Thursday 24th of September 2020
मेरठ में ईद की नमाज के बाद लोगों ने थाने पर बोला हमला, पथराव के बाद कर दी फायरिंग
राज्य

मेरठ में ईद की नमाज के बाद लोगों ने थाने पर बोला हमला, पथराव के बाद कर दी फायरिंग

|
September 24, 2020

{उत्तर प्रदेश में आए दिन हिंसा की घटनाएं सामने आती रहती है। आजकल उपद्रवी पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ओर हावी हो रहे हैं। आज ईद है ऐसे मौके पर दहशतगर्दी नमाज के बाद किसी बड़ी घटना को अंजाम देना चाहते थे,}



उत्तर प्रदेश में आए दिन हिंसा की घटनाएं सामने आती रहती है। आजकल उपद्रवी पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ओर हावी हो रहे हैं। आज ईद है ऐसे मौके पर दहशतगर्दी नमाज के बाद किसी बड़ी घटना को अंजाम देना चाहते थे, लेकिन पुलिस की सूझ-बूझ ने इस साजिश को नाकाम कर दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार उपद्रवियों ने ईद की नमाज के बाद परीक्षितगढ़ थाने को अपना निशाना बनाना चाहा, लेकिन पुलिस बल ने डटकर उपद्रवियों का मुकाबला किया। इस हमले में दर्जन भर से ज्यादा लोग घायल हो गए, जबकि कुछ पुलिसकर्मियों को भी चोटें आई हैं।

दरअसल, ईद को लेकर पुलिसकर्मियों को शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में तैनात किया गया था। इसी का फायदा उठाकर उपद्रवी परीक्षितगढ़ थाने को फूंकना चाहते थे और पुलिसबलों को भी अपना निशाना बनाना चाहते थे। गनीमत यह रही कि कोई बड़ी घटना नहीं हुई। वक्त रहते ही पुलिस ने उपद्रवियों को खदेड़ दिया।

शुरुआत में उपद्रवियों ने पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। इसके बाद वो थाने पर पत्थरबाजी करने लगे। जब तक पुलिस कुछ समझ पाती वो फायरिंग भी करने लगे। अंत में पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया। पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई में हवाई फायरिंग की।

बताया जा रहा है कि भीड़ परीक्षितगढ़ थाने पर इसलिए हमला करना चाहती थी, क्योंकि कुछ दिन पहले हत्या के आरोप में पुलिस ने दो मुस्लिम युवकों के खिलाफ केस दर्ज की थी। गिरफ्तार हुए युवक ने अपना जुर्म कबूल लिया था। इसके बाद शक के आधार पर पुलिस ने चार और युवकों को हिरासत में ले लिया था। इनमें से एक युवक हिंदू था। जिस वजह से इलाके के लोग नाराज हो गए और बड़ी संख्या में हथियार और पत्थरों के साथ थाने पहुंच गए। इन लोगों का कहना था कि पुलिस हिंदू होने के नाते दवाब बना रही है, जोकि गलत है।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »