शरीफ भी सईद के साथ

0

नई दिल्ली : हिजबुल मुजाहिदीन के इनामी आतंकी बुरहान वानी की मौत पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से शराफत का नकाब उतर गया है। भारत से दोस्ती का दम भरने और आतंकवाद को जड़ से उखाड़ फेंकने का दावा करने वाले शरीफ ने उसकी मौत पर मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद से सुर मिलाते हुए शोक जताया है। इतना ही नहीं, पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने इस्लामाबाद में तैनात भारतीय उच्चायुक्त गौतम बंबावले को तलब कर लिया है। पाक सरकार के इस रुख को भारत सरकार ने भड़काने वाला माना है। विदेश मंत्रलय ने हमारे अंदरूनी मामलों में दखल न देने को चेताया है। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी केन्या में आतंकवाद के खिलाफ भारत के कठोर रुख को फिर से जाहिर किया। मोदी ने कहा कि विश्व को उन लोगों के खिलाफ सख्त रुख अपनाना होगा जो आतंकियों को न केवल संरक्षण और मदद देते हैं बल्कि आतंकवाद को राजनीतिक हथकंडे का हिस्सा बनाए हुए हैं।
srinagar-riots1

इसे भी पढ़िए :  दुनिया के सबसे 'खतरनाक' देशों की लिस्ट में पाकिस्तान चौथे नंबर पर

विदेश मंत्रलय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि हमने पाकिस्तान की तरफ से आए बयान देखे हैं। इनसे आतंकवाद से पाकिस्तान के लगातार जुड़ाव ही साबित होते हैं। आतंकी तत्वों के साथ पाकिस्तान की हमदर्दी से साफ है कि आतंकवाद को प्रश्रय देते रहना पाकिस्तान सरकार की नीति का हिस्सा है। उन्होंने कड़े शब्दों में पाकिस्तान को भारत के आंतरिक मामलों में दखल देने से परहेज करने को कहा। दरअसल, हाल ही में लंदन में ओपन हार्ट सर्जरी कराकर पाकिस्तान लौटे नवाज शरीफ कश्मीर में दस लाख के इनामी आतंकवादी बुरहान वानी की मौत से इतने आहत हो गए कि उन्होंने बयान जारी कर भारत पर बेबुनियाद आरोप मढ़ दिए। उन्होंने यहां तक कह दिया कि जम्मू-कश्मीर में निर्दोष नागरिकों पर गैरकानूनी तरीके से बल प्रयोग किया जा रहा है। बकौल शरीफ, ‘इस तरह के दमनकारी कदमों से जम्मू-कश्मीर के लोगों को उनके जनमत संग्रह के अधिकार से विमुख नहीं किया जा सकता है।’ नवाज ने कश्मीर के अलगाववादी नेताओं की नजरबंदी को मानवाधिकार का उल्लंघन कह डाला। इस बीच, मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के बयान का स्वागत करते हुए कहा कि अब शरीफ सरकार को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर इस मसले को उठाना चाहिए। सईद ने मुठभेड़ में मारे गए आतंकवादी वानी के समर्थन में रविवार को रैली की थी। उसके साथ हिजबुल मुजाहिदीन का चीफ सैयद सलाउद्दीन भी था। जमात-उद-दावा के प्रमुख सईद ने आगामी शुक्रवार को लाहौर में बुरहान वानी के लिए नमाजे जनाजा पढ़ने का भी एलान किया है।

इसे भी पढ़िए :  जरूरी दस्तावेज देने पर ओवैसी की पार्टी को मान्यता मिल सकता है: महाराष्ट्र चुनाव आयोग

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY