कश्मीर हिंसा में अब तक 34 की मौत, कर्फ्यू जारी, बंद है इंटरनेट

0

नई दिल्ली। कश्मीर में अब भी हालात समान नहीं हुए हैं। पंपोर और कुपवाड़ा शहरों समेत कश्मीर घाटी के कई हिस्सों में कर्फ्यू जारी है। वहीं शेष घाटी में लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध बरकरार है। प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच हुइ झड़पों में मरने वालों की संख्या 34 हो गई है।

अधिकारियों ने झड़पों में सात और लोगों की मौत की पुष्टि कर दी है। ये झड़पें आतंकी बुरहान वानी की एक मुठभेड़ में हुई मौत के बाद शुक्रवार शाम को शुरू हुई थीं।

इसे भी पढ़िए :  जम्मू-कश्मीर के अरवानी में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़, लश्कर के 3 आतंकी ढेर

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा, मृतक संख्या अब बढ़कर 34 हो चुकी है और इसमें भीड़ की हिंसा में मारा गया एक पुलिसकर्मी भी शामिल है। इसमें एक घायल नागरिक भी शामिल है, जिसने बुधवार सुबह एसकेआईएमएस अस्पताल में दम तोड़ दिया।

उन्होंने कहा कि अधिकतर मौतें शनिवार को हुईं। उस दिन भीड़ ने पुलिस पर और दक्षिण कश्मीर में सुरक्षा प्रतिष्ठानों पर हमला किया था। लेकिन सभी मौतों की वजहों का पता नहीं लगाया जा सका क्योंकि परिस्थितियों के चलते कानून प्रवर्तन एजेंसियां जानकारी नहीं जुटा सकीं।

इसे भी पढ़िए :  बिलख उठा शहीद मनदीप का गांव, भाई ने मांगा दुश्मन का सिर, पत्नी बोली खत्म कर दो पूरा पाकिस्तान

कश्मीर के मंडल आयुक्त असगर समून ने कल कहा था कि झड़पों में मरने वाले नागरिकों की संख्या 22 है। हालिया आंकड़ों के मुताबिक, अधिकतर मौतें अनंतनाग जिले (16) में हुईं। इसके बाद कुलगाम (8), शोपियां (5), पुलवामा (3), श्रीनगर (1) और कुपवाड़ा (1) का स्थान है।

पंपोर, कुपवाड़ा और अनंतनाग समेत घाटी के कई हिस्सों में कर्फ्यू जारी है और शेष घाटी में लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगे हुए थे। सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ों में नागरिकों की मौतों का विरोध करने के लिए अलगाववादियों ने बंद आयोजित किया है। इसके चलते आज लगातार पांचवे दिन भी सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ। बंद के चलते दुकानें और कारोबारी प्रतिष्ठान बंद रहे जबकि सार्वजनिक और निजी यातायात सड़कों से नदारद रहे।

इसे भी पढ़िए :  दहशत में पाक! 50 आतंकियों के खात्मे के बाद PoK छोड़कर भागे कई आतंकी संगठन

मोबाइल इंटरनेट और रेल सेवाएं अब भी निलंबित हैं जबकि कल प्रदर्शनों के दौरान एक युवक की मौत के बाद कुपवाड़ा इलाके में मोबाइल फोन सेवा बंद कर दी गई है। दक्षिण कश्मीर के चार जिलों में मोबाइल फोन सेवा आंशिक तौर पर निलंबित की गई है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY