ढाका के रेस्टोरेंट में मुंबई जैसा हमला, 20 विदेशी नागरिकों की हत्या

0

बांग्लादेश के ढाका में एक रेस्टोरेंट में बीती रात हुए आतंकी हमले और रेस्क्यू ऑपरेशन में कुल 20 लोगों की मौत हुई है। ये खुलासा सेना के अधिकारियों ने किया। हालांकि 13 बंधकों को सेना ने मुक्त कराया जबकि 6 आतंकी मार गिराए। एक आतंकी को जिंदा भी पकड़ा है।
इस ऑपरेशन के बाद देश को संबोधित करते हु़ए पीएम शेख हसीना ने कहा, सुरक्षा बलों ने बेहतरीन ऑपरेशन को अंजाम दिया। कुल 6 आतंकी मारे गए और एक को जिंदा पकड़ा गया।
कल रात 9.20 बजे के करीब बांग्लादेश की राजधानी ढाका के पॉश रेस्टोरेंट पर आतंकी हमला हुआ। इसके बाद सुरक्षा बलों ने स्पेशल ऑपरेशन चलाया और सभी 13 बंधकों को सुरक्षित बचा लिया। इसमें 6 आतंकवादी मारे गए और एक को जिंदा भी पकड़ लिया।

इसे भी पढ़िए :  MCD चुनाव में करारी हार के बाद केजरीवाल को लगा 'THE END' का डर, ऐसे कर रहे हैं डैमेज कंट्रोल

ढाका के उच्च सुरक्षा वाले राजनयिक क्षेत्र के एक रेस्तरां में चल रहा बंधक संकट आज उस वक्त खत्म हो गया जब भारी हथियारों से लैस बांग्लादेशी कमांडो ने इस रेस्तरां पर धावा बोला और इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों को मार गिराया। इस रेस्तरां में विदेशी नागरिकों सहित कई लोगों को 13 घंटे से अधिक समय तक बंधक बनाये रखा गया था।
ढाका के गुलशन राजनयिक क्षेत्र के होले आर्टिजन बेकरी में बंधक संकट को खत्म करने के लिए कमांडो ने आज सुबह अभियान शुरू किया। कैफे पर धावा बोलने वाली विशिष्ट सुरक्षा इकाई रैपिड ऐक्शन बटालियन (आरएबी) के कमांडो तुहीन मोहम्मद मसूद ने बताया कि कई लोग हताहत हुए हैं जिनमें छह हमलावर शामिल हैं। मसूद ने संवाददताओं से कहा, हमने छह आतंकवादियों को मार गिराया है। रेस्तरां से कुल 13 लोगों को बचाया गया।
IS के आतंकियों ने ढाका के एक रेस्टोरेंट में 13 लोगों को बंधक बनाया था। इन बंधक लोगों में एक भारतीय लड़की भी थी। मेट्रोपोलिटन पुलिस के उपायुक्त मोहम्मद जशीम ने कहा कि रेस्तरां से बचाए गए लोगों में भारतीय, श्रीलंकाई और जापानी नागरिक हैं। आरएबी के एक अधिकारी ने कहा कि कम से कम छह शव बरामद किए गए हैं, हालांकि उन्होंने इसकी पुष्टि नहीं की है कि ये शव बंधकों के हैं या बंदूकधारियों के हैं।

इसे भी पढ़िए :  जम्मू-कश्मीर: पुलिसवालों को मिली कुछ महीने घर से दूर रहने की एडवाइजरी, पढ़िए-आखिर क्यों?

बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने कहा, रमजान में मारने वाले मुसलमान कैसे हो सकते हैं। इस घटना की मीडिया कवरेज से नुकसान हुआ। हमने दुनिया के तमाम देशों में हुई आतंकी घटनाओं में मीडिया कवरेज से हुए नुकसान को देखते हुए इसकी कवरेज पर पाबंदी लगाई थी लेकिन कुछ निजी मीडिया चैनल लगातार कवरेज करते रहे, इससे देश को और इस ऑपरेशन को नुकसान हुआ। हसीना ने कहा, लोग कट्टर सोच का विरोध करें। हम ऐसी घटनाएं नहीं होने देंगे। बांग्लादेश किसी भी धर्म के खिलाफ हिंसा का विरोध करता है।

इसे भी पढ़िए :  जाकिर को मिल सकती है क्लीन चिट

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY