एक्सक्लूसिव STAR INDIA: And it can be started immediately

STAR INDIA: And it can be started immediately

कार्तिनारायणन कृष्णराज,“Fine sir I got it now. What is the next step now I should give you the proposal … covering the entire”


कोबरापोस्ट - May 25, 2018

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

कार्तिनारायणन कृष्णराज, एड सेल्स डिपार्टमेंट, दिल्ली;  सौरभ श्रीवास्तव, एड सेल्स डिपार्टमेंट, कोलकाता; आर्या चक्रवर्ती, सीएफओ, मुंबई, स्टार इंडिया

21st Century Fox की पूरी तरह से स्वामित्व वाली सहायक कंपनी स्टार इंडिया के कई जाने-माने मनोरंजन चैनल हैं जैसे- स्टार प्लस, स्टार भारत, स्टार गोल्ड, चैनल V, स्टार वर्ल्ड, स्टार मूवीज़, स्टार उत्सव, मूवीज़ OK और हॉट स्टार। इस ग्रुप का स्टार स्पोर्ट्स नाम से खेलों के लिए एक अलग portfolio है। जो विभिन्न भारतीय भाषाओं में एक दर्जन चैनल चलाता है। हाल ही में, इस नेटवर्क ने 2018-2022 के लिए 16,347.5 करोड़ रुपये में आईपीएल मीडिया अधिकार जीते हैं। स्टार इंडिया लॉन्च करने के लिए भी जाना जाता है। साल 1998 में स्टार न्यूज़ भारत का पहला समर्पित समाचार चैनल। पिछले कुछ वर्षों में ये नेटवर्क भारत के दक्षिण में भी पांव पसार चुका है। विजय टीवी और एशियानेट कम्युनिकेशंस लिमिटेड के अधिग्रहण के साथ मिलकर स्टार नेटवर्क हर साल 30,000 घंटे सामग्री तैयार करता है जो 60 से अधिक चैनलों पर प्रसारित होती है। यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि स्टार नेटवर्क पूरे भारत में एक महीने में लगभग 100 मिलियन दर्शकों तक पहुंचता है और 100 से अधिक देशों में चल रहा है। लेकिन पत्रकार पुष्प शर्मा के सामने बड़ा सवाल ये था कि क्या इतना बड़ा मीडिया नेटवर्क भी अन्य मीडिया चैनलों की तरह पैसों के लिए पत्रकारिता के मूल्यों को दांव पर लगा सकता है। 

हालांकि, पुष्प शर्मा दिल्ली में स्टार इंडिया के कार्तिनारायणन कृष्णराज से मुलाकात करते समय काफी निराश थे, कार्तिनारायणन न केवल पुष्प के दुर्भावनापूर्ण एजेंडे के लिए काम करने के लिए सहमत हुए बल्कि कुछ और बड़े ideas पर काम करने का भी सुझाव देने लगे। स्टार इंडिया नेटवर्क के लिए 100 करोड़ रुपये के बजट का प्रस्ताव देकर पुष्प कृष्णराज को बताते हैं कि 2019 के चुनाव नें हिंदुत्व का प्रचार एक अलग माहौल बनाने के लिए तैयार किया गया है। कृष्णराज जानना चाहते थे कि आखिर पुष्प के दिमाग में क्या चल रहा है। पुष्प कहते हैं कि हम स्टार इंडिया के सभी प्लेटफॉर्म्स (इलैक्ट्रोनिक और डिजिटल) पर अपना अभियान चलाना चाहते हैं। कृष्णराज अपने ग्राहक (पुष्प शर्मा) को बताते हैं कि उनके पास मनोरंजन चैनल जैसे कई प्लेटफॉर्म हैं, उनके पास दक्षिण भारतीय भाषा चैनल भी हैं और फिर उनके पास हॉट स्टार है। इसी बीच पुष्प शर्मा कृष्णराज के सामने अपने फोन पर पप्पू वाला जिंगल बजा देते हैं।

कृष्णराज इस जिंगल की तारीफ करते हुए कहते हैं “very cleverly done(बहुत चालाकी से किया) पुष्प दोबारा अपने हिंदुत्व वाले एजेंडा पर वापिस आते हैं और कृष्णराज को बताते हैं कि इस बार हम राम और अयोध्या के मुद्दे पर चुनाव नहीं लड़ेंगे क्योंकि इस मुद्दे को पर्याप्त रूप से निचोड़ चुके हैं। इस बार हम हिंदुत्व को बढ़ावा देने के लिए श्रीमद् भगवद् गीता और भगवान कृष्ण के प्रचार का उपयोग कर रहे हैं ताकि हमारा एजेंडा मतदाताओं से होकर गुजरे। चैनल को मोटी कमाई देने वाले अपने ग्राहक के मुंह से ये बेतुकी बातें सुनकर भी कृष्णराज उसकी प्रशंसा भरते दिखे। कृष्णराज कहते हैं “That is why I am saying it is a very interesting, I am very happy to see even though limited number of people of your kind but it is very interesting to see.” (यही कारण है कि मैं कह रहा हूं कि यह एक बहुत ही रोचक है, मैं आपकी तरह की सीमित संख्या में लोगों को देखने में बहुत खुश हूं लेकिन यह देखना बहुत दिलचस्प है)

पुष्प कृषणराज को बताते है कि गीता के प्रचार के माध्यम से हिंदुत्व को बढ़ावा देने के पहले चरण के बाद, हमारा अभियान semi political चरण में प्रवेश करेगा जिसमें आप कांग्रेस, बीएसपी और एसपी जैसे हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को झुकाने का काम करेंगे लेकिन नेशनल level पर हमारी लड़ाई सीधे कांग्रेस से होगी। लिहाजा आपको ये सुनिश्चित करना होगा कि इस अभियान का 80 प्रतिशत पप्पू पर केन्द्रित रहेगा। दूसरे शब्दों में जिसका मतलब राहुल गांधी हैं। स्टार इंडिया मैनेजर कृष्णराज अच्छी तरह से समझते हैं और पूछते हैं “पप्पू के ऊपर और इसका मतलब है आप direct creative हैं” कृष्णराज को प्रोत्साहित करते हुए, पत्रकार कहते हैं कि उनके पास पप्पू पर patent नहीं है और अगर वो कोई शिकायत दर्ज करतें है तो हम इस अभियान में पप्पू शब्द का इस्तेमाल नहीं करेंगे। इसपर कृष्णराज कहते हैं कि “He is between devil and the deep see now”.

कृष्णराज को अपने गंदे प्रस्ताव में दिलचस्पी लेते देख पुष्प इन्हें अपने एजेंडा का सबसे खतरनाक हिस्सा बताते हैं, वो है सांप्रदायिकता के आधार पर मतदाताओं का ध्रुवीकरण। पुष्प कृष्णराज को कहते हैं कि जैसे-जैसे चुनाव का समय नज़दीक आएगा सारे राजनीतिक दल अपने अपने गंदे कार्ड खेलने शुरू करेंगे इसलिए स्पष्ट है कि हम भी मतदाताओं का ध्रुवीकरण करने के लिए सांप्रदायिक कार्ड खेलेंगे। ये सुनकर कृष्णराज ने “हूं में जवाब दिया। पुष्प कृष्णराज से पूछते हैं कि मैं उम्मीद करता हूं कि आपको मेरा एजेंडा समझ आ गया होगा। कृष्णराज ने एकबार फिर “हूं” में जवाब दिया। पत्रकार ने कहा कि मैं चाहता हूं कि आप स्टार इंडिया के सभी चैनल्स पर मेरे एजेंडा को चलाएं। और एक बार फिर कृष्णराज ने “हूं” कहकर जवाब दिया।

हालांकि "हू" कहकर इस तरह के संवेदनशील प्रस्ताव का कोई समर्थन या स्वीकृति नहीं मानी जाती, आपको आश्चर्यचकित होना चाहिए, सांस रुक जानी चाहिएं लेकिन शक की गुंजाइश तब खत्म हो जाती है जब कृष्णराज आगे बढ़कर उस पार्टी का नाम पूछते हैं जिसके इशारों पर ये सौदेबाजी हो रही है। कृष्णराज पूछते है कि “Deal will happen to which … it’s a…?”(डील जिसके लिए होगी..वो एक है ) पुष्प शर्मा इन्हें बताते हैं कि इस डील के पीछे औपचारिक रूप से श्रीमद् भागवत गीता प्रचार समिति का नाम रहेगा। कृष्णराज कहते हैं “Okay, okay ... understand ... Very good, all in place ... and you have Bhagwad Gita creative’s also?”  (ओके,ओके मैं समझ गया.. बहुत बढ़िया, हर जह पर यही रहेगा... और क्या आपके पास भगवत गीता के क्रिएटिव हैं) पुष्प कहते हैं कि हां मेरे पास ऐसे क्रिएटिव तैयार रखे हैं। कृष्णराज बहुत ही उत्सुकता से पूछते हैं कि “And it can be started immediately?” (और यह तुरंत शुरू किया जा सकता है?) पुष्प कहते हैं क्यों नहीं बिल्कुल। इसके बाद भी कृष्णराज “Very good,” (बहुत बढ़िया) बोलकर अपनी संतुष्टी जाहिर करते हैं। कृष्णराज आगे कहते हैं कि “Fine sir I got it now. What is the next step now I should give you the proposal … covering the entire.” (ठीक है सर मैं समझ गया। अब मुझे आपको प्रस्ताव देना चाहिए ... इस पूरे को लेकर) पुष्प कहते हैं हां बिल्कुल आप मुझे mail करिएगा।

एक अच्छा व्यापार सौदा करने की संभावना से कृष्णराज उत्साहित होकर अपने ग्राहक यानी पत्रकार पुष्प शर्मा को सलाह देते हैं अगर आप अपने मीडिया अभियान के लिए बजट बढ़ा सकते हैं तो आप IPL का सर्वश्रेष्ठ उपयोग क्यों नहीं कर सकते। IPL के दौरान भारत में टीवी देखने वालों की संख्या सबसे ऊपर होती है और इस प्रकार के टूर्नामेंट में किसी भी विज्ञापन अभियान को चलाकर आप दर्शकों तक प्रभावी ढंग से अपना संदेश पहुंचा सकते हैं। अगले चार टूर्नामेंटों (2018 से 2022 तक) के लिए IPL का एकमात्र मीडिया अधिकार स्टार स्पोर्ट्स के पास है। कृष्णराज का idea सुनने के बाद ग्राहक बनकर गए पुष्प शर्मा ने स्टार इंडिया के लिए अपना बजट 100 करोड़ से बढ़ाकर 250 करोड़ कर दिया। ये सुनकर कृष्णराज अपनी उत्सुकता को छिपा नहीं पा रहे थे, इन्होंने आगे बढ़कर पुष्प को कहा कि “I will give you ideas, don’t worry … I understand you very well…,” (आप चिंता न करें मैं आपको ideas देता रहूंगा... मैं आपकी बात अच्छी तरह समझता हूं)

कृष्णराज से मुलाकात करने के बाद पत्रकार पुष्प शर्मा स्टार इंडिया के कोलकाता ऑफिस का रूख करते हैं जहां इनकी मुलाकात सौरभ श्रीवास्तव से होती है। ये भी अपने खूब कमाई कराने वाले, मोटे ग्राहक के आने की आस में कालीन बिछाए बैठे थे। यह एक संयोग ही था कि सौरभ मुंबई से स्टार के कोलकाता कार्यालय में आधिकारिक यात्रा (official visit) पर आए थे। इस बैठक में सौरभ के सहयोगी भी मौजूद थे। जैसा कि पत्रकार पुष्प सौरभ को अपने एजेंडा और उसके विभिन्न चरणों पर संक्षिप्त में बताना शुरू करते हैं, सौरभ पूछते हैं “So it will be done through like normal commercial ...” (क्या ये सामान्य विज्ञापनों की तरह जाएगा) पुष्प बताते हैं हां बिल्कुल। इस बात पर सौरभ कहते हैं कि “So part 1 for example is more like subtle these thing of …,(तो उदाहरण के लिए पहला भाग इन चीजों को करने के लिए ज्यादा सुक्ष्म है) पुष्प इन्हें बताते है कि हां, इस तरह हिंदुत्व को सूक्ष्म तरीके से बढ़ावा दिया जाना है।

पुष्प इन्हें बताते हैं कि अभियान के पहले चरण में तीन महीने soft Hindutva चलाने के बाद, हमारे अभियान का दूसरा चरण शुरू होगा जो कि semi political होगा। इस चरण में आप हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंदियों जैसे पप्पू यानी राहुल गांधी का व्यंगात्मक तरीके से दुष्प्रचार करेंगे। क्योंकि हम उनकी छवि खराब करना चाहते हैं ये सब इसलिए हैं क्योंकि देशभर में कांग्रेस हमारी सबसे बड़ी विरोधी है। लिहाजा हम कुछ वीडियो बनाएंगे जैसे Pappu Returns, जैसा कि अभी आपने जिंगल सुना था उससे मिलते जुलते और आपको इन वीडियो को हमारे अभियान के तहत चलाना होगा। जवाब में सौरभ सहमति देते हुए कहते हैं कि “Okay, let us …,” पुष्प इन्हें कहते हैं कि जैसे-जैसे अभियान के चरण आगे बढ़ेंगे वो उन्हें निर्देश देते रहेंगे। सौरभ तीसरे चरण के बारे में पूछते हुए कहते हैं कि हूँऔर फिर then phase three पुष्प कहते हैं कि खैर, तीसरे चरण में, पालन करने के लिए कोई निर्धारित नियम नहीं होंगे। अगर वे गंदे खेल खेलते हैं तो हम भी खेलेंगे। पुष्प की बातें सुनकर सौरभ कहते हैं हां but मैं एक चीज़ था कि RSS never been so publically on media that party कभी biased show नहीं किया... party wise नहीं but organization level RSS has built BJP जवाब में पुष्प कहते हैं कि इसीलिए हम श्रीमद् भगवत गीता प्रचार समिति के नाम से इस अभियान को चला रहे हैं।  

पुष्प सौरभ से कहते हैं तो हम छह महीने के लिए एक सौदे में घुस जाते हैं। सौरभ ने “ठीक है ..We will take it ahead the right level or your meeting with right level also.”(हम इसे सही स्तर के साथ मीटिंग में आगे लेकर जाएंगे) कहकर अपनी तरफ इस डील को पक्का कर दिया। सौरभ के साथ बातचीत खत्म करने से पहले पुष्प सौरभ से पूछते हैं कि क्या उनके इस एजेंडा या अभियान में कुछ भी अनैतिक लगा। सौरभ जवाब में कहते हैं कि “Unethical का तो वो बात ही नहीं है, but how can we best made your objective and say in the right manner. What is our point of view on that… broad possibility हैं ... (लेकिन हम आपके उद्देश्य को बढ़िया तरीके से कैसे ले जा सकते हैं उसपर हमारा सोचना क्या है..)

हालांकि कृष्णराज और सौरभ से बातचीत के दौरान ये साफ हो चुका था कि स्टार इंडिया के पास एक अस्थिर नीति है और वह अपने चैनल पर दुर्भावनापूर्ण सामग्री तक चलाने को तैयार है। बावजूद इसके पुष्प शर्मा ने यह देखने का फैसला किया कि स्टार इंडिया का क्या कोई उच्च अधिकारी भी अपने एजेंडे को बढ़ावा देने के लिए सहमत होगा या नहीं। लिहाजा पुष्प ने मुंबई का रूख किया और यहां आर्या चक्रवर्ती से मिलने के लिए स्टार इंडिया मुख्यालय का दौरा किया। आर्या चक्रवर्ती  पिछले साल सितंबर में ही chief financial officer (CFO) के पद पर स्टार इंडिया में शामिल हुए थे। हालांकि वो सौरभ ही थे जिन्होंने पुष्प को स्टार इंडिया के मुंबई हेड क्वाटर में CFO से मिलने का आइडिया दिया था। इस बैठक में सौरभ के सहयोगियों में से एक यहां भी उपस्थित था।

हम 2019 के आगामी लोकसभा चुनावों के लिए तैयारी कर रहे हैं, पत्रकार पुष्प इन्हें संक्षिप्त में अपना एजेंडा बताना शुरु करते हैं। हमारे अभियान के दो मुख्य बिंदु हैं। पहला भगवान श्री कृष्ण और श्रीमद् भगवद् गीता के उपदेशों के माध्यम से हिंदुत्व का प्रचार है इसके जरिए पार्टी के पक्ष में एक माहौल तैयार किया जाएगा ताकि आने वाले चुनाव में इससे पार्टी के राजनीतिक लाभ मिल सके। दूसरे चरण में, ये अभियान हमारे राजनीतिक प्रतिद्वंदियों को लक्षित करेगा। जिसके बाद हमारा अभियान एक आक्रामक रूप ले लेगा। चक्रवर्ती पूछते हैं कि “You want it only in the mainline Hindi channel Star Plus …” (क्या आप इस मुख्य हिंदी चैनल स्टार प्लस पर चलाना चाहते हैं) पुष्प इन्हें बताते हैं कि स्टार इंडिया के हर चैनल पर...स्टार इंडिया के CFO पुष्प की बात सुनकर पूछते हैं कि “You mean in also English, Bangla, Marathi and even south Indian language channels?” (आपका मतलब अंग्रेजी, बांग्ला, मराठी और यहां तक ​​कि दक्षिण भारतीय भाषा वाले चैनलों में भी है)  जवाब नें पुष्प इन्हें बताते हैं कि हम अपने अभियान को चलाने के लिए स्टार इंडिया के तमाम चैनलों का गुलदस्ता चाहते हैं और यहां तक कि आपके सभी digital platforms भी चाहते हैं। ये सुनकर चक्रवर्ती बजट के प्रावधान को जानने के लिए उत्सुक हो जाते हैं वो बजट जो उनके संभावित ग्राहक ने स्टार के लिए बनाया होगा। उत्सुकता के साथ चक्रवर्ती पुष्प से पूछते हैं कि “आपका ऐसा कुछ how much Star Plus? How much?ये कौन decide करता है? ये हम decide करेंगे या आप decide करेंगे पुष्प इन्हें कहते हैं कि बजट आप decide कर लीजिए। आप मुझे अपना बजट बता दीजिए, ये मेरे लिए आसान होगा।

लेकिन चक्रवर्ती इस बात पर जोर देते हुए कहते हैं कि देखिए आप एक बजट बताइए चक्रवर्ती आगे कहते हैं कि उसको एक बजट में अलग अलग चैनल्स अलग अलग prices” पुष्प उन्हें बताते हैं कि वो उनकी बात समझ गए हैं लेकिन हम इन कीमतों को अलग-अलग चैनल की TRP के हिसाब से निर्धारित करते हैं। चक्रवर्ती कहते हैं कि Okay तो कितना exposure चाहिए आपको विभिन्न चैनलों के लिए बजट आवंटित करने के बारे में चर्चा करने के बाद चक्रवर्ती फिर से पूछते हैं “What is the likely budget? ("संभावित बजट क्या है?") पुष्प ने जवाब दिया कि मैने ये पहले ही आपकी टीम को बता दिया है। चक्रवर्ती कहते है कि “नहीं वो छोड़िए.. Now we will get (अब हम मिल लेंगे)…” इसी दौरान चक्रवर्ती के सहयोगी हमें ये बताने के लिए बात करते हैं कि वे बजट क्यों जानना चाहते हैं: Immediately हम इसी के साथ …,” अपने सहयोगी की आधी बात को पूरा करते हुए चक्रवर्ती कहते हैं कि हम उसी के साथ planning करेंगे

बजट जानने के लिए इनती उत्सुकता को देखकर पुष्प के लिए इन पर चारा फेंकने का सही समय था। आखिरकार पुष्प इन्हें बता ही देते हैं कि टाइम्स नाऊ और स्टार इंडिया के लिए उनके पास भारी भरकम 500 करोड़ का बजट है। लेकिन शुरुआती चरण के लिए आपको अपने लिए बजट सेट का केवल 10 प्रतिशत ही मिलेगा जो कि महज़ 50 करोड़ रुपये है। यह सिर्फ आपके नेटवर्क के साथ शुरुआत करने के लिए है। हम आपके सुझाव का स्वागत करेंगे। फिर हमारी आंतरिक टीम आपके साथ सौदा का आकलन करेगी। चक्रवर्ती कहते हैं कि नहीं नहीं बिल्कुल वो तो हम interested हैं इसी बीच इनके सहयोगी कहते हैं “That’s right. कि शुरू कैसे हो

चक्रवर्ती ने अपने ग्राहक से अपने प्रस्तावित अभियान की रूपरेखा देने के लिए कहा “मोटा मोटा plan बता दो फिर हम सुना देंगे at least क्योंकि we will start with 100 and then we will see … how it goes.(हम सौ से शुरू करेंगे और फिर देखेंगे कि कहां तक जाता है) Otherwise, वो plan हम  freeze कर देंगे तो बाकी सब वो so we will start with the 50 to 100 के बीच में plan करेंगे then we will see how it will go long”(तो पहले हम 50 से 100 के बीच में प्लान करेंगे फिर हम देखेंगे कि कहां तक जाता है)

जवाब में पुष्प done कहकर रजामंदी देते हैं और चक्रवर्ती से कहते हैं कि आप deal freeze कर सकते हैं और उसपर काम शुरू कर दीजिए। इसी के साथ स्टार इंडिया के CFO चक्रवर्ती और उनके सहयोगी इस एजेंडा को चलाने के लिए तैयार हो जाते हैं और यहीं ये मुलाकात खत्म हो जाती है।

जब स्टार इंडिया इस तरह के पक्षपात के लिए तैयार हो सकता है तो एबीपी न्यूज़, स्टार इंडिया के स्टार न्यूज से ही निकला हुआ है। तो अब देखना दिलचस्प होगी कि क्या एबीपी न्यूज़ पत्रकारिता के मौलिक सिद्धांतों पर खरा उतरता है या नहीं।

स्टार इंडिया को भेजे गए प्रशनों के जवाब में स्टार इंडिया की तरफ से प्रतिक्रिया आई। जिसमें कहा गया कि आपके रिपोर्टर ने हमारी सेल्स टीम के कर्मचारियों से बात की है। Editorial judgement और nature of content का निर्णय Ad Sales टीम नहीं करती।

इनकी पूरी प्रतिक्रिया पढ़ने के लिए आप नीचे दिए लिंक पर click कर सकते हैं

If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.

Tags : STAR INDIA Operation 136 IICobrapost expose exclusive exclusive coverage Investigative journalism journalist paid news cash for news fourth pillar of democracy reporters Pushp Sharma Media on Sale


Loading...

Operation 136: Part 1

Expose

Thousands of our readers believe that free and independent news can be a public-funded endeavour. Join them and Support Cobrapost »