नितिन गड़करी बोले ‘गले की हड्डी बन गया “अच्छे दिन” का नारा’

0
अच्छे दिन
Prev1 of 2
Use your ← → (arrow) keys to browse

साल 2014 का लोकसभा चुनाव, इस चुनाव में पीएम नरेन्द्र मोदी ने अपनी रैलियों में सबसे ज्यादा अच्छे दिन का नारा दिया। मोदी का कहना था कि अगर देश में बीजेपी की सरकार बनी तो जनता के अच्छे दिन आएंगे। लेकिन मोदी के अच्छे दिन वाले नारे की बखिया उधेड़ने में लगे हैं अब उन्हींं की पार्टी के मंत्री। जी हां सरकार बने एक साल भी नहीं हुआ था कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अच्छे दिन के नारे को एक चुनावी शिगुफा बताकर राजनीतिक विवाद को हवा दी थी। अब एक बार फिर इसी तरह का बयान सामने आया है केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गड़करी की तरफ से। अब मोदी सरकार के रोड ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर नितिन गडकरी ने ‘अच्छे दिन’ के नारे को सरकार के गले में फंसी हड्डी बता दिया।

इसे भी पढ़िए :  वित्त मंत्री बना दिया जाए तो जेटली से बेहतर साबित होऊंगा- सुब्रमण्यम स्वामी

‘अच्छे दिन का नारा हमारा नहीं मनमोहन सिंह का था’ – नितिन गड़करी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ‘अच्छे दिन’ का मशहूर नारा दरअसल पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दिया था, उन्होंने कहा था कि “प्रवासी भारतीयों के प्रोग्राम में मनमोहन ने कहा था कि अच्छे दिनों के लिए इंतजार करना होगा। उसी के जवाब में नरेंद्र मोदी ने कहा था कि हमारी सरकार आएगी, तो अच्छे दिन आएंगे। उस वक्त ‘अच्छे दिन’ की कल्पना रूढ़ हो चुकी थी। यह बात मुझे पीएम मोदी ने ही बताई थी।” लेकिन यह नारा अब मोदी सरकार की गर्दन का ‘बोझ’ बन गया है।

इसे भी पढ़िए :  अब यातायात नियम तोड़ने वालों की खैर नहीं, सरकार ने भारी जुर्माने के प्रावधान वाले कानून को मंजूरी दी

अच्छे दिन के नारे के बारे में और क्या कुछ बोले नितिन गड़करी, पढ़िए अगली स्लाइड में, next बटन पर क्लिक करें-

Prev1 of 2
Use your ← → (arrow) keys to browse

इसे भी पढ़िए :  RSS के स्थापना दिवस पर बदल गई ड्रेस