धर्म और जाति के नाम पर हो रही हत्याओं के खिलाफ ‘मानव सुरक्षा कानून’ का मसौदा तैयार, कल किया जाएगा सार्वजनिक
राष्ट्रीय

धर्म और जाति के नाम पर हो रही हत्याओं के खिलाफ ‘मानव सुरक्षा कानून’ का मसौदा तैयार, कल किया जाएगा सार्वजनिक

|
May 16, 2022

{}



देश में आए दिन धर्म और जाति को नाम पर हो रही हत्याओं के खिलाफ कल(शुक्रवार) एक बार फिर से सैकड़ों लोग आवाज उठाने के लिए इकट्ठा होने जा रहैे हैं। इसमें देश की कई जानी-मानी हस्तियां शामिल होने जा रहे हैं। इस दौरान भीड़ द्वारा अलग-अलग जगहों पर की जा रही हत्याओं के खिलाफ सरकार से ‘मानव सुरक्षा कानून’ (मासुका) बनाने के लिए एक मसौदा तैयार किया जा चुका है, जिसे कल (शुक्रवार) सार्वजनिक किया जाएगा। 

आपको बता दें 28 जून को भी दिल्ली के जंतर-मंतर पर लोगों द्वारा विरोध प्रदर्शन किया गया था जिसमें हजारों की संख्या में लाग शामिल हुए थे। इस प्रदर्शन का नीम ‘नॉट इन माय नेम’ नाम से किया गया था।

 ‘मानव सुरक्षा कानूून’ का कई बड़ी हस्तियां समर्थन कर रही हैं, जिसमें बॉलीवुड की कई बड़ी हस्तियों समेत सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हैं। इस कानून के लिए बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर एक ऑनलाइन अभियान चला रही हैं, जिसे भारी संख्या में लोगों का समर्थन मिल रहा है।

 गौरतलब है कि दिल्ली से मथुरा जा रही ईएमयू ट्रेन में मामूली विवाद के बाद 22 जून को हरियाणा के बल्लभगढ़ निवासी जुनैद खान की गई हत्या सहित देश भर में धर्म के नाम पर की हत्याओं की वजह से मुस्लिम समुदाय सहित हर धर्म के लोग गुस्से में हैं।

पीएम मोदी ने भीड़ के द्वारा धर्म के नाम पर हो रही हिंसा को लेकर 22 जून को चुप्पी तोड़ते हुए बड़ा बयान दिया। पीएम मोदी ने कहा कि मैं देश के वर्तमान माहौल की ओर अपनी पीड़ा व्यक्त करना चाहता हूं और अपनी नाराजगी भी व्यक्त करता हूं। गाय पर बोलते हुए पीएम मोदी भावुक हो गए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गोरक्षा के नाम पर लोगों की हत्या स्वीकार नहीं है। उनकी टिप्पणी कथित गोरक्षकों द्वारा किए गए हालिया हमलों और विरोध प्रदर्शनों की पृष्ठभूमि में आई है। महात्मा गांधी के गुरू श्रीमद राजचंद्रजी की 150वीं जयंती के मौके पर मोदी ने गुजरात के साबरमती आश्रम में संबोधन के दौरान यह बात कही।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »