भगवंत मान मामला- फ़िर बढ़ी जांच समिति की अवधि

0
भगवंत मान

नई दिल्ली : भगवंत मान द्वारा संसद भवन की वीडियोग्राफी किए जाने के मुद्दे की जांच कर रहे लोकसभा पैनल की अवधि नवंबर के अंत तक के लिए बढ़ा दी गई है। पैनल के अध्यक्ष किरीट सोमैया ने कहा, ‘अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने भगवंत मान के आचरण संबंधी जांच के लिए गठित समिति की अवधि शीत सत्र के पहले सप्ताह के अंत तक के लिए बढ़ा दी है।’ संसद का शीत सत्र आम तौर पर नवंबर के तीसरे सप्ताह में शुरू होता है।

इसे भी पढ़िए :  जेटली को GST पर सहमति बनने की उम्मीद

इस माह की शुरूआत में इस पैनल को दो सप्ताह का विस्तार दिया गया था और इसने कल अपनी रिपोर्ट देनी थी। आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान वीडियो बनाते हुए जिस द्वार से होकर उच्च सुरक्षा क्षेत्र में दाखिल हुए थे, पैनल ने उस द्वार पर तैनात सुरक्षाकर्मियों की पिछले सप्ताह बात सुनी थी।
इसे भी पढ़िए- जयपुर में लहराया पाकिस्तानी झंडा, गिरफ़्तार, नाम सुनकर हैरान हो जाएंगे
इन सुरक्षाकर्मियों को बुलाने के पीछे का उद्देश्य यह पता लगाना था कि सुरक्षा तंत्र में कहीं किसी किस्म की खामी तो नहीं थी और जिस दिन आप सांसद परिसर में घुसे थे, उस दिन असल में हुआ क्या था? सोमैया ने पहले कहा था कि समिति अपनी रिपोर्ट दो हिस्सों में दायर करेगी- एक रिपोर्ट संसद की सुरक्षा के का खुलासा करने में भगवंत मान की भूमिका के बारे में होगी और दूसरी रिपोर्ट सुधारात्मक उपाय बताने वाली होगी।नौ सदस्यों वाली इस समिति का गठन उस घटना की जांच के लिए किया गया था, जिसे कई लोगों ने संसद भवन परिसर की सुरक्षा का ‘गंभीर उल्लंघन’ करार दिया था। कई सांसदों ने संसद भवन परिसर की वीडियोग्राफी करने और इसकी ‘संवेदनशील फुटेज’ को सोशल मीडिया पर डालने संबंधी भगवंत मान के ‘अनुचित आचरण’ पर सवाल उठाए थे।

इसे भी पढ़िए :  कांग्रेसियों ने प्रियंका गांधी को बताया दुर्गा, पोस्टर पर छिड़ गया विवाद

मामले की गंभीरता को देखते हुए लोकसभा अध्यक्ष ने संगरूर से ‘आप’ के सांसद भगवंत मान से कहा था कि जब तक इस मामले में फैसला नहीं आ जाता, तब तक वह सदन की बैठकों में हिस्सा न लें।

इसे भी पढ़िए :  जब बिना वीजा के ही भारत पहुंच गए उबर के सीईओ, पढ़िए क्या हुआ?

 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY