बृहस्पति की कक्षा में पहुंचा जूनो, नासा में कामयाबी का जश्न

0

अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा को एक बड़ी सफलता हाथ लगी है। नासा का जूनो नाम का उपग्रह पांच साल के सफर के बाद जूपिटर यानी बृहस्पति की कक्षा में सफलतापूर्वक दाख़िल हो गया है। बीबीसी हिंदी की खबर के मुताबित जूनो से इसका रेडियो संदेश मिलते ही नासा के कैलिफ़ोर्निया के पासाडेना स्थित मिशन कंट्रोल रूम में ख़ुशियों मनाई जा रही हैं।

इसे भी पढ़िए :  स्वतंत्रता दिवस पर दिल्ली में आसमान से जमीन तक अभूतपूर्व सुरक्षा घेरा

ग़ौरतलब है कि से संदेश 80 करोड़ किलोमीटर की दूरी से पृथ्वी पर मिला। जूनो के मिशन कंट्रोल ने घोषणा की, ”’रोगर जूनो, जूपिटर पर आपका स्वागत है।”जूनो अगले क़रीब डेढ़ साल तक बृहस्पति के चक्कर लगाएगा। इस दौरान जूनो यह पता लगाएगा कि बृहस्पति बना कैसे था। अपना काम पूरा करने के बाद जूनो बृहस्पति के वातावरण में दाखिल होकर ख़ुद को ख़त्म कर लेगा। आपको बता दें कि नासा ने जूनो मिशन को 2011 में रवाना किया था। पांच साल बाद यानी 2016 में ये अपनी मंजिल तक पहुंच पाया है। इस मिशन पर क़रीब एक अरब डॉलर की लागत आई है।

इसे भी पढ़िए :  स्वच्छता के मामले में इंदौर टॉप पर, यूपी देश का सबसे गंदा राज्य

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY