मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने के बाद क्या बोले मंत्री?

0

नयी दिल्ली: कैबिनेट रैंक पर पदोन्नत किए गए एकमात्र मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि उन्हें सौंपी गई जिम्मेदारी वह ‘कर्तव्यनिष्ठ’ रूप से निभाएंगे, जबकि मंत्रिपरिषद में शामिल किए गए दूसरे मंत्रियों ने सरकार के विकास एजेंडा को अपनी प्राथमिकता बताया।
जावड़ेकर ने शपथ ग्रहण के बाद कहा, ‘‘यह कहीं अधिक बड़ी जिम्मेदारी है और मैं इसे कर्तव्यनिष्ठ भाव से निभाउंगा।’’ अभी तक जावड़ेकर पर्यावरण मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार संभाल रहे थे। वहीं अन्य सांसदों ने राज्य मंत्री के रूप में शपथ ली है।

इसे भी पढ़िए :  नवाज ने फिर अलापा कश्मीर का राग, कहा ‘वानी को हम अब भी शहीद मानते हैं’

मंत्रिपरिषद में शामिल किए गए महाराष्ट्र से सांसद एसआर भामरे ने कहा कि जो पिछले 60 साल में हासिल नहीं किया जा सका उसे मोदी सरकार ने पिछले दो साल में कर दिया जिनका एकमात्र लक्ष्य ‘सबका साथ सबका विकास’ है।
उन्होंने कहा, ‘‘मुझसे उन्हें जो उम्मीदें हैं उन्हें मैं अवश्य पूरा करूंगा। मोदी सरकार ने दो साल पूरे किए हैं और कई अच्छे काम किए हैं। लेकिन अभी काफी काम बाकी है। हमारे प्रधानमंत्री का एकमात्र लक्ष्य ‘सबका साथ सबका विकास’ और एकमात्र एजेंडा विकास है। भामरे ने आगे कहा, ‘‘किसानों, युवकों, महिलाओं के हितों को प्राथमिकता दी जाएगी, इसके अलावा दलितों सहित समाज के सभी तबके के उत्थान की कोशिश की जाएगी।’’
मध्यप्रदेश से सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते को भी मंत्रिपरिषद में जगह मिली है। उन्होंने कहा कि सरकार ने पिछले दो साल में अहम फैसले किए हैं और हमारी जिम्मेदारी यह देखने की है कि उनका क्रियान्वयन उपयुक्त रूप से और जमीनी स्तर पर हो। एक सवाल के जवाब में कुलस्ते ने कहा कि उन्हें जो भी मंत्रालय दिया जाएगा, वह उसमें खुशी से काम करेंगे।

इसे भी पढ़िए :  बापू के हत्यारे नाथूराम गोडसे के बयान को सार्वजनिक के आदेश

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY