पूर्व विधायक की भांजी का खौफनाक कारनामा…पहले पति को लगाया ठिकाने फिर करने चली ये काम

0
पति

मोहाली में एक पत्नी ने अपने भाई की मदद से अपने पति की कथित तौर हत्या कर दी। हत्या का मामला उस समय सामने आया जब….. 6 फीट साढ़े 3 इंच के एकम की लाश को दो बाय ढाई फीट के सूटकेस में डालकर उसकी पत्नी सीरत ठिकाने लगाने जा रही थी। पुलिस ने बताया कि एकम सिंह ढिल्लो का शव मोहाली स्थित उसके किराए के मकान के पास एक बीएमडब्ल्यू कार के अंदर एक सूटकेस से बरामद किया गया है।

एकम सिंह नाम के शख्स की हत्या के आरोप में पत्नी सीरत ढिल्लो, उसकी मां जसविंदर कौर और भाई विनय प्रताप बरार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। एकम के पिता के बयान के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज किया। हत्या की वजह का खुलासा अभी नहीं हो सका है। पुलिस ने सीरत की लाइसेंसी बंदूक भी जब्त कर ली है। पुलिस को शक है कि हत्या में इसी हथियार का प्रयोग किया गया है।

मृतक के पिता का बयान

मृतक एकम के पिता जसपाल सिंह ने पुलिस को बताया कि मुझे आभास हो रहा था कि कुछ गलत होने वाला है। लेकिन यह नहीं सोचा था कि एकम का मर्डर कर देंगे। छोटे बेटे दर्शनसिंह के साथ मौके पर पहुंचे पिता को भरोसा नहीं हो रहा था कि शनिवार रात 10 बजे उनसे मिलकर लौटा एकम सुबह इस हालत में मिलेगा। उन्होंने बताया कि एकम कई दिनों से परेशान था। शनिवार शाम को वह मेरे पास आया था। वह काफी परेशान दिख रहा था। जब मैंने उससे इस परेशानी का कारण पूछा तो वह रोने लगा। उसने मुझे बताया कि वह दो दिन से भूखा है। उसने कुछ नहीं खाया है। एकम ने पिता को कहा कि पत्नी सीरत और सास जसविंदर कौर उसे बहुत डराती हैं और कहती है कि तुम्हें गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। इसके बाद मैं बेटे एकम के लिए फल खरीदने मार्केट चला गया, लेकिन जब लौटा तो एकम जा चुका था। मैंने सोचा सुबह उससे बात करूंगा, लेकिन उससे पहले ही यह हो गया।

इसे भी पढ़िए :  किरण बेदी ने पलटा मुख्यमंत्री का फैसला

कातिल पत्नी का कबूलनामा

मुख्य आरोपी सीरत ने पुलिस को बताया कि उसने भाई विनय और उसके एक दोस्त के साथ मिलकर एकम की हत्या की। एकम की हत्या शनिवार रात 11 बजे की गई। उन्होंने लाश को कार में रखकर नहर में फेंकने की योजना बनाई थी, लेकिन कार की चाबी नहीं मिलने की वजह से प्लान चेंज करना पड़ा और इसके बाद रविवार को लाश को ठिकाने लगाने का फैसला किया गया। सीरत ने बताया कि लाश को ठिकाने लगाने के लिए एक सूटकेस में डाला और घर के बेडरूम से नीचे कार पार्किंग में लाई। वजन ज्यादा होने के कारण वह सूटकेस को नीचे तक घसीट कर लाई।

इसे भी पढ़िए :  रावी नदी में हिचकोले खाती पाकिस्तानी नाव पर BSF ने कसा शिकंजा, जांच जारी

खूनी पत्नी का कैसे हुआ खुलासा ?

डिप्टी एसपी सिटी-1 आलम विजय सिंह ने बताया कि ऑटो रिक्शा ड्राइवर ने सीरत की मदद की और सूटकेस को गाड़ी की रियर सीट पर रखवाया। इस दौरान उसे हाथ में खून लगा दिखा। जिस पर उसे कुछ शक हुआ और उसने तुरंत इस बात की जानकारी पास खड़ी पीसीआर वैन को दी। जानकारी के बाद जब पुलिस वहां पहुंची तो देखा कि सूटकेस गाड़ी में रखा हुआ था और कार का दरवाजा खुला था। सूटकेस को खोलने के बाद एकम की लाश बरामद हुई। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि एकम और सीरत के बीच कुछ साल से रिश्ते तनावपूर्ण थे। दोनों का एक 11 साल का बेटा और एक 6 साल की बेटी है।

इसे भी पढ़िए :  आंध्र, असम में भारी बारिश, बाढ़ की वजह से सात की मौत

पूर्व विधायक की सगी भांजी है सीरत

पुलिस बताया कि सीरत ने कबूल किया है कि उसने माउजर गन ने एकम की हत्या की है, जो कि उसके नाम रजिस्टर है। जल्द ही अन्य आरोपियों को भी गिरप्तार किया जाएगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक सीरत कौर को सरदूलगढ़ के पूर्व विधायक अजीत सिंह मोफर की सगी भांजी बताया जा रहा है। मोफर अकाली दल के कद्दावर नेता माने जाते थे जो कि अकाली दल छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे। मोफर को कैप्टन अमरिंदर सिंह का करीबी माना जाता है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY