अब वायुसेना बनाएगी देशी विमानों का स्क्वाड्रन

0

वायुसेना एक जुलाई से देशी विमानों का बेड़ा बनाने जा रही है। वायुसेना भारत में ही स्वदेशी तकनीक से निर्मित विमान ‘तेजस’ का एक अलग से स्क्वाड्रन तैयार करेगी। अपने इतिहास में ऐसा पहली बार होगा जब भारत के पास स्वदेश निर्मित विमानों का अपना एक अलग से स्क्वाड्रन होगा। शुरूआती दौर में इस बेडे में 2 तेजस विमान होगे। मार्च 2017 तक इसमें 6 और तेजस विमानों को शामिल किया जाएगा। देश में ही निर्मित ये अत्याधुनिक विमान रूस निर्मित ‘मिग-21’ विमानों की जगह लेगा। इस विमान का इस्तेमाल हवा से हवा में मार करने और जमीनी हमले में किया जाएगा। सरकार की योजना के मुताबिक शुरूआत में 20 विमानों को ‘प्रारंभिक परिचालन मंजूरी’ के तहत शामिल किया जाएगा। वायुसेना की योजना 80 विमानों को शामिल करने की है। जिसे तेजस 1ए के नाम से जाना जाएगा। तेजस के इस आधुनिक संस्करण की लागत 275 करोड़ से 300 करोड़ होगी।

इसे भी पढ़िए :  आओ मिलकर वायु सेना को करें सलाम, आज है 84वां वायु सेना दिवस

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY