राष्ट्रीय नोटबंदी पर TOI के सर्वे ने खोली बीजेपी के सर्वे की पोल, पढ़िए- कितने फीसदी जनता मोदी के साथ

नोटबंदी पर TOI के सर्वे ने खोली बीजेपी के सर्वे की पोल, पढ़िए- कितने फीसदी जनता मोदी के साथ

नोटबंदी के बाद जहां सड़क से लेकर संसद तक सरकार का विरोध चल रहा है, वहीं बीजेपी ने हाल ही में पीएम मोदी एप के जरिए एक सर्वे कराया।


By Cobrapost.com - November 25, 2016

क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.

नोटबंदी के बाद जहां सड़क से लेकर संसद तक सरकार का विरोध चल रहा है, वहीं बीजेपी ने हाल ही में पीएम मोदी एप के जरिए एक सर्वे कराया। जिसके बाद बीजेपी ने ये दावा किया कि सर्वे में देश की 93 फीसदी जनता नोटबंदी के पक्ष में है। और सरकार के फैसले का समर्थन करती है। लेकिन असल हकीकत शाॊद कुछ और ही है।

सरकार के सर्वे से इतर TOI यानी ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने एक ऑनलाइन सर्वे शुरू किया। इस सर्वे में तीन कैटेगिरी बनाई गई

पहली कैटेगिरी – अच्छा फैसला और सही ढंग से लागू हुआ
दूसरी कैटेगिरी – अच्छा फैसला लेकिन सही ढंग से लागू नहीं हुआ
और तीसरी कैटेगिरी – बेकार फैसला और बेकार ढंग से लागू हुआ

इस सर्वे में देशभर से लोगों की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं, लेकिन नतीजे बेहद चौकाने वाले हैं। TOI के सर्वे ने बीजेपी के दावों की पोल खोल कर रख दी। सर्वे में सामने आए परिणाम से बीजेपी के दावे खोखले साबित होते दिखे।

टाइम्स ऑफ इंडिया के इस सर्वे में सामने आया कि देश की 51 फीसदी जनता ने तीसरी कैटेगिरी को वोट किया। यानी 51 फीसदी जनता के मुताबिक नोटबंदी का फैसला बेहद बेकार है और बेकार ढंग से लागू किया गया है।

सर्वे में 14 फीसदी जनता ने दूसरी कैटेगिरी को वोट किया यानी फैसला सही लेकिन सही ढंग से लागू नहीं हुआ।
सबसे चौंकाने वाली बात ये है कि बीजेपी के दावों से एकदम उलट देश की महज़ 34 फीसदी जनता ने बीजेपी के हक में वोट दिया है और नोटबंदी के फैसले को सही ठहराया है।जबकि 65 फीसदी जनता इस फैसले पर बीजेपी के खिलाफ है।

आपको बता दें कि इस ऑनलाइन सर्वे में आप वोट देकर सीधे रिजल्ट भी देख सकते हैं। वोट देने के लिए आप नीचे लिखे लिंक पर क्लिक कर सकते हैं।

यहां क्लिक करें


क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हम एक गैर-लाभकारी संगठन हैं. हमारी पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करें.

Tag : ,

Loading...

चर्चित खबरें

एक्सक्लूसिव