फिर फिसली सपा नेता आजम खान की जुबान, खुद को बताया बीजेपी की ‘आइटम गर्ल’
राज्य

फिर फिसली सपा नेता आजम खान की जुबान, खुद को बताया बीजेपी की ‘आइटम गर्ल’

|
October 7, 2022

{इंडियन आर्मी को लेकर विवादित बयान देने के बाद एक बार फिर सपा नेता आजम खान सुर्खियों में हैं। सेना पर आपत्तिजनक टिप्पणी पर सफाई देने के दौरान फिर से उनकी जुबान फिसल गई। आजम गुरुवार को कहा कि उनके बयान का गलत मतलब निकाला जा रहा है। }



इंडियन आर्मी को लेकर विवादित बयान देने के बाद एक बार फिर सपा नेता आजम खान सुर्खियों में हैं। सेना पर आपत्तिजनक टिप्पणी पर सफाई देने के दौरान फिर से उनकी जुबान फिसल गई। आजम गुरुवार को कहा कि उनके बयान का गलत मतलब निकाला जा रहा है। इश दौरान उन्होंने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए अजीबोगरीब प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने खुद को ‘बीजेपी की आइटम गर्ल’ करार दिया है।


बता दें कि आजम का एक विडियो सामने आया था, जिसमें वह सुरक्षाबलों पर रेप करने का आरोप लगाते नजर आए थे। आजम ने गुरुवार को कहा, ‘मैं बीजेपी की आइटम गर्ल हूं। उनके पास बात करने के लिए कोई दूसरा शख्स नहीं है। उन्होंने तो मुझपर फोकस करते हुए चुनाव भी लड़े हैं।’

बता दें कि बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने ऐसा बयान देने वाले राजनेताओं का बहिष्कार करने की बात कही, जबकि पार्टी के ही एक अन्य प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा ने कहा कि आजम अलगावादियों और आतंकवादियों की भाषा बोल रहे हैं। नरसिम्हा के मुताबिक, समाजवादी पार्टी खुद अपने नेताओं को इस तरह के बयान देने के लिए उकसा रही है। इसके अलावा, हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज ने भी आजम पर तीखा प्रहार किया था। अनिल विज ने बुधवार शाम ट्वीट कर कहा, ‘आजम खान इतना जरूर याद रखना कि हिन्दुस्तान में तू जिंदा इसलिए है क्योंकि सीमाओं पर वही सेना पहरा दे रही है जिसे तुम अपमानित कर रहे हो।’

विडियो में आजम खान कहते नजर आ रहे हैं, ‘…दहशतगर्द फौज के प्राइवेट पार्ट्स काटकर साथ ले गए। उन्हें हाथ से शिकायत नहीं थी। सिर से नहीं थी। पैर से नहीं थी। जिस्म के जिस हिस्से से उन्हें शिकायत थी, वे उसे काटकर ले गए। इतना बड़ा संदेश है, जिसपर पूरे हिंदुस्तान को शर्मिंदा होना चाहिए और सोचना चाहिए कि हम दुनिया को क्या मुंह दिखाएंगे?’

 


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »