Thursday 24th of September 2020
बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी खराब हिंदी को लेकर हुईं ट्रोल, ‘स्वच्छ भारत’ तक नहीं लिख पाईं
राज्य

बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी खराब हिंदी को लेकर हुईं ट्रोल, ‘स्वच्छ भारत’ तक नहीं लिख पाईं

|
September 24, 2020

{देश में हमेशा भारतीय संस्कृति, संस्कार और राष्ट्रप्रेम और भाषा की बातें करने वाली सत्ता में काबिज बीजेपी सरकार खुद अपनी नीजि जिंदगी में इस सबसे कितना वाकिफ है। इसका एक पता बीबेपी सांसद मिनाक्षी लेखी के हिन्दी ज्ञान से हुआ। }



देश में हमेशा भारतीय संस्कृति, संस्कार और राष्ट्रप्रेम और भाषा की बातें करने वाली सत्ता में काबिज बीजेपी सरकार खुद अपनी नीजि जिंदगी में इस सबसे कितना वाकिफ है। इसका एक पता बीबेपी सांसद मिनाक्षी लेखी के हिन्दी ज्ञान से हुआ। दरअसल सांसद साहिबा दिल्ली में इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड की ओर से आयोजित ‘स्वस्थ सारथी अभियान ईंधन संरक्षण’ कार्यशाला के उद्घाटन में पहुंची जहां उन्हें एक बोर्ड पर ‘स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत’ लिखने के लिए कहा गया। उन्होंने यह लिख तो दिया लेकिन उसमें वर्तनी की कई गलतियां कर दीं।

 
जब वहां बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने संदेश लिखा तब उन्होंने स्वच्छ भारत, स्वस्थ भारत ना लिखकर बोर्ड पर ‘सवच्छ भारत, सवस्थ भारत’ लिख दिया। शर्मसार कर देने वाले इस पल की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। लेकिन जब बीजेपी सांसद को अपनी इस गलती का ज्ञान हुआ तो उन्होंने इसे स्वीकार करते हुए फौरन एक और भूल सुधार का ट्वीट कर सफाई दी, जिसमें उन्होंने अपनी अपनी हिंदी सुधारने की बात कही।

उन्होंने लिखा- ‘आपका नज़रिया है, हिंदी 8 क्लास के बाद नहीं पढ़ी फिर भी कोशिश करती रहती हूं सीखने की ओटों करेक्ट का समय है शुक्रिया आगे से ये ग़लती नहीं होगी।’ 

लेकिन हैरान कर देने वाली बात ये रही कि बीजेपी सांसद ने जो ट्वीट किया उसमें भी हिंदी की कई गलतियां दोबारा कर दी।हालांकि बाद में मीनाक्षी ने ट्विटर पेज से यह ट्वीट भी हटा लिया।

इसे भी पढ़िए :  पीएम मोदी के बारे में आजम खान ने कुछ ऐसा बोला की यूपी विधानसभा में हो गया हंगामा 

गौरतलब है कि सांसद मीनाक्षी लेखी दिल्ली के हिंदू कॉलेज से बॉटनी से बीएससी, दिल्ली विश्वविद्यालय से एल.एल.बी, सुप्रीमकोर्ट में वकील, भारतीय संसद की सदस्य साथ ही बीजेपी की प्रवक्ता भी रह चुकी हैं।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »