राजस्थान की कड़वी हकीकत, शादी की उम्र से पहले ही विधवा हो गई कई हजार बच्चियां

0
बाल विवाह
Prev1 of 2
Use your ← → (arrow) keys to browse

बाल विवाह एक कानूनी जुर्म है। ये आवाज़ दशकों से उठाई जा रही है, सरकार इस रूढ़ीवादी सोच को बदलने के लिए अभियान चलाती है, इसके लिए पैसा खर्च करती है, बावजूद इसके अभी भी हमारे देश के दबे कुचले इलाकों में छोटे बच्चे बाल विवाह की भट्टी में ढकेल दिए जाते हैं। जिसके बाद उनका बचपन पारिवारिक जिम्मेदारियों और काम के बोझ तले दबकर रह जाता है। हालांकि हमारे कानून में भी बाल विवाह कराने वालों के खिलाफ सख्त सज़ा के प्रावधान हैें। बावजूद इसके इस सामाजिक बुराई पर अभी भी पूरी तरह जीत हासिल नहीं की गई है।

इसे भी पढ़िए :  गंगा को स्वच्छ करने में फेल हो गई बड़ी-बड़ी सरकारें ! बह गए करोड़ों रूपये लेकिन नतीजा शून्य, देखिए पूरी तहकीकात

हाल ही में मैरिटल स्टेस पर सामने आई एक सेंसस रिपोर्ट में बास विवाह से जुड़े कई सनसनीखेज़ तथ्य सामने आए हैं। रिपोर्ट बताती है कि रिपोर्ट के मुताबिक, इसी उम्र सीमा के भीतर करीब 3,506 ‘विडो’ हैं व 2,855 ‘सेपरेटेड’ हैं। दंपतियों के बीच अलगाव की समस्या व समाधान को लेकर एक सर्वे किया गया। इसमें सामने आया कि 10 साल से लेकर 14 साल की उम्रसीमा में 2.5 लाख विवाहित लोग हैं व 15-19 साल के बीच इनकी संख्या 13.62 लाख है।

इसे भी पढ़िए :  कर्ज में डूबे किसान ने संसद के सामने खाया जहर

आगली स्लाइड में पढ़ें – बाल विवाह पर आधारित इस रिपोर्ट की पूरी सच्चाई

Prev1 of 2
Use your ← → (arrow) keys to browse

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY