Monday 17th of December 2018
डीएनए
136-Part-1

डीएनए

cobrapost |
March 26, 2018

अरूण शिंदे, साउथ रिजन हेड; आराध्या कुलश्रेष्ठ, मैनेजर स्पेशल इनिशिएटिव्स, डीएनए (डेली न्यूज़ एंड एनालेसिस); रजत कुमार, चीफ रिवेन्यू ऑफिसर, ज़ी सिनर्जी


साल 2005 में लॉन्च होने के बाद से लगातार मुंबई, अहमदाबाद, पुणे, जयपुर, बैंगलुरू और इंदौर से प्रकाशित होने वाला डीएनए..आज मुंबई में दूसरा सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला अंग्रेजी अखबार है। ज़ी और दैनिक भास्कर के ज्वाइंट वेंचर वाले डीएनए अखबार का मुंबई में जबरदस्त सर्कुलेशन है। हर रोज़ इसकी करीब 4,56,000 कॉपियां महानगर में बेची जाती हैं, इससे पता लगता है कि ये मायानगरी में कितना लोकप्रिय है खासकर एक ऐसे युग में जहां अखबारों में खबरों की जगह दिन-ब-दिन सिकुड़ती जा रही है। करीब एक दशक के भीतर इस अखबार ने जबरदस्त लोकप्रियता और प्रतिष्ठा हासिल की है। पुष्प शर्मा ने ये जानने की कोशिश की कि क्या वाकई डीएनए अखबार के मार्किटिंग अधिकारी भी इस प्रतिष्ठा को बनाए रखने में सजग हैं।

अफसोस की बात ये है कि अपने क्लाइंट को खुश करने के लिए अरूण शिंदे और उनकी सहयोगी आराध्या कुलश्रेष्ठ ने सभी नियमों को तक पर रख दिया था। ये जानने के लिए कि क्यो ये दोनों खुद फैसले लेने की क्षमता रखते हैं, पुष्प शर्मा ने इनसे कहा कि वो मार्किटिंग डिपार्टमेंट के किसी बड़े अधिकारी से मिलना चाहते हैं जिसकी बात में वजन हो और जिसके अंदर फैसले लेने की क्षमता हो। कुलश्रेष्ठ ने कहा, “So I am the sole person when it comes to the surrogate content marketing or surrogate …” इसके बाद पुष्प शर्मा ने इन्हें अपने एजेंडे के बारे में बताया शुरू किया। एजेंडे के तहत पुष्प ने इन्हें हिंदुत्व का प्रचार, विनय कटियार और मोहन भागवत जैसे बड़े हिंदुवादी नेताओं के भाषणों का प्रचार-प्रसार करने को कहा। साथ ही कार्टून की मदद से राहुल गांधी, अखिलेश यादव और मायावती के व्यक्तित्व की धज्जियां उड़ाने को भी बोला। जिस दौरान पुष्प शिंदे और कुलश्रेष्ठ से बातें कर रहे थे उस वक्त इन दोनों की जुबां से एका-एक “yeah yeah”, “okay”, “correct” जैसे शब्द सुनाई दे रहे थे। अपनी बातचीत के दौरान पुष्प ने इन दोनों से पूछा कि क्या आप समझ रहे हैं मैं क्या कहना चाहता हूं कुलश्रेष्ठ ने जवाब दिया कि “I have” पुष्प ने सवाल पूछा कि आप कैसे यू-ट्यूब औ सोशल मीडिया के माध्यम से हमारे बड़े हिंदुवादी नेताओं के भाषणों का प्राचर करेंगे। शिंदे ने जवाब दिया “We will do it parallel so …” पुष्प ने इन से combo के बारे में पूछा तो कुलश्रेष्ठ ने जवाब दिया “Going to be on all the pattern??? so if you are running anything on print it will be there on digital and will be there on other platform as well.” इसके बाद पुष्प ने इनसे कहा कि आपको प्रिंट और सोशल मीडिया के जरिए राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश यादव का कार्टून के जरिए मखौल उड़ाना होगा। पप्पू, बुआ और बबुआ जैसे नाम से इनके जरिए इनके चरित्र की धज्जियां उड़ानी होंगी। इस बात पर भी शिंदे और कुलश्रेष्ठ राजी हो गए। डील पक्की होने के बाद पैसे के लेन-देन पर चर्चा शुरू हुई। पुष्प ने इनसे पूछा कि क्या आप ज्यादातर पैसा कैश में ले सकते हैं। शिंदे ने yes, “We will figure that out.”  कहकर इस पर भी अपनी सहमति जताई। पुष्प ने इनसे एक और सवाल पूछते हुए कहा तो, आप अभियान के अगले चरण कैसे करेंगे? शिंदे ने जवाब दिया “We will design this first we will work out on this campaign will again meet … Will share the concepts with you … and then we will take it forward.” इसके बाद पुष्प ने इनसे कैंपने के तीसरे फेज़ यानि की आक्रामक रूप से मतदाताओं को प्रोत्साहित करने और ध्रुविकृत करने के बारे में पूछा तो शिंदे ने “Understood,” कहकर हामी भर दी और साथ में बैठी कुलश्रेष्ठ ने भी अपने सहयोगी की हां में हां मिलाते हुए ठीक है कह दिया।

पुष्प शर्मा ने ज़ी सिनर्जी के चीफ रिवेन्यू ऑफिसर रजत कुमार से भी मुलाकात की। ये भी डीएनए अखबार का कामकाज देखते हैं। ये मीडिया के पुराने जानकार हैं और सौदेबाजी के हर पैंतरे को बखूबी जानते हैं। जैसे ही पुष्प ने इन्हें अपने एजेंडे के बारे में बताया रजत ने सबसे पहले अपने बारे में बताना शुरू किया, कि वो कौन हैं, कहां ने इन्होंने काम की शुरूआत की और कैसे वो एक अभियान को रणनीतिक बना सकते हैं। तो हमें पता चला कि इन्होंने कई राजनीतिक अभियानों को देखा है, और इन्होंने सभी सरकारों के मीडिया अभियानों पर काम भी किया है ताकि जनता में उनकी अच्छी छवि को प्रस्तुत किया जा सके। यहां इन्होंने एक उदाहरण देते हुए बताया कि इन्होंने ही कोरेगांव प्रकरण के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़नवीस के मीडिया सलाहकार को दलितो के लिए सलाह देते हुए कहा, तो मैंने कहा कि अगर आप अगर उसको बढ़ने दोगे तो एक नया हार्दिक पटेल खड़ा होगा ठीक है... लेकिन उसके लिए अचानक से आप सोचोगे कुछ कर दोगे तो नहीं हो पाएगा... अभी से आपको काम करना पड़ेगा और काम करना पड़ेगा दलितों के लिए. आपको कुछ ऐसा फेस दिखाना पड़ेगा कि आप दलित को पूरे समाज को कनेक्ट कर रहे हो थोड़ा सा उनको कनफ्यूज़न में डालना होगा पहले फिर धीरे-धीरे वो आपकी तरफ आएंगे

अपने राजनीतिक दृष्टिकोण की तारीफ करते हुए पुष्प ने रजत से कहा वो पहले ही इनके सहयोगियों को अपने एजेंडे के बारे में बता चुके हैं और उम्मीद करते हैं कि उनकी बातें आप से हो गई होंगी। रजत ने जवाब देते हुए कहा कि मैं समझ गया बात हो गई थी पुष्प ने बताया आप जानते हैं कि मुझे जो काम सौंपा गया है वह कम से कम एक यज्ञ नहीं है और मुझे इसकी ज़रूरत है कि आप इसे सफल बनाने में मदद करें। इस पर शर्मा ने आश्वासन देते हुए कहा कि बिल्कुल मैं इसमें बहुत युद्ध गति से काम करता हूं। To see reactions of concerned person click here


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.



Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »