्राइक'

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने बैठक के बाद बताया कि पीएम ने कहा है कि वे राज्य सरकार को पूर्ण सहयोग देंगे। पीएम ने राज्य के हालात पर चिंता जताई और बेकसूरों को परेशानी न होने देने की अपील की।
जितेंद्र सिंह ने बताया कि पूरे राज्य के हालात पर पीएम करीबी से नजर बनाए हुए हैं। पीएम ने अमरनाथ यात्रा को लेकर किए गए इंतजाम पर संतोष जताया।

इस बैठक में गृह मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, वित्त मंत्री अरुण जेटली, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल समेत तमाम वरिष्ठ मंत्री और अधिकारियों ने हिस्सा लिया। बैठक में पीएम को आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने से कश्मीर घाटी में पैदा हुए हालात का ब्योरा दिया गया।

इसे भी पढ़िए :  ‘डिजिटल और कैशलेस अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ रहा भारत’

भारत-पाकिस्तान के बीच कारवां-ए-अमन बस सेवा बंद कर दी गई है। अलगाववादियों ने घाटी में बुलाए गए बंद को दो दिन के लिए और बढ़ा दिया है। वहीं पाकिस्तान ने उच्चायुक्त को बुलाकर कश्मीर के हालात पर नाराजगी जताई। हालांकि देश के आतंरिक मामलों में पाकिस्तान के दखल पर भारत ने कड़ा जवाब दिया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ये जानकारी दी कि शनिवार से कश्मीर घाटी में हिंसक प्रदर्शन को रोकने के लिए सुरक्षाबल दिन रात मुस्तैद हैं। वहीं हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। शुक्रवार को हिजबुल आतंकी बुरहान वानी के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद से घाटी अशांत है।

इसे भी पढ़िए :  राष्ट्रगान मामले में सोली सोराबजी ने न्यायपालिका से पूछा, क्या ऐसे मामलों में आपको पड़ना चाहिए?

अभी तक कश्मीर के हिंसक प्रदर्शन में 30 लोगों की जान जा चुकी है। हालांकि अलगावादियों का दावा है कि 31 लोगों की मौत हुई है। दक्षिण कश्मीर के चार जिलों समेत श्रीनगर के आठ थाना क्षेत्रों में आज भी कर्फ्यू है। इस बीच तीन दिन से फंसे अमरनाथ यात्रियों का जत्था कल बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए दोबारा रवाना हो गया। घाटी में हो रही हिंसा को लेकर कश्मीरी पंडितों ने कल पीएमओ में राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह से मुलाकात की।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY