पीएम के बलूचिस्तान पर दिए बयान पर भड़के पाक नेता बिलावल

0
बलूचिस्तान

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के मुख्य विपक्षी नेता बिलावल भुट्टो ने अपनी खीझ निकालते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बलूचिस्तान के बारे में बात करने से पहले कश्मीर में भारत द्वारा किए जा रहे कथित अत्याचार की जवाबदेही लेनी चाहिए और उन्होंने किसी भी कीमत पर देश की संप्रभुता को बनाए रखने का निश्चय किया।

मोदी द्वारा 15 अगस्त को लाल किले के प्राचीर से बलूचिस्तान और गिलगित-बाल्टिस्तान के बारे में दिए गए बयान पर एतराज जताते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के शब्द बहुत ही भड़काऊ, गैर जिम्मेदाराना और उत्तेजक हैं.

इसे भी पढ़िए :  नोट बैन: राहुल ने कहा नहीं रखा मोदी ने आम लोगों का ध्यान

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल ने बेसुरा राग अलापते हुए कहा, ‘‘मोदी को कश्मीर और भारत में कश्मीरियों, मुसलमानों और दलितों के खिलाफ लगातार हो रहे अत्याचार के लिए पहले अंतरराष्ट्रीय समुदाय के प्रति जवाबदेह होना चाहिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘बलूचिस्तान लोकतांत्रिक पाकिस्तान का अभिन्न हिस्सा है और किसी तानाशाह की गलतियां भारतीय प्रधानमंत्री को हमारे अंदरूनी मामलों में बोलने का अधिकार नहीं देतीं.’’

इसे भी पढ़िए :  एनएसजी की सदस्यता पाने के लिए पाक ने भारत को परमाणु परीक्षण नहीं करने की व्यवस्था की पेशकश की

उन्होंने कहा कि पिछले दो महीने से कश्मीर कर्फ्यू में है और कई निर्दोष कश्मीरियों की मौत हुई है. बिलावल ने कहा, ‘‘पाकिस्तान में मोदी के कुछ यार हो सकते हैं लेकिन पाकिस्तान के लोग बलूचिस्तान या पाकिस्तान के अन्य किसी अभिन्न हिस्से के खिलाफ ऐसी भाषा नहीं बर्दाश्त करेंगे. हम एक संप्रभु राष्ट्र हैं और हमारे पास अपनी संप्रभुता को किसी भी कीमत पर बनाए रखने के लिए सभी उपाय हैं.’’

इसे भी पढ़िए :  ब्रह्मपुत्र बांध से भारत में प्रवाह प्रभावित नहीं होगा : चीन

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी ने पाकिस्तान की सभी लोकतांत्रिक शक्तियों के साथ मिलकर मोदी के इस अपमानजनक बयान की निंदा की है और उनसे कश्मीर मुद्दे पर हीलाहवाली करने एवं इसे लंबा खींचने के बजाय वहां के लोगों को आत्मनिर्णय का अधिकार देने की मांग की है. बिलावल ने शिकायती अंदाज में कहा कहा, ‘‘दुनिया के सबसे विस्फोटक मुद्दे कश्मीर से ध्यान बंटाने की कोशिश कामयाब नहीं होगी.’’

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY