पंजाब में जीत की तरफ बढ़ते केजरीवाल के कदम…!

0

खबर है कि पंजाब में चुनाव भले ही अगले साल हों, लेकिन अरविंद केजरीवाल की लोकप्रियता वहां बढ़ती जा रही है। खासतौर से युवाओं के बीच केजरीवाल काफी लोकप्रिय हो रहे हैं। दिल्ली में केजरीवाल की सरकार हर रोज़ नए विवादों से घिरी रहती है, हाल ही में पंजाब में भी केजरीवाल के 2 विधायकों पर मामला दर्ज किया जा चुका है। पंजाब में पोस्टर को लेकर भी केजरीवाल की फजीहत हो चुकी है। लेकिन जनता को कहीं न कहीं लगता है कि केजरीवाल एक इमानदार इंसान हैं और उनके अंदर सत्ता संभालने की ताकत है। इसी के चलते केजरीवाल पंजाब में खास जगह बनाते जा रहे हैं। चलिए आपको दिखाते हैं कि अपनी खोई हुई छवि को फिर से बनाने के लिए केजरीवाल क्या कुछ हथकंडे अपना रहे हैं।

इसे भी पढ़िए :  राज ठाकरे की पार्टी MNS की गुंडागर्दी सामने आई, उत्तर भारतीयों के साथ बेरहमी, देखें तस्वीरें

सिखों की धार्मिक भावनाएं कथित रूप से आहत करने के मामले में राजनीतिक दलों द्वारा अपनी पार्टी की आलोचनाओं के बीच आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 18 जुलाई को स्वर्ण मंदिर में जाकर सेवा करने का फैसला किया है। आम आदमी पार्टी के सदस्य और उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता एचएस फुल्का ने शुक्रवार को यहां जारी एक बयान में कहा, ‘‘विनम्र सेवक और एक सच्चे आम आदमी की तरह केजरीवाल 18 जुलाई, 2016 को श्री हरमंदर साहिब, अमृतसर में सेवा करेंगे।’’

इसे भी पढ़िए :  राजस्थान: दिल्ली CM केजरीवाल पर छात्र नेता ने फेंकी स्याही

जनसत्ता की खबर के मुताबिक पंजाब में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों के बाद अकाली दल-भाजपा से सत्ता अपने हाथ में लेने के लिए पूरी ताकत झोंक रही आप कथित तौर पर सिखों की धार्मिक भावनाएं आहत करने के मामले में राजनीतिक विरोधियों की आलोचनाओं का सामना कर रही है। पंजाब में युवाओं के लिए अपने चुनावी घोषणापत्र के आवरण पर स्वर्ण मंदिर की तस्वीर का इस्तेमाल करने और इस पर अपने चुनाव चिह्न ‘झाड़ू’ की तस्वीर छापने के मामले में पार्टी आलोचनाओं का सामना कर रही है।

इसे भी पढ़िए :  17 साल का उत्तराखंड लेकिन 9वीं बार मुख्यमंत्री का चयन, पढ़िए नए CM के सामने पहाड़ों की चुनौतियां

आप के घोषणापत्र की तुलना कथित रूप से गुरू ग्रंथ साहिब और अन्य धार्मिक पुस्तकों से करने को लेकर आप नेता आशीष खेतान कांग्रेस और अकाली दल-भाजपा समेत राजनीतिक विरोधियों के निशाने पर हैं। खेतान अपनी गलती को स्वीकार करते हुए माफी मांग चुके हैं, उसके बावजूद अकाली दल-भाजपा और कांग्रेस ने आप पर जोरदार तरीके से हमले जारी रखे हैं। खेतान की माफी को खारिज करते हुए अकाली दल ने इस मुद्दे पर केजरीवाल से माफी मांगने को कहा है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY