बढ़ी कलह, शिवपाल यादव ने मंत्रिमंडल और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष, दोनों पदों से दिया इस्तीफा

0
फोटो: साभार

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में सपा के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने अखिलेश से नाराज सभी मंत्री पदों के साथ-साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष से भी इस्तीफा दे दिया है। हालांकि, आज शाम को ही सपा परिवार में संकट दूर करने लिए चल रहे गिले शिकवे के दौर में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव की देर शाम बातचीत हुई। शिवपाल ने सीएम के आवास पर 20 मिनट बिताए। मगर किसी को इस बात का आभास नहीं था कि समाजवादी पार्टी में परिवार के बीच मचे विवाद का पटाक्षेप शिवपाल के सरकार और संगठन से इस्तीफे के साथ होगा।

इसे भी पढ़िए :  ऊना में दलितों की पिटाई: 34 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, चार पुलिसकर्मी गिरफ्तार

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शिवपाल ने कैबिनेट से अपना इस्तीफा अखिलेश यादव को भेज दिया है। हालांकि खबरों के मुताबिक, अखिलेश यादव ने शिवपाल के इस्तीफे को नामंजूर कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक, मुलायम सिंह से मीटिंग के बाद शिवपाल ने कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया। यही नहीं उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी भी छोड़ दी। इससे पार्टी में विभाजन का खतरा पैदा हो गया है। यदि ऐसा कुछ होता है तो आगामी विधानसभा चुनावों से पहले सत्ताधारी दल के लिए यह बड़ा झटका होगा। अखिलेश की ओर से कई मंत्रालय वापस लिए जाने के बाद शिवपाल यादव के पास मात्र समाज कल्याण विभाग ही बचा था।

इसे भी पढ़िए :  2002 में हुए कोलकाता आतंकी हमला के मुख्य आरोपी को गुजरात एटीएस ने बिहार से पकड़ा

सूत्रों के मुताबिक शिवपाल भतीजे अखिलेश के अपने प्रति रवैये से बेहद आहत हैं। इससे पहले चाचा-भतीजे की लड़ाई में कुछ नरमी आने के संकेत मिल रहे थे। पारिवारिक तकरार के कारण छाए संकट के बादल हटाने के लिए पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह ने पुरजोर कोशिश की थी। उसके बाद से ही शिवपाल ने अपने रुख में नरमी के संकेत भी दिए थे।

मालूम हो कि मुख्यमंत्री द्वारा गत 13 सितंबर को शिवपाल के करीबी अधिकारी माने जाने वाले मुख्य सचिव दीपक सिंघल को हटाए जाने के बाद अखिलेश और शिवपाल की तल्खियां और बढ़ गई थीं। सिंघल को हटाए जाने के बाद सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के आदेश पर अखिलेश को समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर शिवपाल को यह जिम्मा सौंप दिया गया था।

इसे भी पढ़िए :  देश की अखंडता बनाए रखने में हमारे सैनिकों व सशस्त्र सेनाओं का बलिदान अमूल्य: सोनिया गांधी

इसके चंद घंटों बाद ही अखिलेश ने शिवपाल से लोक निर्माण, राजस्व और सहकारिता जैसे महत्वपूर्ण विभाग छीन लिए थे। सूत्रों के मुताबिक समाजवादी पार्टी में चल रहे सियासी घमासान के बीच मुलायम ने शिवपाल को अपने घर बुला कर काफी समझाने की कोशिश की थी कि वह अभी इस्तीफा ना दें मगर यह प्रयास नाकाम रहा।