500 रुपये देकर बच्चों से रखवाया बम, आगे क्या हुआ पढ़िए पूरी खबर

0
बच्चों से बम

गुवाहाटी : 500 रुपये देकर बच्चों से बम रखवाया जा रहा है।उल्फा उग्रवादी हिंसा और हत्या का अपना अजेंडा पूरा करने के लिए लोगों की गरीबी का फायदा उठा रहे हैं। इस स्वतंत्रता दिवस पर जिस तरह उन्होंने 500-500 रुपये देकर 2 स्कूली छात्रों से बम रखवाया, उससे यह साफ होता है कि उल्फा उग्रवादी गरीबी से जूझ रहे लोगों का इस्तेमाल कर रहे हैं।

नवभारत टाइम्स के खबर के मुताबिक राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) का एक 10-सदस्यीय दल गुरुवार को तिनसुकिया जिले में पहुंचा। परेश बरुआ के नेतृत्व वाले उल्फा के निर्देश पर 2 बच्चों ने जो बम प्लांट किए थे, उनमें से कुछ की तलाश पुलिस नहीं कर पा रही है। इसी में मदद के लिए NIA यहां पहुंचा है। इन बमों में 15 अगस्त को ही धमाका होना था, लेकिन उग्रवादियों ने जिस जगह पर बम प्लांट करने कहा था, वहां ना रखकर बच्चों ने उन बमों को नाले और कूड़ेदान में फेंक दिया था।
इसे भी पढ़िए- खबर जिसका 70 साल से इंतज़ार था – अब पाक अधिकृत कश्मीर में चुनाव कराएंगे मोदी
जिन 2 किशोरों को उग्रवादियों ने इस्तेमाल किया, उनमें से एक 15 वर्षीय किशोर 9वीं कक्षा में और दूसरा 10वीं क्लास में पढ़ता है। दोनों को गिरफ्तार पर बाल सुधार गृह भेज दिया गया। इन किशोरों ने जो 5 बम प्लांट किए थे, वे दूमदूमा शहर के बायपास के पास बने एक पुल के नीचे रखे गए थे। तिनसुकिया की SP मुग्धाज्योति महांता ने बताया, ‘NSG की टीम दोपहर 3 बजे तिनसुकिया पहुंच गई। हम बम को नहीं खोज पा रहे थे। इसीलिए हमने उनसे मदद मांगी।’ महांता ने बताया कि दोनों स्कूली छात्रों का उग्रवादी संगठन से कोई संबंध नहीं है।

इसे भी पढ़िए :  सिसोदिया का आरोप- केजरीवाल, जैन और मुझे गिरफ्तार करने की साजिश बना रहा है केंद्र

महांता ने बताया, ‘उग्रवादी इन दोनों किशोरों से मिले और उन्हें बम प्लांट करने के बदले 500 रुपये दिए। किशोरों को दूमदूमा पुलिस थाने, बाजार और बायपास पुल के नीचे बम रखने का कहा गया था। उग्रवादियों ने उनसे यह भी कहा कि इस काम के बदले वे दुर्गापूजा में उन्हें तोहफे भी देंगे। किशोरों ने स्वीकार किया कि उन्हें उग्रवादियों से बम लिया, लेकिन फिर उन्हें सूनसान जगहों पर छोड़ दिया। बच्चे नहीं चाहते थे कि धमाकों में लोग मरें या फिर घायल हों। किशोरों को पता था कि उन्हें जो प्लांट करने कहा गया है, वह बम है।’

इसे भी पढ़िए :  शिवसेना की सरकार को नसीहत, 'अगर लेते हो सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय तो जवानों की शहादत को भी करो स्वीकार'

 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY