बिजनेस भ्रष्टाचार अब गुजरे जमाने की बात हो गई है : अरुण जेटली

भ्रष्टाचार अब गुजरे जमाने की बात हो गई है : अरुण जेटली

कैबिनेट मीटिंग के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सरकार अर्थव्यवस्था की स्थिति सुधारने के लिए जल्द ही जरूरी कदम उठाएगी। 


By Cobrapost.com - September 21, 2017

क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.

कैबिनेट मीटिंग के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सरकार अर्थव्यवस्था की स्थिति सुधारने के लिए जल्द ही जरूरी कदम उठाएगी। वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार की अर्थव्यवस्था पर नजर है, मंदी से निपटने के लिए केंद्र जल्द हीं पैकेज का ऐलान कर सकती है। उन्होंने कहा कि, केंद्र सरकार में भ्रष्टाचार अब गुजरे जमाने की बात हो गई है, राज्यों में भी भ्रष्टाचार अब धीरे-धीरे खत्म हो रहा है। वित्त मंत्री ने कहा कि प्राइवेट सेक्टर में निवेश में थोड़ी दिक्कतें आ रही है, लेकिन सरकार इनका भी हल जल्द ढूंढ निकालेंगी। काले धन और बेनामी संपत्ति पर बोलते हुए वित्त मंत्री ने बोला कि अब भारत में भारी मात्रा में कैश से लेनदेन नहीं हो सकता है।

जीएसटी के मुद्दे पर अरुण जेटली ने कहा, ''जहां तक जीएसटी में नई वस्तुओं को लाने की बात है इसमें रियल स्टेट को लाना काफी आसान है। जीएसटी लागू होने के बाद भी हम महंगाई को काबू रखने में कामयाब रहे है। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में भारत का विश्वास बढ़ा है।

इससे पहले भी जेटली ने बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक के बाद पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर बात की थी। जेटली ने पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर विपक्ष को ही घेरे में खड़ा कर दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस-लेफ्ट की राज्य सरकारें भी केंद्रीय टैक्स से हिस्सा वसूल रही है, अगर उन्हें टैक्स नहीं चाहिए तो उन्हें कहना चाहिए।

अरुण जेटली बोले कि हमने अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर चर्चा की है। हमारी सरकार प्री-एक्टिव है जो भी जरूरी होगा वो कदम उठाए जाएंगे। पीएम के साथ विचार-विमर्श करने के बाद फैसलों की घोषणा करेंगे।


क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.

Tag : finance minister,arun jaitely,corruption,centeral govern.,

Loading...

चर्चित खबरें

एक्सक्लूसिव