Thursday 24th of September 2020
तीन साल की बेटी और 100 करोड़ की संपत्ति त्यागकर जैन दम्पति लेंगे सन्यास दीक्षा
राज्य

तीन साल की बेटी और 100 करोड़ की संपत्ति त्यागकर जैन दम्पति लेंगे सन्यास दीक्षा

abp news |
September 18, 2017

{मध्य प्रदेश नीमच के प्रतिष्ठित कारोबारी नाहरसिंह राठौर के पोते सुमित राठौर (35) और गोल्डमेडल के साथ इंजीनियरिंग करने वाली उनकी पत्नी अनामिका }



मध्य प्रदेश नीमच के प्रतिष्ठित कारोबारी नाहरसिंह राठौर के पोते सुमित राठौर (35) और गोल्डमेडल के साथ इंजीनियरिंग करने वाली उनकी पत्नी अनामिका (34) आत्म कल्याण के मार्ग चलने का फैसला लेते हुए 23 सितम्बर को एक धार्मिक कार्यक्रम में सन्यास लेने जा रहे है। इनकी शादी चार साल पहले ही हुई है। भरे-पूरे संपन्न संयुक्त परिवार के साथ इनकी दो साल 10 महीने की बेटी इभ्या भी है।

इस मामले की जानकारी देते हुए साधुमार्गी जैन श्रावक संघ नीमच के सचिव प्रकाश भंडारी ने बताया कि नीमच के बड़े कारोबारी घराने के इस परिवार की 100 करोड़ से भी अधिक की संपति है और परिवार के काफी समझाने के बावजूद युवा दम्पति सन्यास लेने के अपने फैसले पर अडिग है।

                           

उन्होंने बताया कि सूरत में गत 22 अगस्त को सुमित ने आचार्य रामलाल की सभा में खड़े होकर कह दिया कि मुझे सन्यास लेना है। प्रवचन खत्म होते ही हाथ से घड़ी आदि खोलकर दूसरे व्यक्ति को दे दिए और आचार्य के पीछे चले गए। आचार्य ने दीक्षा लेने के पहले पत्नी की आज्ञा को जरूरी बताया। वहां मौजूद अनामिका ने दीक्षा की अनुमति देते हुए आचार्य से स्वयं भी दीक्षा लेने की इच्छा जाहिर की। इस पर आचार्य ने दोनों को दीक्षा लेने की सहमति दी।

 

उन्होंने कहा कि इसके बाद दोनों के परिवार तुरंत सूरत पहुंच गये और दोनों को समझाया और तीन साल की बेटी का हवाला देते हुए इजाजत नहीं दी। इससे पिछले माह उनकी दीक्षा टल गयी, लेकिन इसके बाद सुमित और अनामिका दोनों अपने सन्यास लेने के निर्णय पर अडि़ग रहे।

इन दम्पत्ति के संन्यास के फैसले का जहां कई लोग स्वागत कर रहे है, वहीं नीमच में लम्बे समय से बाल अधिकार के लिए कार्य करने वाले बाल संरक्षण अधिकारी इस कदम पर सवाल उठा रहे है।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »