एक्सक्लूसिव DAINIK SAMWAD : नहीं, political advertisement नहीं

DAINIK SAMWAD : नहीं, political advertisement नहीं

अंजान अधिकारी,“हम लोग only धर्म वाला advertisement नहीं छाप सकते कोई भी हो”


कोबरापोस्ट - May 25, 2018

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

अंजान अधिकारी, दैनिक संवाद, अगरतला, त्रिपुरा

वरिष्ठ पत्रकार पुष्प शर्मा का अगला पड़ाव था दैनिक संवाद अखबार का अगरतला दफ्तर। जो त्रिपुरा की राजधानी शहर से प्रकाशित एक प्रमुख बंगाली दैनिक है। त्रिपुरा की मुख्य बंगाली आबादी के बीच दैनिक संवाद काफी लोकप्रिय है। यहां शर्मा ने एक ऐसे अधिकारी से मुलाकात की जिसने न केवल उनके एजेंडे को चलाने से इनकार कर दिया बल्कि अपने कॉलिंग कार्ड को भी पुष्प के साथ साझा करने से इनकार कर दिया। हालांकि पुष्प के साथ इनकी बातचीत ज्यादा लंबी नहीं चल पाई। लेकिन दिलचस्प ये है कि पत्रकार पुष्प और दैनिक संवाद के इस अधिकारी के बीच क्या कुछ बातें हुईं।

खुद को श्रीमद् भगवद् गीता प्रचार समिति का प्रचारक बताकर पत्रकार पुष्प ने उन्हें अपने एजेंडे के बारे में बताया और 2019 के चुनावों को लक्षित करने वाले इनके अखबार में विज्ञापन अभियान चलाने की मांग की। दैनिक संवाद के आधिकारी ने प्रस्ताव को पूरी तरह से खारिज कर दिया। दैनिक संवाद के आधिकारी ने पुष्प को सुझाया कि उनके पास गणाशक्ति नाम से एक राजनीतिक पत्र भी है, लेकिन उनकी नीति किसी धार्मिक विज्ञापन को सपोर्ट नहीं करती। वो कहते हैं कि नहीं, political advertisement नहींहम लोग only धर्म वाला advertisement नहीं छाप सकते कोई भी हो

निश्चित तौर पर एक क्षेत्रीय अखबार होने के बावजूद जिस तरह वर्तमान और दैनिक संवाद के अधिकारियों ने पुष्प के कथित एजेंडे को चलाने से पूरी तरह मना कर दिया, आज के पेड मीडिया के दौर में ये किसी मिसाल के कम नहीं है।

 

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

Tags : DAINIK SAMWAD Operation 136 IICobrapost expose exclusive exclusive coverage Investigative journalism journalist paid news cash for news fourth pillar of democracy reporters Pushp Sharma Media on Sale


Loading...

Operation 136: Part 1

Expose

Thousands of our readers believe that free and independent news can be a public-funded endeavour. Join them and Support Cobrapost »