सलाहुद्दीन ने पहली बार माना- भारत में कराए आतंकी हमले
राष्ट्रीय

सलाहुद्दीन ने पहली बार माना- भारत में कराए आतंकी हमले

|
May 16, 2022

{नई दिल्ली : हाल ही में अमेरिका द्वारा अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए गए सैयद सलाहुद्दीन ने खुलेआम स्वीकार किया है कि उसने भारत में आतंकवादी हमले करवाए हैं। एक पाकिस्तानी टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में सलाहुद्दीन ने कहा कि उसके आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन ने भारत में आतंकी वारदातों को अंजाम दिया है।}



नई दिल्ली : हाल ही में अमेरिका द्वारा अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किए गए सैयद सलाहुद्दीन ने खुलेआम स्वीकार किया है कि उसने भारत में आतंकवादी हमले करवाए हैं। एक पाकिस्तानी टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में सलाहुद्दीन ने कहा कि उसके आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन ने भारत में आतंकी वारदातों को अंजाम दिया है। सलाहुद्दीन के इस ‘कबूलनामे’ से भारत का यह दावा फिर पुख्ता हुआ है कि पाकिस्तान की धरती का इस्तेमाल भारत में आतंक फैलाने के लिए किया जा रहा है।

जिओ टीवी को दिए इंटरव्यू में सलाहुद्दीन ने कहा, ‘अभी हमारा फोकस कब्जा करने वाले भारत के सुरक्षाबलों पर है। अभी तक हमने जितने भी ऑपरेशन अंजाम दिए हैं या देने वाले हैं, उनमें हमारा पूरा फोकस सुरक्षाबलों पर रहा है।’ कश्मीर को अपना ‘घर’ बताते हुए उसने कहा कि घाटी में बुरहान वानी की मौत के बाद विद्रोह हो रहा है। यह दावा करते हुए कि भारत में उसके कई समर्थक हैं, हिज्बुल चीफ ने स्वीकार किया कि वह अंतरराष्ट्रीय बाजार से हथियार खरीदता है। उसने कहा कि अगर पैसे दिए जाएं तो वह कहीं भी हथियारों की सप्लाई करवा सकता है। सलाहुद्दीन ने शेखी बघारते हुए यह भी कहा कि वह भारत में किसी भी जगह को अपना टारगेट बना सकता है।

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका यात्रा से ठीक पहले अमेरिका ने सैयद सलाहुद्दीन का नाम अतंरराष्ट्रीय आतंकवादियों की सूची में शामिल किया था। सुरक्षा विशेषज्ञों ने इस कदम को पाकिस्तान के मुंह पर तमाचे की तरह बताया था। उधर अमेरिका के इस कदम से बौखलाए पाकिस्तान ने इसे ‘पूरी तरह नाइंसाफी’ करार दिया था।

बता दें कि पिछले साल सितंबर में सलाहुद्दीन ने कहा था कि वह कश्मीर समस्या के किसी भी शांतिपूर्ण समाधान की कोशिश को रोक देगा। उसने कश्मीर में फिदायीन हमलावरों को ट्रेनिंग देने की धमकी भी दी थी। उसने यह भी कहा था कि वह कश्मीर घाटी को भारतीय सुरक्षा बलों की कब्रगाह बना देगा।

71 साल का हो चुका सलाहुद्दीन फिलहाल पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में रहता है। हिज्बुल के अलावा वह यूनाइटेड जिहाद काउंसिल भी चलाता है। पठानकोट एयरबेस स्टेशन पर हमले की जिम्मेदारी इसी यूनाइडेट जिहाद काउंसिल ने ली थी। इंटेलिजेंस के सूत्रों के मुताबिक,सलाहुद्दीन पाकिस्तान में अपने सुरक्षित ठिकाने से जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को नियंत्रित करता है।


If you like the story and if you wish more such stories, support our effort Make a donation.




Loading...

If you believe investigative journalism is essential to making democracy functional and accountable support us. »