आतंकवाद दुनिया के समक्ष सबसे बड़ा खतरा : मोदी

0

मापुतो :मोजांबिक: प्रधानमंत्री चार अफ्रीकी देशों की पांच दिवसीय यात्रा के पहले चरण में आज सुबह मोजांबिक पहुंचे। विभिन्न देशों में आतंकी हमलों में आई तेजी के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज कहा कि आतंकवाद दुनिया के समक्ष ‘सबसे बड़ा खतरा’ है, साथ ही भारत और मोजांबिक के बीच सुरक्षा और रक्षा सहयोग को मजबूत बनाने की वकालत भी की ।मोजांबिक के राष्ट्रपति फिलिप न्यूसी के साथ मोदी की विविध विषयों पर व्यापक चर्चा के बाद एक महत्वपूर्ण ‘दीर्घकालीन’ समझौते पर हस्ताक्षर किया गया जिसके तहत भारत इस देश से दाल खरीदेगा ताकि इसकी कमी को पूरा किया जा सके और कीमतों को नियंत्रित किया जा सके ।भारत को मोजांबिक का ‘विश्वस्त मित्र’ और ‘भरोसेमंद सहयोगी’ करार देते हुए प्रधानमंत्री ने यह घोषणा की कि अफ्रीकी देश में जन स्वास्थ्य प्रणाली को मजबूत बनाने के प्रयास के हिस्से के तौर पर एड्स के उपचार समेत अन्य आवश्यक दवाएं उपलब्ध करायी जायेंगी ।भारत, मोजांबिक में सुरक्षा बलों की क्षमता के निर्माण में मदद करेगा । प्रधानमंत्री ने इस अफ्रीकी देश को विकास और प्रगति के मार्ग पर आगे बढ़ाने में सहयोग का संकल्प व्यक्त किया । मोजांबिक के राष्ट्रपति न्यूसी के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में मोदी ने कहा, ‘‘हम अपने लोगों के फायदे के लिए विकास और आर्थिक प्रगति चाहते हैं। हम अपने लोगों की सुरक्षा चाहते हैं।’’ दोनों नेताओं ने आपसी कारोबार और निवेश बढ़ाने और अन्य क्षेत्रों में सहयोग के विभिन्न आयामों पर चर्चा की। उन्होंने कहा, ‘‘आतंकवाद आज दुनिया की सुरक्षा के समक्ष सबसे बड़ा खतरा है ।’’ प्रधानमंत्री की यह टिप्पणी बांग्लादेश और सउदी अरब समेत दुनिया के विभिन्न हिस्सों में आतंकी हमलों की घटनाओं में हुई वृद्धि की पृष्ठिभूमि में सामने आई है।प्रधानमंत्री ने कहा कि आतंकवाद का नेटवर्क मादक पदार्थों की तस्करी समेत अन्य अपराधों से जुड़ा हुआ है और इस पर लगाम लगाने के लिए भारत और मोजांबिक ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है।भारत और मोजांबिक के हिंद महासागर से जुड़े होने का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने नौवहन क्षेत्र समेत अन्य क्षेत्रों में उभरती हुई सुरक्षा चुनौतियों पर चर्चा की और कहा कि दोनों देश सुरक्षा और रक्षा सहयोग बढ़ायेंगे।मोदी ने कहा कि भारत, मोजांबिक के सुरक्षा बलों की क्षमता निर्माण में मदद करेगा और प्रशिक्षण एवं उपकरण मुहैया करायेगा। मोदी ने कहा, ‘‘हमारा सहयोग हमारी साझी क्षमताओं और हितों से संचालित है.. मोजांबिक की ताकत भारत की जरूरत है और मोजांबिक की जरूरत की पूर्ति भारत कर सकता है । हम एक दूसरे के पूरक हैं। ’’

इसे भी पढ़िए :  18 साल बाद बढ़ाई गई शहीदों की मुआवजा राशि, अब शहादत पर मिलेंगे 10 नहीं 25 लाख

प्रधानमंत्री ने कृषि, स्वास्थ्य सेवा, उर्जा सुरक्षा, सुरक्षा, रक्षा और कौशल विकास जैसे क्षेत्रों की पहचान की जिन क्षेत्रों में सहयोग की संभावनाएं हैं। कृषि क्षेत्र का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि भारत, मोजांबिक से दाल खरीदने को प्रतिबद्ध है । इस बारे में दोनों देशों के बीच एक दीर्घकालीन समझौते पर हस्ताक्षर किये गए ।

इसे भी पढ़िए :  बीफ विरोधियों पर भड़के काटजू, 'मैं बीफ खाता हूं, मेरे पास आओ, डंडा आपका इंतज़ार कर रहा है'

दाल खरीदने की प्रतिबद्धता के बारे में उन्होंने कहा कि इससे भारत की दाल की जरूरतों को पूरा किया जा सकेगा और मोजांबिक के किसानों की आय बढ़ेगी ।कृषि क्षेत्र के विकास को मोजांबिक की शीर्ष प्राथमिकता होने का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि भारत इस पहल में इस देश में कृषि की आधारभूत संरचना और उत्पादकता बढ़ाने में सहयोगी बनेगा । उन्होंने कहा, ‘‘हम इसे तीव्र गति से आगे बढ़ाने पर सहमत हुए हैं। ’’ मोजांबिक को अफ्रीका का द्वार करार देते हुए मोदी ने कहा कि इस महादेश में भारत का एक चौथाई निवेश इस देश में है। उन्होंने कहा कि द्विपक्षीय कारोबार का बढ़ना जारी है और इस संबंध में एक पोषण करने वाला माहौल प्रदान करने की जरूरत है।

इसे भी पढ़िए :  जानिए- सउदी अरब जाने वाले 87 फीसदी भारतीय क्यों परेशान हैं ?

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY